NH-28 पर निर्माणाधीन फ्लाईओवर गिरा, चार मजदूर गंभीर, दो अन्‍य के फंसे होने की आशंका

फ्लाईओवर के किनारे लोहे का क्लैंप लगाकर शटरिंग पर कंक्रीट की ढलाई का काम चल रहा था. इसी दौरान फ्लाईओवर का एक हिस्सा गिर गया. इस पुल का निर्माण एनएचएआई करा रही है.

HIFZUR RAHMAN | News18 Uttar Pradesh
Updated: August 11, 2018, 11:26 AM IST
HIFZUR RAHMAN | News18 Uttar Pradesh
Updated: August 11, 2018, 11:26 AM IST
बस्ती में शनिवार सुबह निर्माणाधीन फ्लाईओवर के गिरने से हड़कंप मच गया. फ्लाईओवर के मलबे में दबने से 4 मजदूर बुरी तरह से घायल हो गए हैं, जबकि दो अन्‍य लोगों के मलबे में दबे होने की आशंका है. फ्लाईओवर का 60 फीसदी कार्य पूरा हो चुका था. मौके पर राहत और बचाव कार्य जारी हैं. घायल मजदूरों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है. मौके पर पहुंचे जिला प्रशासन के अधिकारी राहत और बचाव कार्य में जुट गए हैं. घटना राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 28 पर स्थित फुटहिया चौराहे की है. 15 करोड़ की लगत से इस फ्लाईओवर का निर्माण कराया जा रहा था.

यह भी पढ़ें: वाराणसी पुल हादसे में बड़ी कार्रवाई, सात इंजीनियर और एक ठेकेदार गिरफ्तार

बताया जा रहा है कि फ्लाईओवर के किनारे लोहे का क्लैंप लगाकर शटरिंग पर कंक्रीट की ढलाई का काम चल रहा था. इसी दौरान फ्लाईओवर का एक हिस्सा गिर गया. इस मामले में सीएम योगी आदित्यनाथ ने जांच के आदेश दिए हैं. सीएम ने स्थानीय प्रशासन को तत्काल राहत कार्य शुरू करने और यातायात बहाल कराने के निर्देश दिए हैं. प्राप्त जानकारी के अनुसार इस पुल का निर्माण एनएचएआई करा रही है.

घायल मजदूर


यह भी पढ़ें: वाराणसी फ्लाईओवर हादसा: चश्मदीद ने कहा- ऐसा लगा जैसे आसमान फट गया

फ्लाईओवर का निर्माण कार्य करोड़ों की लागत से हो रही थी. घटना के बाद यातायात ठप हो गया है. मौके पर आलाधिकारी भी पहुंच चुके हैं. घायल मजदूरों में धर्मेंद्र सिंह और सुरेश राय के रूप दो की पहचान हुई है. इन दोनों को जिला अस्पताल भेजा गया है. ओवर ब्रिज और पिलर के बीच फंसे मजदूर बाबू साह को सुरक्षित निकाल लिया गया है. मौके पर बस्ती के डीएम राजशेखर और एसपी दिलीप कुमार समेत एनएचएआई के अधिकारी मौजूद हैं.

फ्लाईओवर का मलबा


यह भी पढ़ें: वाराणसी हादसे से पीएम मोदी दुखी, सीएम योगी को फोन कर ली राहत कार्य की जानकारी

बता दें कि वाराणसी के कैंट रेलवे स्टेशन के पास बीते 18 मई को एक निर्माणाधीन पुल का एक हिस्सा गिरने से करीब 18 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 25 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे. इस हादसे में सेतु निगम के अधिकारियों की बड़ी लापरवाही सामने आई थी. योगी सरकार ने मामले को गंभीरता से लेते हुए 7 इंजीनियर और एक ठेकेदार के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उन्‍हें गिरफ्तार भी करने का आदेश दिया था.

ये भी पढ़ें:

मेरठ में आज से BJP नेताओं की पाठशाला, 2019 चुनाव से पहले महामंथन

मुख्यमंत्री योगी ने दिए बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में बचाव कार्य तेज करने के निर्देश

 

 

 
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर