Home /News /uttar-pradesh /

राकेश टिकैत का ऐलान- फसलों की MSP को लेकर लखनऊ में कल होगी किसान महापंचायत

राकेश टिकैत का ऐलान- फसलों की MSP को लेकर लखनऊ में कल होगी किसान महापंचायत

भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि कृषि कानूनों को संसद में रद्द किए जाने तक उनका आंदोलन जारी रहेगा.  (फाइल)

भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि कृषि कानूनों को संसद में रद्द किए जाने तक उनका आंदोलन जारी रहेगा. (फाइल)

Kisan Mahapanchyat on MSP Gurantee Act: भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने ट्वीट कर बताया कि संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर यह किसान महापंचायत कल यानी सोमवार 21 नवंबर को लखनऊ के बंगला बाजार स्थित इकोगार्डन में आयोजित की जाएगी. उन्होंने ट्वीट में पोस्टर शेयर करते हुए लिखा, 'चलो लखनऊ, चलो लखनऊ... MSP अधिकार किसान पंचायत.'

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कृषि कानूनों (Farm Laws) को वापस लिए जाने के ऐलान से गदगद भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) अब फसलों की एमएसपी (MSP Guarantee for Crops) की गारंटी को लेकर जोर लगाने लगे हैं. इसी बात उन्होंने सोमवार को लखनऊ में किसान महापंचायत आयोजित करने का ऐलान किया है. राकेश टिकैत ने इस बाबत ट्वीट करके जानकारी दी है.

    भाकियू नेता टिकैत ने ट्वीट कर बताया कि संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर यह किसान महापंचायत कल यानी सोमवार 21 नवंबर को लखनऊ के बंगला बाजार स्थित इकोगार्डन में आयोजित की जाएगी. उन्होंने ट्वीट में पोस्टर शेयर करते हुए लिखा, ‘चलो लखनऊ, चलो लखनऊ… MSP अधिकार किसान पंचायत.’ एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा, ’22 नवंबर को लखनऊ के बंगला बाजार में स्थित इकोगार्डन ( पुरानी जेल ) में आयोजित किसान महापंचायत में आप सभी किसान- मजदूर व युवा साथी अधिक से अधिक संख्या में महापंचायत में शामिल हों.’

    राकेश टिकैत ने ट्वीट करके सोमवार को एमएसपी के अधिकार के लिए किसान महापंचायत का ऐलान किया.

    इससे पहले किसानों के 40 संगठनों के संघ संयुक्त किसान मोर्चा (SKM) ने साफ किया था कि उनका आंदोलन बस ‘तीन काले कानूनों’ के खिलाफ नहीं था, बल्कि यह सभी कृषि उत्पादों और सभी किसानों के लिए लाभकारी मूल्य की वैधानिक गारंटी दिए जाने के लिए भी था. एसकेएम ने एक बयान में कहा था, ‘किसानों की महत्वपूर्ण मांग अब भी पूरी नहीं हुई है.’ उसने यह भी कहा कि संसदीय प्रक्रियाओं के माध्यम से घोषणा के प्रभाव में आने का इंतजार किया जाएगा.

    ये भी पढ़ें- संयुक्त मोर्चा का फैसला- चलता रहेगा आंदोलन, 29 नवंबर को संसद कूच करेंगे किसान

    वहीं भारतीय किसान यूनियन (BKU) के नेता राकेश टिकैत ने कहा था कि संसद में विवादास्पद कानूनों को निरस्त करने के बाद ही किसान कृषि विरोधी कानूनों के खिलाफ चल रहे आंदोलन को वापस लेंगे. उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि सरकार को फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) और दूसरे मुद्दों पर भी किसानों से बात करनी चाहिए.

    Tags: Crop MSP, Farm laws, Farmers Protest, Rakesh Tikait

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर