होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Lockdown Violation: भदोही का रहने वाला है बांद्रा में मजदूरों को उकसाने का आरोपी विनय दुबे

Lockdown Violation: भदोही का रहने वाला है बांद्रा में मजदूरों को उकसाने का आरोपी विनय दुबे

बांद्रा में मजदूरों को उकसाने के आरोप में गिरफ्तार हुआ भदोही का विनय दुबे

बांद्रा में मजदूरों को उकसाने के आरोप में गिरफ्तार हुआ भदोही का विनय दुबे

Bandra Cotroversy: विनय दुबे ने ही सोशल मीडिया पर 'चलो घर की ओर' कैंपेन चलाया था. इतना ही नहीं फेसबुक पर अपनी एक पोस्ट ...अधिक पढ़ें

    भदोही. 14 अप्रैल को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) द्वारा लॉकडाउन (Lockdown) बढ़ाये जाने की घोषणा के बाद मुंबई के बांद्रा रेलवे स्टेशन पर जुटी हजारों मजदूरों की भीड़ को उकसाने का आरोपी विनय दुबे यूपी के भदोही का रहने वाला है. विनय दुबे ने ही सोशल मीडिया पर 'चलो घर की ओर' कैंपेन चलाया था. इतना ही नहीं, फेसबुक पर अपनी एक पोस्ट में उसने 18 अप्रैल तक ट्रेनों को न चलाए जाने पर देशव्यापी आंदोलन की चेतावनी भी दी थी. पुलिस ने विनय दुबे को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है.

    आरोपी विनय दुबे भदोही जिले के औराई क्षेत्र के हरिनारायणपुर गांव का निवासी है. विनय के पिता मुंबई में ऑटो चलाते हैं. विनय का पैतृक मकान भी गांव में है, जहां उसके बड़े पिता अपनी पत्नी के साथ रहते हैं. विनय का परिवार कभी-कभी ही गांव आता है.

    लड़ चुका है चुनाव

    बता दें कि विनय दुबे के फेसबुक पर करीब 2 लाख से ज्यादा फॉलोअर्स हैं, जिनके बूते उसने 2019 के लोकसभा चुनाव में मुंबई की कल्याण सीट से निर्दलीय चुनाव भी लड़ा था, लेकिन हार गया था. इससे पहले भी यह यूपी विधानसभा चुनाव में अपनी किस्मत आजमा चुका है. साल 2012 में विनय दुबे ने वाराणसी शहर के उत्तरी विधानसभा सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ा था, मगर हार गया. इसके बाद उसने मुंबई में उत्तर भारतीय महापंचायत नाम का संगठन भी बनाया. कहा जा रहा है कि इसी संगठन के तहत वह यूपी व बिहार के मजदूरों को संगठित कर राजनीति में किस्मत आजमाना चाहता है.

    अफवाह की वजह से इकठ्ठा हुई थी भीड़

    गौरतलब है कि 14 अप्रैल को पीएम मोदी द्वारा 3 मई तक लॉकडाउन बढ़ाने के ऐलान के कुछ ही घंटों बाद ही बांद्रा स्टेशन पर हजारों की संख्या में लोग इकठ्ठा हो गए. बताया जा रहा है कि ये लोग अपने-अपने घरों को जाने के लिए निकले थे. जिसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने उन्हें समझाने की कोशिश की. बाद में पुलिस ने लाठीचार्ज कर भीड़ को खदेड़ा. बाद में पोलकी कमिश्नर ने बताया कि लॉकडाउन बढ़ने की वजह से ये लोग अपने घर जाना चाहते थे. जांच में ये भी पता चला कि एक अफवाह की वजह से ये लोग यहां इकठ्ठा हुए. अफवाह यह भी थी कि सरकार ने 150 बसें लोगों को घर पहुंचाने के लिए लगाई है. लॉकडाउन के दौरान इस तरह भीड़ के इकठ्ठा होने पर केंद्रीय गृहमंत्रालय ने नाराजगी जाहिर की थी. गृह मंत्री अमित शाह ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से बात भी की और लोगों को जहां हैं वहीं पर जरूरत की सामान मुहैया कराने को कहा.

    (इनपुट: दिनेश पटेल)

    ये भी पढ़ें:

    स्वास्थ्य विभाग की टीम पर पथराव करने में 7 महिलाओं समेत 17 गिरफ्तार

    COVID-19: नोएडा में हॉटस्पॉट लिस्ट से चार बाहर, नहीं मिला कोई पॉजिटिव

    Tags: Bhadohi, Lockdown, Lockdown violation, Lockdown. Covid 19

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें