Home /News /uttar-pradesh /

नोएडा-ग्रेटर नोएडा में फ्लैट खरीदारों के हक में आया रेरा का यह बड़ा फैसला

नोएडा-ग्रेटर नोएडा में फ्लैट खरीदारों के हक में आया रेरा का यह बड़ा फैसला

यूपी रेरा ने सुनवाई के दौरान कई साल से अपना फ्लैट लेने का इंतजार कर रहे बॉयर्स को राहत दी है. file photo

यूपी रेरा ने सुनवाई के दौरान कई साल से अपना फ्लैट लेने का इंतजार कर रहे बॉयर्स को राहत दी है. file photo

ऐसी संभावना जताई जा रही है कि आगे भी इस तरह की परेशानी का हल इसी तरह से निकाला जा सकता है. इस पैसे के लिए अलग से एक अकाउंट बनेगा. उस अकाउंट का पैसा सिर्फ निर्माण लागत पर ही खर्च किया जाएगा. यूपी रेरा (UP Rera) के एक सदस्य को तीनों प्रोजेक्ट की निगरानी का काम दिया गया है. नोएडा (Noida)-ग्रेटर नोएडा में हजारों फ्लैट बॉयर्स ऐसे हैं जिन्होंने 10-10 साल पहले फ्लैट की पूरी रकम बिल्डर को दे दी है, लेकिन अभी तक फ्लैट बनकर तैयार नहीं हुए हैं और फ्लैट बॉयर्स (Flat Buyers) किराए पर रहने को मजबूर हैं.

अधिक पढ़ें ...

    नोएडा. उत्तर प्रदेश भू-संपदा विनियामक प्रधिकरण (UP RERA) ने नोएडा-ग्रेटर नोएडा (Greater Noida) के सैकड़ों फ्लैट बॉयर्स को बड़ी राहत दी है. यूपी रेरा ने सुनवाई के दौरान कई साल से अपना फ्लैट लेने का इंतजार कर रहे बॉयर्स को राहत दी है. तीन बड़े प्रोजेक्ट में 1.5 हजार से ज्यादा फ्लैट बॉयर्स को रेरा के इस आदेश से राहत मिली है. अब इन तीनों ही प्रोजेक्ट में बॉयर्स और बिल्डर (Builder) मिलकर अधूर टॉवर्स को पूरा कराएंगे. कई चरण की सुनवाई के बाद रेरा में बिल्डर और बॉयर्स ने इस फैसले पर अपनी सहमति दे दी है. रेरा के सदस्य इसकी निगरानी करेंगे. गौरतलब रहे नोएडा (Noida)-ग्रेटर नोएडा में हजारों फ्लैट बॉयर्स ऐसे हैं जिन्होंने 10-10 साल पहले फ्लैट की पूरी रकम बिल्डर को दे दी है, लेकिन अभी तक फ्लैट बनकर तैयार नहीं हुए हैं और फ्लैट बॉयर्स (Flat Buyers) किराए पर रहने को मजबूर हैं.

    ये हैं वो तीन प्रोजेक्ट जिसमे रेरा ने दी है राहत

    यूपी रेरा से जुड़े सदस्य की मानें तो एक प्रोजेक्ट गाजियाबाद क्रॉसिंग के पास एडविक होम्स प्राइवेट लिमिटेड बिल्डर का अंसल एक्वापॉलिश प्रोजेक्ट है. गौरतलब रहे साल 2013 में यह प्रोजेक्ट शुरू हुआ था. उसी दौरान लोगों ने अपना पैसा लगातार फ्लैट बुक कराया था. लेकिन अभी तक टॉवर तो छोड़ो एक फ्लैट भी बनकर तैयार नहीं हुआ. जून, 2021 में प्रोजेक्ट का रेरा में दर्ज पंजीकरण भी खत्म हो चुका है. इसके बाद फ्लैट खरीदार यूपी रेरा पहुंच गए. रेरा में सुनवाई के दौरान तय हुआ कि बिल्डर और खरीदार उस टॉवर को तैयार कराएंगे जिसमे 192 खरीदारों के फ्लैट हैं. इसकी लागत 27 करोड़ रुपये आने की उम्मीद जताई गई है.

    एक अन्य प्रोजेक्ट ग्रेटर नोएडा में यूनिबेरा के नाम से हैं. यह प्रोजेक्ट साल 2016 में शुरू हुआ था. लेकिन औरों की तरह से इसके खरीदारों को भी अभी तक फ्लैट नहीं मिले हैं. रेरा का पंजीकरण भी खत्म हो चुका है. रेरा ने इसका भी हल निकालते हुए कहा है कि यह पांच टॉवर का मामला है. इसमे 700 से ज्यादा फ्लैट खरीदार हैं. इसलिए इसे भी बिल्डर और खरीदार दोनों ही मिलकर तैयार कराएंगे. ऐसी उम्मीद है कि इसे तैयार करने में करीब 75 करोड़ रुपये की लागत आएगी.

    Noida-Greater Noida में यहां हॉर्न बजाया तो कटेगा 10 हजार का चालान, जानिए पूरा प्लान

    इसी तरह से गाजियाबाद क्रॉसिंग रिपब्लिक के पास नोवीना ग्रीन प्रोजेक्ट भी है. यह भी एक बड़ा प्रोजेक्ट है. यह भी साल 2013 में शुरू हुआ था. इसके भी 6 टॉवर में 700 से ज्यादा फ्लैट खरीदार अपने फ्लैट का इंतजार देख रहे थे. लेकिन 8 साल बाद भी बिल्डर से उन्हें अपना फ्लैट नहीं मिला था.

    यूपी रेरा ने इसका समाधान भी उसी तरीके से निकाला कि बिल्डर और खरीदार पैसा जमाकर अधूरे काम को पूरा कराएंगे. अक्टूबर 2019 में रेरा में दर्ज इसका पंजीकरण भी खत्म हो चुका है. इस पर 27 करोड़ रुपये की लागत आएगी.

    Tags: Ghaziabad News, Greater noida news, Noida news, Own flat

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर