लाइव टीवी

बुलंदशहर हिंसा: इंस्पेक्टर सुबोध की हत्या के आरोपी जीतू फौजी को नहीं मिली बेल
Bulandshahr News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: December 10, 2018, 5:59 PM IST
बुलंदशहर हिंसा: इंस्पेक्टर सुबोध की हत्या के आरोपी जीतू फौजी को नहीं मिली बेल
बुलंदशहर हिंसा का आरोपी जीतू फौजी

स्याना कोतवाली के चिंगरावठी में हुई हिंसा के आरोप में गिरफ्तार जीतू फौजी को कोर्ट ने रविवार को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेजा था.

  • Share this:
बुलंदशहर के स्याना में बवाल के दौरान भड़की हिंसा में मारे गए इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या के आरोपी जितेंद्र मलिक उर्फ जीतू फौजी की जमानत याचिका को सीजेएम कोर्ट ने खारिज कर दिया. स्याना कोतवाली के चिंगरावठी में हुई हिंसा के आरोप में गिरफ्तार जीतू फौजी को कोर्ट ने रविवार को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेजा था.

जीतू फौजी के वकील संजय शर्मा ने बताया कि जमानत याचिका खारिज होने के बाद मंगलवार को जिला जज के कोर्ट में जमानत की याचिका दायर की जाएगी. उन्होंने बताया कि सोमवार को सीजेएम अवकाश पर थे, लिहाजा उनके लिंक ऑफिसर सीजेएम प्रथम ने उनकी जगह सुनवाई की. उन्होंने कहा कि मामला सत्र न्यायधीश के तहत विचाराधीन है. उसमें मजिस्ट्रेट के पास पॉवर नहीं होती, इसलिए प्रार्थना पत्र लोअर कोर्ट से खारिज किया गया है. मंगलवार को सेशन कोर्ट में फिर से जमानत याचिका दाखिल करेंगे.

बता दें रविवार को क्राइम ब्रांच द्वारा की गई पूछताछ में जीतू ने इस बात को स्वीकार किया कि वह हिंसा के दौरान घटनास्थल पर मौजूद था, लेकिन इंस्पेक्टर को गोली न मारने की बात पर वह अड़ा रहा. इससे पहले मेरठ से बुलंदशहर क्राइम ब्रांच ऑफिस तक जीतू से तीन स्तरीय पूछताछ हुई. इस दौरान उसने कई बार बयान बदले.

जीतू को रविवार सुबह 6 बजे स्याना कोतवाली ले जाया गया, जहां उससे एक घंटे पूछताछ की गई. इसके बाद उसे 10 बजे क्राइम ब्रांच के कार्यालय लाया गया. यहां पांच घंटे की पूछताछ में वह खुद को निर्दोष बताते हुए मौके पर मौजूदगी से इनकार करता रहा. जब उसे वीडियो फुटेज दिखाए गए तो उसने हंगामे में शामिल होने की बात मान ली, हालांकि फायरिंग के समय उसने मौके पर नहीं होने की बात कही.



जांच एजेंसियां घंटों पूछताछ के बाद भी जीतू से यह नहीं कबूलवा सकी कि उसने गोली मारी है. एसटीएफ और एसआईटी के अधिकारियों ने बताया कि प्रारंभिक पूछताछ के दौरान जीतू ने प्रदर्शन के दौरान घटना स्थल पर होने की बात को स्वीकार किया है. जांच में भी इस तथ्य की पुष्टि हुई है. वहीं इंस्पेक्टर को गोली मारने के मामले में जीतू वहां मौजूद न होने की बात कह रहा है.

ये भी पढ़ें: 

बुलंदशहर हिंसा: जीतू फौजी से मिलने पहुंचा उसका भाई, नहीं मिली अनुमति

लखनऊ: शिवपाल की ‘जनाक्रोश रैली' में मंच साझा करने पहुंचे मुलायम सिंह यादव

सीएम योगी के बयान के बाद रामपुर के हनुमान मंदिर पर वाल्मीकि समाज ने ठोका दावा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बुलंदशहर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 10, 2018, 4:36 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर