लाइव टीवी

भाजपा नेता के बेटे की हत्‍या के बाद आमने-सामने आए पुलिस और परिजन

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 13, 2019, 2:35 PM IST
भाजपा नेता के बेटे की हत्‍या के बाद आमने-सामने आए पुलिस और परिजन
मृतक के परिजनों ने क्राइम ब्रांच और अपराधियों के बीच संबंध होने का गंभीर आरोप भी लगाया है.

मृतक सोनू सिंह के परिजनों ने अपनी मुख्‍यमंत्री के समक्ष अपनी चार सूत्रीय मांगे रखी हैं. जिला प्रशासन को सौंपे गए मांग पत्र में परिजनों ने मृतक सोनू सिंह की पत्‍नी को सरकारी नौकरी देने की मांग भी की है.

  • Share this:
अमेठी (Amethi) : उत्‍तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के अमेठी (Amethi) में दो युवकों के बीच हो रहे झगड़े को सुलझाने की कोशिश कर रहे भाजपा नेता (BJP Leader) के बेटे की गोली मारकर हत्‍या (Murder) कर दी गई है. हत्‍या की यह वारदात अमेठी के पुलिस अधीक्षक (Superintendent of Police ) कार्यालय से महज एक किलोमीटर की दूरी पर अंजाम दिया गया है. इस वारदात (Crime) के बाद से इलाके में तनाव की स्थिति बनी हुई है. जिसके चलते, मौके पर भारी संख्या में पुलिस बल (Police Force) को तैनात कर दिया गया है. फिलहाल पुलिस ने शव का पंचायतनामा कर पोस्टमार्टम (Postmortem) के लिए भेज दिया है. पुलिस ने मामले की जांच (Investigation) के लिए टीमों का गठन कर हत्यारोपी (Accused) युवक की तलाश (Search) शुरू कर दी है.

दिनदहाड़े हत्‍या की वारदात को दिया गया अंजाम
पुलिस के अनुसार, मामला गौरीगंज कोतवाली क्षेत्र के मुसाफिरखाना मार्ग पर स्थित बिशुनदासपुर का है. जहां  कस्बे में ही रहने वाले अर्पित और चंद्रशेखर के बीच एक पुराने विवाद को लेकर कहा सुनी हो गई. दोनों के बीच विवाद बढ़ता देख पास में ही मौजूद भाजपा नेता शिवनायक सिंह के बेटे और भट्टा व्यवसायी सोनू सिंह बीच बचाव करने पहुंच गए. जिसके बाद, चंद्रशेखर ने सोनू पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाई और मौके से फरार हो गया. वारदात के बाद, मौके पर मौजूद लोग गंभीर रूप से घायल सोनू को जिला अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

एसपी-डीएम को झेलना पड़ा परिजनों का आक्रोश

दिनदहाड़े हुई भाजपा नेता के बेटे की हत्या के बाद बड़ी संख्या में ग्रामीणों के अलावा कई राजनीतिक पार्टियों ने नेता भी मौके पर पहुंच गए. वहीं वारदात की सूचना मिलने के बाद अमेठी की पुलिस अधीक्षक डा.ख्याति गर्ग भी मौके पर पहुंच गईं. जहां एसपी को परिजनों और ग्रामीणों के विरोध का सामना करना पड़ा. यहां ग्रामीणों ने एसपी की मौजूदगी में पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. वहीं, आरोपी की गिरफ्तारी से पहले परिजनों ने सोनू का पोस्‍टमार्टम कराने से इंकार कर दिया. इस बीच, पोस्‍टमार्टम हाउस पहुंचे जिलाधिकारी प्रशांत शर्मा और परिजनों के बीच तीखी बहस हो गई.

आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए तीन टीमों का गठन
पुलिस अधीक्षक डॉ. ख्‍याति गर्ग के अनुसार, देर रात परिजनों द्वारा दी गई शिकायत के आधार पर पुलिस ने चंद्रशेखर केसरवानी व शुभम तिवारी के साथ-साथ तीन अज्ञात बदमाशों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया है. उन्‍होंने बताया कि आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए तीन टीमें बनाई गई हैं. तीनों टीमें लगातार छापेमारी कर रही हैं. पुलिस अधीक्षक डॉ. ख्‍याति गर्ग ने भरोसा दिलाया है कि इस मामले में मामले में सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी. वहीं, क्राइम ब्रांच पर लगे आरोपों की जांच एएसपी दयाराम को सौंपी दी गई है.
Loading...

मृतक की पत्‍नी को सरकारी नौकरी देने की मांग
मृतक सोनू सिंह के परिजनों ने अपनी मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ (CM Yogi Adityanath) के समक्ष अपनी चार सूत्रीय मांगे रखी हैं. जिला प्रशासन को सौंपे गए मांग पत्र में परिजनों ने मृतक सोनू सिंह की पत्‍नी को सरकारी नौकरी देने की मांग भी की है. इसके अलावा, परिजनों ने मृतक के परिवार को 20 लाख रुपए का मुआवजा देने, आरोपियों की तत्‍काल गिरफ्तारी और आरोपियों के खिलाफ गैंगेस्‍स्‍टर एक्‍ट व रासुका के तहत कार्रवाई करने की मांग भी की है. इस बीच, परिजनों ने हत्‍याकांड के अपराधियों और क्राइम ब्रांच के बीच संबंधों का आरोप लगाते हुए उच्‍च स्‍तरीय जांच कराने की मांग भी की है.

यह भी पढ़ें:
फिरोजाबाद: उधारी के रुपये मांगने पर युवक को गोली मारी
प्रयागराज: कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने एमपी एमएलए कोर्ट में किया सरेंडर, न्यायिक हिरासत में लिए गए

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अमेठी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 13, 2019, 1:57 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...