होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /मशरूम की खेती कर लखपति बन रही बस्ती की महिलाएं, जानें कैसे बढ़ा रही UP की इकोनामी

मशरूम की खेती कर लखपति बन रही बस्ती की महिलाएं, जानें कैसे बढ़ा रही UP की इकोनामी

योगी सरकार की मंशा है कि यूपी को एक ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनाने के लिए महिलाओं को भी व्यवसाय से जोड़ा जाए. इसी क्रम ...अधिक पढ़ें

    रिपोर्ट – कृष्णा द्विवेदी

    बस्ती: उत्तर प्रदेश सरकार एक ट्रिलियन डॉलर की इकोनामी का लक्ष्य लेकर आगे बढ़ रही है, और इसमें महिलाओं की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए लगातार प्रयास कर रही है. इसी क्रम में खेती और अन्य उपक्रमों से महिलाओं को जोड़ा जा रहा है. बस्ती जिले में भूमिहीन महिला कृष्णावती देवी जो जिले के ही हरैया तहसील के नागपुर गांव की रहने वाली हैं. हरियाणा में काम करने वाले उनके पति ने काम करने के लिए प्रेरित किया. आज कृष्णावती देवी के कारण ही आसपास के गांव में लगभग 90 महिलाएं मशरूम की खेती कर रही है और अपना भरण पोषण कर रही है.

    कृष्णावती ने पुरुषों को भी किया प्रेरित और लगभग 160 परिवार मशरूम की खेती कर रहे हैं. जिले में 4000 से अधिक लोगों को मशरूम की खेती से रोजगार मिला हुआ है. सरकार मशरूम की खेती के लिए 20000 रुपए का अनुदान भी देती है.

    सभी महिलाएं होंगी आत्मनिर्भर
    राधा देवी ने बताया कि एक शेड को बनाने और मशरूम तैयार करने में 1 से 1.5 लाख का खर्चा आता है. मशरूम तैयार होने के बाद 2 से 2.5 लाख रुपये में बिकता है. सरकार और प्रशासन के पहल पर व्यापारी आते हैं, और उचित रेट भी दे रहे हैं. लेकिन अगर सरकार मशरूम की मंडी जनपद में स्थापित कर दे तो यह इलाका मशरूम की खेती से बड़े पैमाने पर जुड़ जाएगा. इससे हजारों लोगों को रोजगार भी मिल जाएगा.

    मशरूम की खेती कर रही पुष्पा देवी ने बताया कि ये सरकार की बहुत अच्छी पहल है. हम लोग ट्रेनिंग लेकर मशरूम की खेती कर रहे हैं. हमारे साथ गांव की 60 से अधिक महिलाएं मशरुम की खेती से जुड़ी हैं , इसमें सरकार की तरफ़ से भी 20 हजार का प्रोत्साहन राशि मिली है, हम महिलाएं घर बैठने के बजाय मशरुम की खेती कर आत्म निर्भर बन रहे हैं.

    कृष्णावती देवी के पति सरोज कहते हैं कि उनकी पत्नी ने ही उन्हें इसकी खेती करने के लिए प्रेरित किया और अब हम अच्छा मुनाफा कमाकर अपने बच्चों का भरण पोषण कर रहे हैं. साथ ही रोजगार भी दे रहे हैं . मेरी पत्नी मशरूम की खेती के लिए महिलाओं को ट्रेनिंग भी देती हैं.

    खेती से जुड़ रही महिलाएं
    जिलाधिकारी बस्ती प्रियंका निरंजन ने कहा, ‘सरकार की मंशा है कि यूपी को एक ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनाने के लिए महिलाओं को भी व्यवसाय से जोड़ा जाए. इसी क्रम में महिलाओं को भी प्रशिक्षण देकर उनसे मशरूम की खेती कराई जा रही है , जिससे वो आत्मनिर्भर बन सकें और प्रधानमंत्री जी के आत्मनिर्भर भारत के सपनों को साकार कर सके.

    Tags: Basti news, Uttar pradesh news

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें