सुदीक्षा मौत मामला: पिता की तहरीर पर अज्ञात बुलेट सवारों के खिलाफ दर्ज हुई FIR, बोले- एक्सीडेंट नहीं, हत्या
Bulandshahr News in Hindi

सुदीक्षा मौत मामला: पिता की तहरीर पर अज्ञात बुलेट सवारों के खिलाफ दर्ज हुई FIR, बोले- एक्सीडेंट नहीं, हत्या
अमेरिका के बॉबसन कॉलेज की स्टूडेंट सुदीक्षा भाटी की सड़क हादसे में दर्दनाक मौत हो गई (फ़ाइल तस्वीर)

सुदीक्षा के पिता जितेंद्र भाटी (Jitendra Bhati) का कहना है कि उनकी बेटी की मौत सड़क हादसा नहीं है, बल्कि हत्या है. उन्‍होंने सीएम योगी से भी गुहार लगाई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 12, 2020, 7:36 AM IST
  • Share this:
बुलंदशहर. होनहार छात्रा सुदीक्षा भाटी (Sudiksha Bhati) की मौत मामले में हर दिन नए मोड़ आ रहे हैं. अब पिता की तहरीर पर अज्ञात बुलेट सवारों के खिलाफ बुलंदशहर के औरंगाबाद थाने में एफआईआर (FIR) दर्ज की गई है. पुलिस ने पिता की तहरीर पर आईपीसी की धारा 279, 304-A और 1988 के मोटर व्हीकल एक्ट की धारा 177, 184 और 192 तहत केस दर्ज किया है. पिता जितेंद्र भाटी का कहना है कि उनकी बेटी की मौत सड़क हादसा नहीं है, बल्कि हत्या है. तहरीर में उन्होंने कहा है कि सुदीक्षा बाइक पर चाचा के साथ दादरी से मामा के यहां जा रही थी. रास्ते में बुलेट सवार दो युवकों ने छेड़छाड़ की. मामले में उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी न्याय की गुहार लगाई है.

परिजनों का आरोप है कि कुछ मनचलों ने बुलेट से स्टंट के दौरान छेड़खानी की. उसके बाद अचानक ब्रेक लगा दिया जिसकी वजह से एक्सीडेंट हुआ और सुदीक्षा की मौत हो गई. इस हादसे में बाइक चला रहे सुदीक्षा के चाचा सतेंद्र भाटी ने कई अहम खुलासे किए हैं. उन्होंने न्यूज18 से बातचीत करते हुए कहा कि सोमवार सुबहर 8 बजे सुदीक्षा को बाइक से लेकर वे उसके मामा के घर जा रहे थे. जैसे ही वे बुलंदशहर-औरांगबाद रोड पर पहुंचे, तभी 2 बुलेट पर सवार कुछ मनचलों ने उनका पीछा करना शुरू कर दिया. वे अपनी गाड़ी को कभी उनके आगे करते तो कभी पीछ हो जाते थे.

CM से न्याय की आस
चाय की दुकान चलाने वाले पिता जितेंद्र भाटी ने बेटी की मौत पर कहा, 'मैं जनता हूं कि मेरी सुदीक्षा वापस नहीं आएगी, लेकिन भरोसा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मुझे न्याय दिलवाएंगे.' पिता का कहना है कि उनकी बेटी की हत्या हुई है.
सतेंद्र ने बताया कि ऐसे में हमने अपनी बाइक को तेजी से आगे निकाली, तभी एक बुलेट सवार अचानक मेरी गाड़ी के आगे आ गया और ब्रेक लगाकर रुक गया. ऐसे में मैंने भी आनन-फानन में ब्रेक लगा दिया. इससे सुदीक्षा सड़क पर गिर गई और उसकी मौत हो गई और मैं गंभीर रूप से घायल हो गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज