ऋषिकेश से शुरू होकर देवबंद के मदरसे तक चलेगा जमीयत का यह आंदोलन

आंदोलन की अगुवाई जमीयत के राष्ट्रीय महासचिव मौलाना महमूद मदनी करेंगे. इस आंदोलन में मदरसे के हजारों छात्र भी शामिल होंगे.

नासिर हुसैन | News18Hindi
Updated: August 10, 2019, 11:30 AM IST
ऋषिकेश से शुरू होकर देवबंद के मदरसे तक चलेगा जमीयत का यह आंदोलन
फाइल फोटो- मौलाना महमूद मदनी की अगुवाई में यह आंदोलन शुरु हो रहा है.
नासिर हुसैन
नासिर हुसैन | News18Hindi
Updated: August 10, 2019, 11:30 AM IST
देश की अहम और बड़ी परेशानियों को देखते हुए जमीयत उलमा-ए-हिन्द ने एक आंदोलन चलाने का ऐलान किया है. जमीयत का यह आंदोलन उत्तराखंड के ऋषिकेश से शुरू होकर देवबंद (Deoband) में खत्म होगा. आंदोलन की अगुवाई जमीयत के राष्ट्रीय महासचिव मौलाना महमूद मदनी (Maulana Mahmood Madani) करेंगे. इस आंदोलन में मदरसे के हजारों छात्र भी शामिल होंगे. वहीं आंदोलन का दूसरा छोर स्वामी चिदानंद सरस्वती (Swami Chidanand Saraswati) संभालेंगे. उनका साथ देने के लिए ऋषिकेश (Rishikesh) स्थित उनके आश्रम के सैकड़ों युवा इस आंदोलन के साझीदार बनेंगे.

मौलाना महमूद मदनी का कहना है, 'इतिहास के इस अहम मोड़ पर जब हमारे नेचुरल रिसोर्सेज (प्राकृतिक संसाधन) खत्म हो रहे हैं. जमीन के तापमान में लगातार बढ़ोतरी हो रही है. और हम हैं कि आपसी मतभेदों और जात-पात में उलझे हुए हैं. हम संकल्प (अहद) करते हैं कि हम ऐसी कोशिश करेंगे कि जिससे हमारा आने वाला कल हरा-भरा हो. इसी कड़ी में हम 25 से 26 अगस्त तक दो दिन एक खास आंदोलन चलाएंगे.'

इस आंदोलन के संयोजक मौलाना हकीमउद्दीन कासमी का कहना है, 'इसके तहत श्रृषिकेश, हरिद्धार से लेकर देवबंद तक हजारों पौधे लगाए जाएंगे. इस काम में हमारा हाथ स्वामी चिदानंद सरस्वती भी दे रहे हैं. उनके साथ आश्रम के सैकड़ों युवा भी आ रहे हैं. 25 अगस्त को यह आंदोलन ऋषिकेश के मंदिर, स्कूल-कॉलेज, मदरसे, अस्पताल और पुलिस स्टेशन से शुरू होगा.'

मदरसे के बच्चे पर्यावरण को बचाने के लिए इस आंदोलन में पहला कदम बढ़ा चुके हैं (फाइल फोटो)


और यह ही सिलसिला हरिद्वार और रास्ते में पड़ने वाली तमाम जगहों पर भी चलेगा. 25 की रात देवबंद में रुकने के बाद 26 अगस्त की सुबह से यह आंदोलन फिर शुरू हो जाएगा. शामली, थाना भवन आदि जगहों पर भी पौधे लगाने के साथ ही बढ़ते प्रदूषण के बारे में लोगों को जागरुक किया जाएगा.'

मौलाना महमूद मदनी और स्वामी दोनों शामिल रहेंगे इस आंदोलन में (फाइल फोटो)


मौलाना हकीमउद्दीन का यह भी कहना है, '25-26 अगस्त को होने वाले दो दिन के इस खास आंदोलन में मौलाना महमूद मदनी और स्वामी चिदानंद सरस्वती रहेंगे. लेकिन पर्यावरण को बचाने के लिए यह आंदोलन अगस्त के पूरे महीने चलेगा. इससे पहले जुलाई में भी हम लोग जगह-जगह पर पौधारोपण कार्यक्रम आयोजित कर चुके हैं.'
Loading...

ये भी पढ़ें- देशभर में अपराधों की बाल की खाल निकालेंगे ये 3221 अफसर, दी गई खास ट्रेनिंग

कौन हैं वो मौलवी, जिनकी पीएम मोदी ने की तारीफ, पाकिस्तान को हराने में ऐसे की थी मदद
First published: August 10, 2019, 10:56 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...