अपना शहर चुनें

States

भाजपा सांसद कमलेश पासवान को कोर्ट ने सुनाई एक साल की सजा, जानिए क्या है पूरा मामला

बीजेपी सांसद कमलेश पासवान को कोर्ट ने एक साल की सजा सुनाई है.
बीजेपी सांसद कमलेश पासवान को कोर्ट ने एक साल की सजा सुनाई है.

भाजपा (BJP) सांसद कमलेश पासवान (Kamlesh Paswan) को अपर सत्र न्यायाधीश नम्रता अग्रवाल ने एक साल कैद और दो हजार रुपये अर्थदंड (Fine) की सजा सुनाई है. अदालत ने अभियुक्त को 18 दिसंबर 2004 को नकहा जंगल रेलवे स्टेशन पर ट्रेन (Train) रोककर चक्का जाम करने का दोषी पाया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 28, 2021, 5:28 PM IST
  • Share this:
गोरखपुर. बीजेपी (BJP) सांसद कमलेश पासवान (Kamlesh Paswan) और पूर्व पार्षद राजेश कुमार को अपर सत्र न्यायाधीश नम्रता अग्रवाल ने एक साल कैद (Jail) और दो-दो हजार रुपये का जुर्माना (Fine) लगाया है. दोनों अभियुक्तों ने 18 दिसंबर 2004 को नकहा जंगल रेलवे स्टेशन पर ट्रेन रोककर चक्का जाम किया था. अदालत ने कहा कि अर्थदंड का भुगतान न करने पर उन्हें सात-सात दिन कारावास की सजा अलग से भुगतनी होगी. फैसले के विरुद्ध अपील दाखिल करने के लिए अदालत ने दोनों अभियुक्तों को निजी मुचलके पर रिहा किया है.

ट्रेन संख्या 222 डाउन के चालक और गार्ड ने 18 दिसंबर 2004 को गुलरिहा क्षेत्र के झुंगिया बाजार निवासी तत्कालीन सपा विधायक कमलेश पासवान और गोरखनाथ क्षेत्र के शास्त्रीनगर निवासी सभासद राजेश कुमार और उनके 50-60 समर्थकों के विरुद्ध नकहा जंगल स्टेशन के पास रेल ट्रैक जाम कर ट्रेन रोकने के आरोप में रेलवे एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कराया था. उस समय कमलेश पासवान, मानीराम विधानसभा सीट से सपा विधायक थे.

बलिया: भाजपा MP वीरेंद्र सिंह मस्त और विधायक सुरेंद्र सिंह के बीच जमकर गाली-गलौज, जानें पूरा मामला




14 नवंबर 2011 को आरपीएफ ने इस मामले में अदालत में आरोप पत्र दाखिल किया. सुनवाई के दौरान अभियोजन ने अदालत में कई दस्तावेजी और मौखिक साक्ष्य पेश किये थे. विशेष लोक अभियोजक शैलेश कुमार त्रिपाठी ने अदालत में अभियोजन का पक्ष रखा. बचाव पक्ष की दलीलें सुनने के बाद अदालत ने पत्रावली पर उपलब्ध साक्ष्यों के आधार पर दोनों अभियुक्तों को एक साल के कारावास की सजा सुनाने के साथ ही अर्थदंड से दंडित किया.

क्या था पूरा मामला

18 दिसंबर 2004 को कमलेश पासवान ने नकहा के तत्कालीन सभासद राजेश कुमार यादव और उनके समर्थनक विभिन्न मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे. इसी दौरान समर्थकों के साथ वह नकहा रेलवे स्टेशन पर पहुंचे और रेल ट्रैक जाम कर दिया. इसी बीच नौतनवां से चलकर गोरखपुर आने वाली गाड़ी संख्या 222 नकहा रेलवे स्टेशन पर पहुंची, लेकिन ट्रैक जाम होने की वजह से 11:35 बजे तक वहीं रुकी रही. इसके बाद रेलवे के क्षेत्रीय प्रबंध मौके पर पहुंचे. उन्हें पत्रक देने के बाद ही आंदोलनकारियों ने रेल ट्रैक खाली किया. इस मामले में ट्रेन के चालक और गार्ड ने उसी दिन नकहा आरपीएफ पोस्ट पर मुकदमा दर्ज कराया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज