BJP नेता वसीम रिज़वी ने अल्पसंख्यकों पर हो रहे ज़ुल्मों से जुड़े विषय पर बनाई मार्मिक कहानी वाली यह Film

शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन वसीम रिजवी (फाइल फोटो)
शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन वसीम रिजवी (फाइल फोटो)

फिल्म की कहानी पाकिस्तान (Pakistan) में रह रहे एक हिन्दू (Hindu) परिवार पर है. पाक के कट्टरपंथियों से तंग आकर एक महिला अपने बच्चे को हिन्दुस्तान (Hindustan) की ज़मीन पर जन्म देना चाहती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 12, 2020, 10:17 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. शिया वक़्फ़ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन और भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेता वसीम रिज़वी (Waseem Rizvi) ने एक फिल्म बनाई है. फिल्म का नाम हेल्पलेस रखा है. फिल्म में अल्पसंख्यकों के साथ होने वाली जुल्मों की कहानी को दिखाया गया है. खासतौर से धर्मपरिवर्तन की ज़्यादतियों को फिल्म में फोकस किया गया है. फ़िल्म (Film) का ट्रेलर लांच हो चुका है. अगले सप्ताह डिजिटल प्लेटफॉर्म पर फिल्म रिलीज हो जाएगी. फिल्म की कहानी पाकिस्तान (Pakistan) में रह रहे एक हिन्दू (Hindu) परिवार पर है. पाक के कट्टरपंथियों से तंग आकर एक महिला अपने बच्चे को हिन्दुस्तान (Hindustan) की ज़मीन पर जन्म देना चाहती है.

वसीम रिज़वी ने सुनाई फिल्म की यह कहानी

फिल्म की कहानी के बारे में मीडिया को जानकारी देते हुए पूर्व चेयरमैन वसीम रिज़वी ने बताया पाकिस्तान में एक हिन्दू परिवार रहता था. पाक के कट्टरपंथी उस परिवार पर धर्म परिवर्तन करने के लिए दबाव डालते थे. लेकिन यह परिवार धर्म परिवर्तन के लिए तैयार नहीं हुआ. जिसके चलते पिरवार के मुखिया का मर्डर कर दिया गया. उसके बेटे को भी मार दिया गया.



ये भी पढ़ें- Bihar Election: PM मोदी के बाद प्रचार के लिए सीएम योगी की सबसे ज़्यादा डिमांड
उसके बाद यह लोग परिवार की बहु के पीछे पड़ गए. वो अपनी जान बचाने के लिए इधर से उधर भागने लगी. वो मां बनने वाली थी. पति को ससुर के साथ ही मार दिया गया था. उसकी ख्वाहिश थी कि वो अपने बच्चे को पाक के बजाए भारत की ज़मीन पर जन्म दे. इसके लिए इधर से उधर दौड़ती रहती है. इस कोशिश में रहती है कि किसी भी तरह से भारत पहुंच जाए. इसके बाद की कहानी वसीम रिज़वी ने मीडिया से साझा नहीं की है. उनका कहना है कि फिल्म का अंत देखने के लिए अभी इंतज़ार करना होगा. इस फिल्म को वसीम रिज़वी फिल्मस ने बनाया है.

ऐसे लोगों के लिए सीएए को बताया जरूरी  

पूर्व चेयरमैन वसीम रिज़वी का कहना है, इस फिल्म में जिस परिवार की कहानी दिखाई गई है, मस्लिम मुल्कों में ऐसे दर्जनों परिवार हैं. ऐसे ही लोगों की मदद के लिए केन्द्र सरकार सीएए लेकर आई थी. लेकिन औवेसी और कांग्रेस जैसे लोग इसका विरोध कर रहे हैं. यह एक गंदी राजनीति है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज