बुलंदशहर: दरोगा ने झूठे मुकदमे में फंसाने की धमकी देकर वसूले 20 हजार रुपए, हुआ सस्पेंड

आरोपी दरोगा यशपाल सिंह

आरोपी दरोगा यशपाल सिंह

दरअसल, रामघाट थाना क्षेत्र के रहने वाले कपड़ा व्यापारी आशीष अग्रवाल ने एसएसपी से शिकायत की थी कि 18 अप्रैल को रामघाट थाने में ही तैनात उपनिरीक्षक यशपाल सिंह ने गुटखे की कालाबाजारी करने का आरोप लगाते हुए उसे पकड़कर थाने में बैठा लिया और छोड़ने की एवज में 1 लाख रुपये की डिमांड करने लगा.

  • Share this:
बुलंदशहर. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के बुलंदशहर (Bulandshahr) में एक कपड़ा व्यापारी को झूठे मुकदमे में फंसाने के धमकी देकर एक लाख रुपए की घुस मांगने वाले दरोगा (Sub Inspector) पर गाज गिरी है. रामघाट थाना क्षेत्र में तैनात एक दरोगा ने लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान गुटखे की कालाबाजारी करने के आरोप में एक कपड़ा व्यापारी को अवैध रूप से हिरासत में रख एक लाख रुपये की डिमांड की और 20 हज़ार रुपये की वसूली कर उसे छोड़ दिया, मामले की शिकायत जब एसएसपी से की गई तो जांच में आरोप सही पाए गए. जिसके बाद दरोगा यशपाल को निलंबित कर दिया गया.

गुटखे की कालाबाजारी का लगाया था झूठा आरोप

दरअसल, रामघाट थाना क्षेत्र के रहने वाले कपड़ा व्यापारी आशीष अग्रवाल ने एसएसपी से शिकायत की थी कि 18 अप्रैल को रामघाट थाने में ही तैनात उपनिरीक्षक यशपाल सिंह ने गुटखे की कालाबाजारी करने का आरोप लगाते हुए उसे पकड़कर थाने में बैठा लिया और छोड़ने की एवज में 1 लाख रुपये की डिमांड करने लगा. शाम तक अवैध हिरासत में रखने के बाद उनसे 20000 रुपए की वसूली की गई. तब जाकर उन्हें छोड़ा गया.

एसएसपी ने जांच में आरोप सही पाया
पीड़ित व्यापारी ने मामले की शिकायत एसएसपी के अलावा सत्तारूढ़ सरकार के कई सांसदों व मंत्रियों से भी की थी और न्याय की गुहार लगाई थी. जिसके बाद एसएसपी संतोष कुमार सिंह ने मामले की जांच एसपी देहात को सौंप दी. एसएसपी ने बताया कि शिकायत की जांच जब एसपी देहात से कराई गई तो मामला प्रथम दृष्टया सही पाया गया. भ्रष्टाचार के आरोप में आरोपी उपनिरीक्षक यशपाल सिंह को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है और मामले में अग्रिम कार्रवाई की जा रही है.

(रिपोर्ट: सैयद अली शरार)

ये भी पढ़ें:



हॉटस्पॉट बने लखनऊ में Lockdown से नहीं मिलेगी कोई छूट, DM ने जारी किया आदेश

COVID-19: योगी सरकार की बड़ी कार्रवाई, परिवार कल्याण के महानिदेशक को हटाया
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज