Home /News /uttar-pradesh /

यहां के लोगों को गंदगी और कूड़े से मिलेगी निजात, जिला प्रशासन ने मेवालाल को सौंपा लाखों टन कूड़ा

यहां के लोगों को गंदगी और कूड़े से मिलेगी निजात, जिला प्रशासन ने मेवालाल को सौंपा लाखों टन कूड़ा

गंदगी और कचरे की समस्या से जूझ रहे बुलंदशहर के दिन अब बदलने वाले हैं. प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के क्लीन यूपी-ग्रीन यूपी अभियान के तहत बुलंदशहर का लाखों टन कचरा अब कूड़े वाले मेवालाल के जिम्मे कर दिया गया है. शहर की कचरा प्रबंधन योजना के तहत मेवालाल बुलंदशहर के हर घर से कचरा इकट्ठा करेंगे. इस कचरे से जैविक खाद तैयार होगी जिसकी बिक्री से आने वाली रकम संस्था और शहर के विकास के लिए इस्तेमाल की जाएगी.

गंदगी और कचरे की समस्या से जूझ रहे बुलंदशहर के दिन अब बदलने वाले हैं. प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के क्लीन यूपी-ग्रीन यूपी अभियान के तहत बुलंदशहर का लाखों टन कचरा अब कूड़े वाले मेवालाल के जिम्मे कर दिया गया है. शहर की कचरा प्रबंधन योजना के तहत मेवालाल बुलंदशहर के हर घर से कचरा इकट्ठा करेंगे. इस कचरे से जैविक खाद तैयार होगी जिसकी बिक्री से आने वाली रकम संस्था और शहर के विकास के लिए इस्तेमाल की जाएगी.

गंदगी और कचरे की समस्या से जूझ रहे बुलंदशहर के दिन अब बदलने वाले हैं. प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के क्लीन यूपी-ग्रीन यूपी अभियान के तहत बुलंदशहर का लाखों टन कचरा अब कूड़े वाले मेवालाल के जिम्मे कर दिया गया है. शहर की कचरा प्रबंधन योजना के तहत मेवालाल बुलंदशहर के हर घर से कचरा इकट्ठा करेंगे. इस कचरे से जैविक खाद तैयार होगी जिसकी बिक्री से आने वाली रकम संस्था और शहर के विकास के लिए इस्तेमाल की जाएगी.

अधिक पढ़ें ...
गंदगी और कचरे की समस्या से जूझ रहे बुलंदशहर के दिन अब बदलने वाले हैं. प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के क्लीन यूपी-ग्रीन यूपी अभियान के तहत बुलंदशहर का लाखों टन कचरा अब कूड़े वाले मेवालाल के जिम्मे कर दिया गया है. शहर की कचरा प्रबंधन योजना के तहत मेवालाल बुलंदशहर के हर घर से कचरा इकट्ठा करेंगे. इस कचरे से जैविक खाद तैयार होगी जिसकी बिक्री से आने वाली रकम संस्था और शहर के विकास के लिए इस्तेमाल की जाएगी.

कूड़े-कचरे को अपनी जिंदगी का हिस्सा मान बैठे बुलंदशहर वासियों के लिए यह खबर बेहद अहम है. घर के सामने से लेकर गली-मोहल्लों और बाजार में कचरे के ढेर अब यहां दिखाई नहीं देंगे. रोजमर्रा की जिंदगी में घर और प्रतिष्‍ठानों से निकलने वाले कचरे का कलेक्शन अब कूड़ेवाले मेवालाल के जिम्मे होगा जिन्होने सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट से देश के कई शहरों की तकदीर बदली है. यूपी के सीएम अखिलेश यादव के क्लीन यूपी-ग्रीन यूपी अभियान के तहत बुलंदशहर में शुरू हो रहे इस अभियान के तहत अब हर घर से कचरा कलेक्ट किया जाएगा. शहर में अब न तो डस्टबिन दिखाई देंगे और ना ही शहर की सड़कों पर कचरे के ढेर और उनमें मुंह मारते जानवरों की तस्वीरें दिखाई देंगी. बुलंदशहर को कचरा मुक्त करने की योजना जिलाधिकारी बी. चन्द्रकला की पहल पर सार्थक हो रही है.

मुस्कान ज्योति संस्था शहर के हर घर से कचरा इकट्ठा करने के बदले 20 से 50 रुपए तक वसूल करेगी. इस रकम से कचरा कलेक्शन करने वाले कर्मियों का वेतन और कचरे से खाद बनाने के प्लांट के लिए संसाधन जुटाए जाएंगे. बिना दुर्गंध के यह प्लांट 50 से 60 दिन में सॉलिड और लिक्विड कचरे को जैविक खाद में बदल देगा. इस खाद की बाजार में कीमत 3 से 4 रुपए प्रति किलोग्राम है. खाद की बिक्री से होने वाली कमाई को संस्था के संचालन और शहर के विकास कार्यों में इस्‍तेमाल किया जाएगा. बुलंदशहर में जिला प्रशासन ने इस योजना के तहत संस्था को डंपिग ग्राउंड और स्थानीय निकायों के साधन भी उपलब्ध कराए हैं.

मेवालाल कूड़े वाले इससे पहले यूपी के सहारनपुर और मथुरा समेत देश के कई शहरों को अपने इस प्रयास से कचरामुक्त कर चुके हैं और उनकी पहल स्वच्छ भारत अभियान के तहत एक बड़ा कदम है. बुलंदशहर समेत जिले के 3 टाउंस में यह योजना अगले 15 दिन में शुरू हो जाएगी. अगले 6 महीनों बाद जिले की गलियां और सड़कों पर कूड़े-कचरे के ढेर नजर आना बंद हो जाएंगे. जिला प्रशासन ने शहर के वाशिंदों से इस अभियान में अपना सहयोग देने का आह्वान किया है.

आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर