अपना शहर चुनें

States

सहारनपुर के बाद अब बिजनौर के नजीबाबाद से दिख रहीं बर्फ से ढकी पहाड़ियां, तस्वीरें वायरल

यूपी के बिजनौर में नजीबाबाद से पहाड़ियां दिख रही हैं, ये तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं.
यूपी के बिजनौर में नजीबाबाद से पहाड़ियां दिख रही हैं, ये तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं.

कुछ तस्वीरें बिजनौर (Bijnor) के सैंट मैरी स्कूल से ली गई हैं. लोगों का कहना है कि तस्वीरों में दिखाई दे रही पहाड़ियां शिवालिक पर्वत हैं.

  • Share this:
बिजनौर. कोविड-19 (COVID-19) के खिलाफ जंग में पूरा देश लॉकडाउन (Lockdown) है. इसका सीधा असर पर्यावरण पर पड़ रहा है. नदियां बहुत तेजी से स्वच्छ हो रही हैं. वहीं हवा में प्रदूषण के तौर पर उड़ने वाले कण गायब हो चुके हैं. वायु प्रदूषण बताने वाला वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) काफी नीचे आ चुका है. इस स्वच्छ वातावरण में प्रकृति अपने खूबसूरत नजारे भी पेश कर रही है. यूपी के बिजनौर (Bijnore) के नजीबाबाद (Nazibababd) में पर्यावरण इतना साफ हुआ कि स्थानीय लोगों को पिछले दिनों अपनी छतों से पहाड़ियां दिखाई दीं.

अब सोशल मीडिया पर ये तस्वीरें वायरल हो रही हैं. बिजनौर में लोगों का कहना है कि नजीबाबाद से शिवालिक पहाड़ियां दिखाई दे रही हैं. उनका मानना है कि लॉकडाउन के कारण कम हुए प्रदूषण का ये कमाल है. बता दें बिजनौर से नैनीताल करीब 175 किलोमीटर दूर है. ये पहाड़ियां नैनीताल की बताई जा रही हैं, लोगों का कहना है कि लैंसडाउन की भी पहाड़ियां दिख रही हैं.

कुछ तस्वीरें बिजनौर के सैंट मैरी स्कूल से ली गई हैं. लोगों का कहना है कि तस्वीरों में दिखाई दे रही पहाड़ियां शिवालिक पर्वत हैं. लोगों का कहना है कि यहां से पहाड़ कभी नहीं दिखते थे.



सहारनपुर से भी दिखीं थीं बर्फ से ढकी चोटियां
वैसे इससे पहले सहारनपुर से भी ऐसी तस्वीरें सामने आई थीं. यहां से भी बर्फ से ढकी पहाड़ियां, पर्वत श्रृंखलाएं साफ दिखाई देने लगी हैं. सहारनपुर आयकर विभाग के अधिकारी अशोक पुष्कर, जो सहारनपुर के देहरादून रोड स्थित नंद वाटिका कॉलोनी में रहते हैं, ने अपनी छत से यह खूबसूरत फोटोग्राफ्स खींचे हैं. ये पहाड़ियां एयर डिस्टेंस के हिसाब से 200 से 225 किलोमीटर दूर बताई जा रही हैं.

'यह लॉकडाउन का असर है'

इन फोटोग्राफ्स की सत्यता जानने के लिए News18 के रिपोर्टर अशोक पुष्कर के घर पहुंचे. रिपोर्टर उनको लेकर उसी स्थान पर गए जहां से उन्होंने फोटोग्राफ खींचे थे. ‘हमने उनकी छत का वो स्थान देखा, जहां से उन्होंने फोटो खींची थी, तो वह वही स्थान था जहां से उन्होंने अपने मोबाइल से वे फोटो खींचे थे. फोटो के बीच में जैसे पानी का टैंक, मोबाइल टावर दिखाई दे रहा था. सभी कुछ हमने वहां पाया. अशोक का कहना था कि इतना साफ मौसम उन्होंने पहले कभी नहीं देखा, कहीं ना कहीं यह लॉकडाउन का असर है.’

'साल में एक हफ्ते का हो लॉकडाउन'

इसके बाद हम एक और व्यक्ति जिसने यह फोटोग्राफ अपने कैमरे से खींचा था उनके पास पहुंचे. उनका नाम है ज्ञानेंद्र बाजपेई. बाजपेई ने अपनी छत से फोटोग्राफ खींची थी और एक वीडियो बनाया था. उन्होंने बताया कि रविवार की शाम वह छत पर अपने बेटे के साथ आए तो उन्हें ये पहाड़ियां नजर आईं. तब फटाफट वह अपना कैमरा उठाकर लाए और उन्होंने यह अद्भुत तस्वीरें अपने कैमरे से खींची.

bijnor
बिजनौर में घर से खींची गईं ये तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं.


200 किलोमीटर दूर हैं पहाड़ियां

ज्ञानेंद्र बाजपेई का कहना है कि इस प्रकार का लॉकडाउन साल में एक हफ्ते का हो जाना चाहिए जिससे कि पर्यावरण को साफ-सुथरा रखने में मदद मिले. हमने उनकी छत पर जाकर उस स्थान की पुष्टि की, जहां से उन्होंने फोटोग्राफ खींची थी और उनके डीएसएलआर कैमरे में भी वे फोटोग्राफ दिखे. आपको बता दें शाम की बारिश के बाद खुले मौसम में चमक रही गंगोत्री की खूबसूरत पहाड़ियों की श्रृंखला को कैमरे में कैद किया गया है. ये पहाड़ियां एयर डिस्टेंस के हिसाब से 200 से 225 किलोमीटर दूर बताई जा रही हैं.



सहारनपुर से हिमालय दिखना दुर्लभ घटना

सहारनपुर से इस प्रकार से हिमालय की चोटियां दिखना दुर्लभ घटना ही मानी जाती है. हमने भी काफी साल पहले ये श्रृंखलाएं नंगी आंखों से देखी हैं और ये अक्सर तभी दिखाई देती हैं जब शाम के समय तेज बारिश के बाद पहाड़ों पर और जिले में मौसम एकदम साफ हो जाए और सूरज की चमक काफी कम हो. तभी ये हिमालय की श्रृंखलाएं दिखाई देती हैं, लेकिन अब लॉकडाउन के चलते पॉलूशन घटकर बहुत कम हो गया है, जिस कारण से पहले भी कभी इतना बढ़िया पर्यावरण नहीं हुआ होगा.

ये भी पढ़ें:

सहारनपुर की हवा हुई इतनी साफ कि 200 किमी दूर हिमालय आने लगा नजर

रोजगार सेवकों को CM योगी की मदद, 225 करोड़ बकाया मानदेय का किया भुगतान
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज