बुलंदशहर हिंसा: इंस्पेक्टर की हत्या का आरोपी फौजी STF के सुपुर्द, बोला- मुझे कुछ नहीं पता

अब यूपी एसटीएस की टीम जीतू फौजी को लेकर बुलंदशहर जाएगी, जहां से हत्या में इस्तेमाल हुई पिस्टल बरामद करने की कोशिश करेगी.

News18Hindi
Updated: December 9, 2018, 12:14 PM IST
News18Hindi
Updated: December 9, 2018, 12:14 PM IST
उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में गोकशी के शक में भड़की हिंसा के दौरान इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की गोली मारकर हत्या करने के मामले में जांच टीम को बड़ी कामयाबी मिली है. आर्मी इंटेलिजेंस ने हत्या के मुख्य आरोपी जितेंद्र मलिक उर्फ जीतू फौजी को शनिवार देर रात गिरफ्तार कर यूपी एसटीएफ के हवाले कर दिया है.

बताया जा रहा है कि आरोपी पिछले 36 घंटे से पुलिस की रडार पर था. यूपी एसटीएस की टीम अब उसे बुलंदशहर ले जाएगी, जहां से हत्या में इस्तेमाल हुई पिस्टल बरामद करने की कोशिश करेगी.

वहीं एसटीएफ की पूछताछ में जीतू ने पुलिस इंस्पेक्टर या सुमित नाम के युवक को गोली मारने से इनकार करते हुए कहा कि उसे इस बारे में कुछ नहीं पता. हालांकि उसने यह स्वीकार किया है कि वह भीड़ का हिस्सा था.

बुलंदशहर हिंसा मामले में कार्रवाई, सीओ और चौकी इंचार्ज हटाए गए

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पुलिस को मिले बुलंदशहर हिंसा के वीडियो में इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या के वक्त जीतू उनके बेहद करीब खड़ा था. वहीं, जीतू की मां रतना कौर का कहना है कि वह उस वीडियो में अपने बेटे को नहीं पहचान पा रही हैं. जबकि, रिश्तेदारों के मुताबिक, जीतू उस वक्त घटनास्थल पर ही मौजूद था. उन्होंने बताया कि इस घटना के बाद वह तुरंत जम्मू-कश्मीर के लिए निकल गया था.



राष्ट्रीय राइफल्स में तैनात है जीतू फौजी
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जीतू फौजी राष्ट्रीय राइफल्स में तैनात है. वह 15 दिन की छुट्टी पर बुंलदशहर आया था. हिंसा के वक्त वह मौके पर मौजूद था और इसके तुरंत बाद जम्मू-कश्मीर निकल गया था. आर्मी इंटेलिजेंस उसे गिरफ्तार करने सोपोर गई थी.

बुलंदशहर हिंसा: इंस्पेक्टर सुबोध के परिवार से मिले CM योगी, किए ये वादे



पहले जीतू फौजी ने दी ये सफाई
सूत्रों के मुताबिक, जीतेंद्र मलिक ने अपनी यूनिट से बताया, 'मैं एफआईआर दर्ज करवाने के लिए 30 अन्य लोगों के साथ पुलिस स्टेशन गया था. लेकिन मार पिटाई शुरू हो गई और भाग गया. मैं उस जगह मौजूद नहीं था, जहां पुलिस इंस्पेक्टर को गोली मारी गई.'

VIDEO: बुलंदशहर हिंसा में इंस्पेक्टर सुबोध को ऐसे मारी गई गोली?



बता दें कि बुलंदशहर के स्याना स्थित चिंगरावटी में गोकशी के शक को लेकर भीड़ की हिंसा में थाना कोतवाली में तैनात इंस्पेक्टर सुबोध सिंह और सुमित नाम के एक अन्य युवक की मौत हो गई थी. इस मामले में 27 नामजद लोगों और 50-60 अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है.

(रिपोर्ट: अजीत सिंह)
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर