Home /News /uttar-pradesh /

एनएसडी वाराणसी के डायरेक्टर ने बताया क्यों हर किसी के दिल पर राज करते थे इरफान

एनएसडी वाराणसी के डायरेक्टर ने बताया क्यों हर किसी के दिल पर राज करते थे इरफान

अपनी अदाकारी से हर किसी के दिल पर राज करते थे इरफान

अपनी अदाकारी से हर किसी के दिल पर राज करते थे इरफान

पान सिंह तोमर में साथ काम करने वाले थिएटर आर्टिस्ट रामजी बाली ने कहा-कॉमेडी नाटक करना चाहते थे इरफान. चे सरल और यार टाइप आदमी थे. अपनी बेमिसाल अदाकारी से वे हमेशा जनता के जेहन में रहेंगे.

नई दिल्ली. नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा (NSD) वाराणसी केंद्र के निदेशक रामजी बाली ने मशहूर अभिनेता इरफान खान (Irrfan Khan) के निधन पर शोक व्यक्त किया है. इरफान की फिल्म पान सिंह तोमर में बाली ने काम किया हुआ है. न्यूज18 हिंंदी से बातचीत में बाली ने कहा कि इरफान मॉडर्न एक्टिंग के स्कूल थे. उनके जैसे कालजयी अभिनेता का इतनी कम उम्र चले में जाना थिएटर और फिल्म जगत को लंबे समय तक परेशान करता रहेगा. अपनी बेमिसाल अदाकारी से वो हर किसी के दिल पर राज करते थे इसलिए वे हमेशा हमारी जेहन में रहेंगे.

बाली ने कहा कि उनके लिए यह सौभाग्य की बात है कि वो पान सिंह तोमर (Paan Singh Tomar)  फिल्म का हिस्सा हैं, जिसमें लीड भूमिका में इरफान थे. तिग्मांशु धूलिया की यह फिल्म इरफान के दिल के बेहद करीब थी. 60वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार में उन्हें इस फिल्म के लिए बेस्ट एक्टर का अवॉर्ड मिला था.

इरफान एक सच्चे इंसान थे, जो दिल में था वही उनकी जुबान पर भी था. सरल और यार टाइप आदमी थे. सब फिल्मों में अलग आयाम स्थापित किया. किसी खास इमेज में नहीं बंधे. हमेशा चैलेंज वाले रोल लिए. आम इंसान के नजदीक वाला सिनेमा करते थे. बनावटी कुछ नहीं किया. यथार्थ में जीने वाले थे. इसलिए आज उनका जाना हर सिने और थिएटर प्रेमी को खल रहा है.

 bollywood actor irrfan khan passes away, irrfan khan death news, NSD Varanasi, paan singh tomar, National School of Drama, irrfan khan movies, irrfan khan films, ramji bali, बॉलीवुड अभिनेता इरफान खान, इरफान खान की मौत की खबर, एनएसडी, पान सिंह तोमर, राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय, इरफान खान की फिल्में, रामजी बाली
पान सिंह तोमर में इरफान का डायलॉग


बाली याद करते हुए बताते हैं कि एक बार इरफान खान एनएसडी दिल्ली में स्टूडेंट की क्लास लेने आए थे. उस वक्त इरफान से एक नाटक करने के लिए चर्चा की थी. नाटक स्क्रिप्ट उन्होंने पढ़ी लेकिन कहा कि यह काफी सीरियस है, मैं तो कॉमेडी करना चाहता हूं. बाली बताते हैं कि इसके बाद उन्होंने इरफान को ध्यान में रखकर ‘कोई बात चले’ कॉमेडी नाटक लिखा. लेकिन तब तक इरफान काफी बड़े हो चुके थे. फिर उस नाटक को यशपाल शर्मा ने किया.

अब उसी नाटक पर मैंने फिल्म लिखी है. इसे इरफान को मिलकर सुनाना चाहता था, लेकिन संयोग ऐसा आ गया कि अब इरफान इस दुनिया में नहीं रहे. एक बेहतरीन कलाकार और इंसान को मेरी ओर से विनम्र श्रद्धांजलि.

ये भी पढ़ें: खिलाड़ी से बागी बने पान सिंह को सबने भुला दिया था, इरफान ने फिर ‘जिंदा’ कर दिया 

इरफान खान: बुझ गया जमाने को आंखें दिखाता दीया

Tags: Bollywood, Irfan khan, NSD

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर