कम बारिश के चलते नहीं हो पाई धान की रोपाई, आ सकती है भुखमरी की नौबत

वहीं जो ट्यूबवेल चल रहे हैं वाटर लेवल नीचे होने की वजह से पानी बहुत कम पानी दे रहे हैं, जो की किसानों के लिए प्रयाप्त नहीं हैं.

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 19, 2018, 9:16 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 19, 2018, 9:16 PM IST
यूपी के बस्ती में बारिश न होने पर किसानों के चेहरे पर साफ तौर पर चिंता नजर आ रही है, पानी के अभाव में किसान धान की रोपाई नहीं कर पा रहे हैं. जो किसान धान की रोपाई कर भी रहे हैं उसमें लागत बहुत आ रही है. एक बीघा खेत को सींचने के लिए 5 से 6 घण्टे पानी चलाना पड़ रहा है. जिन किसानों ने रोपाई कर दी है वह आसमान की तरफ देख रहे हैं और जिन लोगों ने रोपाई नहीं की है वह पानी बरसने का इंतजार कर रहे हैं.

जिले में ज्यादातर किसानों ने अभी तक धान की रोपाई नहीं हो पाई है. किसानों का कहना है कि किसी तरह से धान की रोपाई कर रहे हैं. बाकी भगवान के ऊपर हैं, अगर बारिश हो गई तो धान की फसल ठीक हो जाएगी और अगर बारिश नहीं हुई तो धान नहीं होगा. वहीं अगर सरकारी ट्यूबवेल की बात की जाए तो जिले के ज्यादातर ट्यूबवेल शो पीस नगर आ रहे हैं.

योगी सरकार में किसानों को कर्ज से डरने की जरूरत नहीं: सूर्य प्रताप शाही

वहीं जो ट्यूबवेल चल रहे हैं वाटर लेवल नीचे होने की वजह से पानी बहुत कम पानी दे रहे हैं, जो की किसानों के लिए प्रयाप्त नहीं हैं. वहीं नहरों की हालत यह है की जयादातर नहरें सूखी पड़ी हैं. किसानों का कहना है कि अगर सूखा पड़ा तो धान की फसल बरबाद हो जाएगी, लोगों के सामने भुखमरी की स्थिति पैदा हो जाएगी.

लाखों लोगों की कब्रगाह बन सकती हैं भ्रष्‍टाचार की नींव पर खड़ीं ये बिल्डिंगें
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर