लाइव टीवी

यूपी विधानसभा उपचुनावों में ऐसे घट गई बीजेपी की सीटों की संख्या

Manish Kumar | News18Hindi
Updated: October 24, 2019, 6:38 PM IST
यूपी विधानसभा उपचुनावों में ऐसे घट गई बीजेपी की सीटों की संख्या
यूपी में 11 विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव के नतीजों के बाद तस्वीर अब थोड़ी बदल गई है.

यूपी (BJP) में हुए उपचुनावों में 11 सीटों में से भाजपा (BJP) 3 सीटों पर हार गयी है. 2017 के विधानसभा (Assembly) के मुकाबले इस उपचुनाव में भाजपा को 1 सीट का घाटा हुआ है. यानी अब उसके विधायकों (MLA) की संख्या 302 से घटकर 301 रह गयी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 24, 2019, 6:38 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. पांच साल का कार्यकाल पूरा होने से पहले ही यूपी विधानसभा (UP Assembly) की सूरत बदल गयी है. ऐसा इसलिए क्योंकि प्रदेश की 11 सीटों पर विधानसभा के चुनाव हुए और नतीजे आ गये हैं. 11 सीटों पर चुनाव ने विधानसभा के भीतर दलों की स्थिति बदल दी है. जहां एक तरफ भाजपा (BJP) के विधायकों की संख्या 2017 के मुकाबले कम हो गयी है वहीं समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) ने विधानसभा के अंदर अपने नंबर बढ़ा लिये हैं. चिन्ताजनक बात तो बसपा (BSP) के लिए है जिसके विधायकों की संख्या अब पहले से कम हो गयी है. कांग्रेस ने यथास्थिति बरकरार रखी है.

विधानसभा में ये है सीटों के आंकड़े

यूपी की विधानसभा में कुल सीटें 404 हैं. इनमें से 403 पर चुनाव होते हैं जबकि 1 सीट नॉमिनेटेड होती है. फिलहाल विधानसभा में 391 विधायक हैं जबकि 12 पर उपचुनाव है. इनमें से 11 सीटों पर उपचुनाव के नतीजे आ गये हैं जबकि फिरोज़ाबाद जिले की टूण्डला सीट पर अभी उपचुनाव होना है.

मौजूदा कुल 391 सीटों में से भाजपा के 302, सपा के 47, बसपा के 18 जबकि कांग्रेस के 7 विधायक हैं. लेकिन, उपचुनाव के नतीजों के बाद ये गणित बदल गयी है. 11 सीटों में से भाजपा 3 सीटों पर हार गयी है. 2017 के विधानसभा के मुकाबले इस उपचुनाव में भाजपा को 1 सीट का घाटा हुआ है. यानी अब उसके विधायकों की संख्या 302 से घटकर 301 रह गयी है. जिन सीटों पर भाजपा हारी है वे हैं- रामपुर, जलालपुर और ज़ैदपुर हैं. 2017 के चुनाव में इन तीनों में से ज़ैदपुर की सीट भाजपा ने जीती थी. इस तरह उसे 1 सीट का नुकसान हुआ है.

उपचुनाव में फिर फायदे में रही सपा

सबसे ज्यादा फायदे में सपा है. उसने बाराबंकी की जैदपुर और अम्बेडकरनगर की जलालपुर सीट जीतकर अपने विधायकों की संख्या में 2 का इजाफा कर लिया है. अब सपा के विधायकों की संख्या 49 हो गयी है. बसपा को भी नुकसान उठाना पड़ा है. भाजपा की ही तरह उसकी भी सदस्य संख्या 1 घट गयी है. जलालपुर की सीट बसपा के पास थी जिसपर अब सपा का कब्जा है. इस तरह अब बसपा के विधायकों की कुल संख्या 18 की जगह 17 ही रह गयी है. कांग्रेस को एक भी सीट नहीं मिली है. इस तरह उसके विधायकों की संख्या 7 बनी हुई है. अपना दल (सोने लाल) ने भी अपना पुराना प्रदर्शन बरकरार रखा है और प्रतापगढ़ की अपनी सीटिंग सीट को बचाने में कामयाबी हासिल की है.

हालांकि इस उपचुनाव में जीत या हार से सरकार पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा. 2017 के विधानसभा चुनाव में भाजपा को प्रचण्ड बहुमत मिला था. सरकार बनाने के लिए न्यूनतम 203 सीटों के मुकाबले उसे 100 सीटें ज्यादा मिली थीं. अभी फिरोज़ाबाद के टूण्डला में उपचुनाव बाकी है. टूण्डला की सीट भी बीजेपी के खाते में थी. यदि वहां फिर से पार्टी जीतती है तो तब तो पुराना  प्रदर्शन बरकरार रहेगा वर्ना एक बार और विधानसभा की सूरत बदल जायेगी.
Loading...

एक नज़र डालते हैं यूपी विधानसभा की मौजूदा स्थिति पर -

उपचुनाव से पहले                      उपचुनाव के बाद

भाजपा - 302                                     301

सपा - 47                                           49

बसपा - 18                                         17

कांग्रेस - 7                                          7.

ये भी पढ़ें- 

देश में 18 फीसदी बढ़ गई गायों की संख्या, अब हो गई 14.51 करोड़

सीएम योगी का ऐलान- खेतों और सड़क पर गाय घूमी तो DM-SP ही नहीं ये भी होंगे जिम्मेदार

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 24, 2019, 6:38 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...