संत कबीर नगर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वागत की तैयारियां पूरी

पीएम मोदी महात्मा कबीर के 620वें प्राकट्य उत्सव पर 28 जून को संतकबीरनगर जिले के मगहर में कबीर की निर्वाण स्थली आ रहे हैं.

Amit Agrahari | News18 Uttar Pradesh
Updated: June 27, 2018, 3:55 PM IST
संत कबीर नगर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वागत की तैयारियां पूरी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (File Photo)
Amit Agrahari | News18 Uttar Pradesh
Updated: June 27, 2018, 3:55 PM IST
सामाजिक कुरीतियों और आडम्बरों पर गहरी चोट करने वाले संत कबीरदास की निर्वाण स्थली मगहर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आगमन को लेकर चर्चा में है. पीएम मोदी महात्मा कबीर के 620वें प्राकट्य उत्सव पर 28 जून को संत कबीर नगर जिले के मगहर में कबीर की निर्वाण स्थली आ रहे हैं. प्रधानमंत्री के दौरे को लेकर तैयारियां अंतिम दौर में हैं. तैयारियों की समीक्षा के लिए बुधवार को खुद सीएम योगी आदित्यनाथ मगहर पहुंच रहे हैं. उधर पीएम मोदी के आगमन को लेकर एक तरफ कबीरपंथियों में खासा उत्साह नजर आ रहा है. देश के कोने-कोने से कबीरपंथी मगहर आते नजर आ रहे हैं. स्थानीय निवासियों को उम्मीद है कि पीएम मोदी के आगमन से देश9दुनिया के मानचित्र पर मगहर की पहचान को नया आयाम मिलेगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दौरे से पहले पर्यटन मंत्रालय मगहर के विकास के लिए करोड़ों रुपये की लागत से 20 परियोजनाओं पर काम कर रहा है. अपने दौरे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 28 जून को मगहर में कबीर की समाधि और मजार के दर्शन करेंगे. यहां वह 24 करोड़ की लागत से बनने वाली कबीर एकेडमी की आधारशिला रखेंगे. इसकी स्थापना से देश दुनिया से आने वाले कबीर प्रेमियों और शोधार्थियों के लिये कबीर के जीवन दर्शन को जॉनने और समझने में काफी मदद मिलेगी. इसके बाद प्रधानमंत्री एक विशाल जनसभा को भी सम्बोधित करेंगे. पीएम की मगहर जनसभा को मिशन 2019 के आगाज के तौर पर भी देखा जा रहा है.

 

मगहर में कबीर की समाधि और मजार



Magahar
मगहर स्थित कबीर समाधि स्थल. Photo: News 18


आजादी के बाद पहली बार देश का कोई प्रधानमंत्री मगहर आ रहा है. इससे पहले पूर्व राष्ट्रपति डॉ एपीजे अब्दुल कलाम मगहर में आकर कबीर की समाधि और मजार के दर्शन कर चुके हैं. पीएम नरेंद्र मोदी के आगमन को लेकर कबीर पन्थियों से लेकर मगहर वासियो में खासा उत्साह है. उनका मानना है कि पीएम के आगमन से विकास की उम्मीद जगी है. वर्षों से बंद पड़ी मगहर की कताई मिल और गांधी आश्रम के दोबारा चालू होने की संभावना बढ़ गई है.

 

पीएम के कबीर निर्वाण स्थली आने से देश में जाएगा सामाजिक समरसता का संदेश: बीजेपी सांसद


Sharad Tripathi MP Sant Kabir Nagar
संतकबीर नगर से सांसद शरद त्रिपाठी. Photo: News 18


संतकबीरनगर से सांसद शरद त्रिपाठी कहते हैं कि पीएम मोदी का मगहर आगमन जिले के विकास के लिए मील का पत्थर साबित होगा. प्रधानमंत्री के मगहर में कबीर निर्वाण स्थली पर आने से देश में सामाजिक समरसता का संदेश जाएगा. कबीर सामाजिक समरसता, मानवता, साम्प्रदयिक एकता और समाज को कुरीतियों से उबारने वाले महानायक थे. पीएम के आगमन से पूरी दुनिया मे कबीर के संदेशों और विचारों को बल मिलेगा.

दरअसल महात्मा कबीर का जन्म बनारस के लहरतारा में 1456 ई में हुआ था लेकिन सूफी कबीर ने जीवन के अंतिम तीन वर्ष मगहर में बिताए. 1575 ई में मगहर में कबीर का देहावसान हो गया. काशी में मरने से मोक्ष और मगहर में मरने से नरक मिलने का मिथक तोड़ने और अकाल से जूझ रहे लोगों को राहत देने के लिये मगहर आए सूफी कबीर ने अपने संदेशो के जरिये सामाजिक समरसता का ऐसा ताना बाना बुना, जिसने हिन्दू मुस्लिम के बीच की खाई को पाटने का काम किया. कबीर ने अपने समय के सामाजिक आडम्बरों और कुरीतियों पर जमकर चोट किया.

आमी नदी के तट पर स्थित हिन्दू मुस्लिम एकता के प्रतीक विश्व प्रसिद्ध सूफी संत कबीर के परिनिर्वाण स्थली मगहर में एक साथ स्थित उनकी समाधि और मजार कौमी एकता के प्रतीक के रूप में जानी जाती है. समाधि पर जहां हिन्दू माथा टेकते हैं तो वहीं मजार पर मुस्लिम समुदाय नमाज अता करता है.
सामाजिक कुरीतियों और आडम्बरों पर अपने विचारों के जरिये प्रहार करने वाले महात्मा कबीर को मानने वाले देश दुनिया में है. कबीर के अनुयायियों के लिए मगहर का कबीर चौरा किसी तीर्थ से कम नहीं है. पीएम के आगमन को लेकर कबीरपंथी भी जुटने लगे है. उनका मानना है कि पीएम के आने से मगहर का विकास होगा और दुनिया मे कबीर के संदेश पहुंचेगे.

ये भी पढ़ें: 

कबीर के 'सहारे' 2019 के रण में निशाना साधेंगे पीएम नरेंद्र मोदी

राम मंदिर पर गरमाई सियासत, संतों, नेताओं के आवाज बुलंद करने से बीजेपी की बढ़ी मुश्किलें

 
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर