बुलंदशहर की होनहार बिटिया सुदीक्षा की मौत, पापा बोले- मेरी बेटी तो वापस नहीं आएगी, लेकिन मुझे CM योगी से मिलेगा न्याय
Bulandshahr News in Hindi

बुलंदशहर की होनहार बिटिया सुदीक्षा की मौत, पापा बोले- मेरी बेटी तो वापस नहीं आएगी, लेकिन मुझे CM योगी से मिलेगा न्याय
अमेरिका के बॉबसन कॉलेज की स्टूडेंट सुदीक्षा भाटी की सड़क हादसे में दर्दनाक मौत हो गई (फ़ाइल तस्वीर)

चाय की दुकान चलाने वाले पिता जितेंद्र भाटी ने बेटी सुदीक्षा (Sudiksha Bhati) की मौत पर कहा कि वह जनते हैं कि उनकी बेटी वापस नहीं आएगी, लेकिन उन्‍हें भरोसा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उन्‍हें न्याय दिलवाएंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 11, 2020, 2:31 PM IST
  • Share this:
बुलंदशहर/लखनऊ. यूपी की होनहार बिटिया सुदीक्षा भाटी (Sudiksha Bhati) की सड़क हादसे में मौत के मामले में सियासत के साथ ही परिजनों के भी बयान सामने आने लगे हैं. परिजनों का आरोप है कि कुछ मनचलों ने बुलेट से स्टंट के दौरान छेड़खानी की. उसके बाद अचानक ब्रेक लगा दिया जिसकी वजह से एक्सीडेंट हुआ और सुदीक्षा की मौत हो गई. इस हादसे में बाइक चला रहे सुदीक्षा के चाचा सत्नेद्र भाटी (Satyendra bhati) ने कई अहम खुलासे किए हैं. उन्होंने न्यूज18 से बातचीत करते हुए कहा कि सोमवार सुबहर 8 बजे सुदीक्षा को बाइक से लेकर वे उसके मामा के घर जा रहे थे. जैसे ही वे बुलंदशहर-औरांगबाद रोड (Bulandshahr-Aurangabad Road) पर पहुंचे, तभी 2 बुलेट पर सवार कुछ मनचलों ने उनका पीछा करना शुरू कर दिया. वे अपनी गाड़ी को कभी उनके आगे करते तो कभी पीछ हो जाते थे.

चाय की दुकान चलाने वाले पिता जितेंद्र भाटी ने बेटी की मौत पर कहा, 'मैं जनता हूं कि मेरी सुदीक्षा वापस नहीं आएगी, लेकिन भरोसा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मुझे न्याय दिलवाएंगे.' पिता का कहना है कि उनकी बेटी की हत्या हुई है.

सतेंद्र ने बताया कि ऐसे में हमने अपनी बाइक को तेजी से आगे निकाली, तभी एक बुलेट सवार अचानक मेरी गाड़ी के आगे आ गया और ब्रेक लगाकर रुक गया. ऐसे में मैंने भी आनन-फानन में ब्रेक लगा दिया. इससे सुदीक्षा सड़क पर गिर गई और उसकी मौत हो गई और मैं गंभीर रूप से घायल हो गया.



सतेंद्र भाटी ने कहा कि सड़क हादसे के बाद आसपास के लोग मौके पर पहुंच गए और एंबुलेंस बुलाई गई. फिर हम दोनों को अस्पताल ले जाया गया. उन्होंने कहा कि मनचलों की वजह से ये हादसा हुआ है. ये कौन थे ये मैं नहीं जानता. सतेंद्र भाटी ने बताया कि मनचलों की गाड़ी पर जाट लिखा हुआ था. वे आसपास के गांव के ही होंगे. सतेंद्र भाटी ने बताया कि सुदीक्षा ने कहा था ये बुलेट वाले अपनी बाइक का पीछा कर रहे हैं.
सूचना प्राप्त हुई थी कि एक रोड एक्सीडेंट हुआ

अपर पुलिस अधीक्षक का कहना है कि पुलिस को सूचना प्राप्त हुई थी कि एक रोड एक्सीडेंट हुआ है. जब पुलिस मौके पर पहुंची तो पता चला कि सुदीक्षा नाम की लड़की जो अपने भाई के साथ मामा के घर जा रही थी, रास्ते में उसका एक्सीडेंट हो गया. जब मौजूद लोगों से पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि सामने से एक मोटरसाइकिल जा रही थी. उसने अचानक ब्रेक मारा और सुदीक्षा की बाइक जाकर उनकी बुलेट से टकरा गई. इससे जमीन पर गिरने से लड़की की मौत हो गई. अपर पुलिस अधीक्षक का कहना है कि उस समय भाई ने या कसी ने छेड़छाड़ की बात नहीं बताई थी.

शुरू से ही पढ़ाई में बेहद होशियार थीं सुदीक्षा
बेहद साधारण परिवार से ताल्लुक रखने वाली सुदीक्षा भाटी ने अपनी मेहनत के बलबूते अमेरिका के बॉब्‍सन कॉलेज से भारी-भरकम स्कॉलरशिप (लगभग 4 करोड़) हासिल की थी. सुदीक्षा ने 5वीं तक की पढ़ाई डेरी स्टनर गांव के प्राइमरी स्कूल से की थी. पढ़ाई में शुरू से ही अव्वल सुदीक्षा का चयन साल 2011 में विद्याज्ञान लीडरशिप एकेडमी स्कूल में कक्षा 6 के लिए हुआ. डेरी स्कनर गांव के रहने वाले चाय विक्रेता जितेंद्र भाटी की बेटी सुदीक्षा भाटी ने एचसीएल फाउंडेशन के स्कूल विद्या ज्ञान से आगे की पढ़ाई की. 2018 की सीबीएसई बोर्ड इंटरमीडिएट परीक्षा में सुदीक्षा ने 98 प्रतिशत अंक हासिल किए. फिर सुदीक्षा को अमेरिका के बॉबसन कॉलेज से आगे की पढ़ाई के लिए स्कॉलरशिप मिली.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज