Home /News /uttar-pradesh /

'बुलंदशहर इतेज्मा में खिदमत करने आए थे, पुलिस ने गोकशी के आरोप में भेज दिया जेल'

'बुलंदशहर इतेज्मा में खिदमत करने आए थे, पुलिस ने गोकशी के आरोप में भेज दिया जेल'

बुलंदशहर हिंसा के मुख्य आरोपी योगेश राज द्वारा लिखाई गई एफआईआर के आधार पर 5 दिसंबर को गोकशी के आरोप में चार युवकों को गिरफ्तार कर जेल भेजा था. पुलिस ने साजिद, सरफुद्दीन, बन्ने खां व आसिफ को गुनाहगार माना था.

    बुलंदशहर हिंसा और गोकशी के मामले में पुलिस की फजीहत कम होने का नाम नहीं ले रही है. पुलिस ने इस बात को स्वीकार किया है कि गोकशी के मामले में जिन चार लोगों को पहले गिरफ्तार किया गया था वे निर्दोष हैं, लिहाजा उन्हें छोड़ने की कार्रवाई की जा रही है. वहीं गिरफ्तार दो आरोपियों ने खुद को बेक़सूर बताते हुए कहा कि वे यहां के रहने वाले नहीं हैं और इतेज्मा में खिदमत के लिए यहां आए थे.

    दरअसल बुलंदशहर हिंसा के मुख्य आरोपी योगेश राज द्वारा लिखाई गई एफआईआर के आधार पर 5 दिसंबर को गोकशी के आरोप में चार युवकों को गिरफ्तार कर जेल भेजा था. पुलिस ने साजिद, सरफुद्दीन, बन्ने खां व आसिफ को गुनाहगार माना था. लेकिन जांच के दौरान पुलिस को उनके खिलाफ कोई साक्ष्य नहीं मिला. जिसके बाद एसपी सिटी ने स्वीकार किया है कि स्याना में हुई गोकशी के आरोप में जिन 4 युवकों को जेल भेजा गया है वे निर्दोष हैं. जिन्हें अब 169 सीआरपीसी की कार्यवाई कर जेल से निकालने की तैयारी की जा रही है.

    बुलंदशहर हिंसा व गोकशी के मामले में पांच और आरोपी गिरफ्तार

    पुलिस की गाड़ी में बैठे खुद को निर्दोष बात रहे इन युवकों को स्याना पुलिस ने 5 दिसंबर को गौकशी करने के आरोप में जेल भेजा था. आरोपी खुद को बार-बार इतेज्मा मे आने की बात कह रहे थे, लेकिन उस वक्त पुलिस इन्हें निर्दोष मानने को तैयार नहीं थी.

    दरअसल 2/3 दिसंबर को स्याना में हुई गोकशी के मामले में बजरंगदल नेता योगेश राज ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी. स्याना पुलिस ने उसे आधार मानते हुए साजिद, सरफुद्दीन, बन्ने खां व आसिफ को गोकशी के आरोप में जेल भेज दिया था.

    बुलंदशहर हिंसा मामले में फरार कोबरा और जॉनी चौधरी को UPSTF ने किया गिरफ्तार

    न्यूज18 से बातचीत में नोर्दोश आरोप सरफुद्दीन ने बताया कि वह बड़कन का रहने वाला है जबकि उसके साथ बैठा साजिद अली फरीदाबाद का रहने वाला है. उसने बताया कि उन्होंने गाय नहीं काटी. उसने बताया कि 30 नवंबर से 3 दिसंबर तक चार दिन के लिए वह इतेज्मा में आया था. उसके पास इस बात का सबूत भी है. सरफुद्दीन ने बताया कि दो अन्य गिरफ्तार आरोपियों के बारे में कुछ भी जानने से इनकार कर दिया. सरफुद्दीन ने बताया कि इंस्पेक्टर साहब ने बोला था कि तुम्हारे खिलाफ एफआईआर है तुम आ जाओ. जिसके बाद मैं चला आया. मेरे खिलाफ पहले से कोई मुकदमा नहीं है और मैं पढ़ा-लिखा एमए पास हूं.

    मामले में बुलंदशहर के एसपी सिटी अतुल श्रीवास्तव कहते हैं कि पूरी घटना की जांच चल रही है. मामले में एसआईटी सहित तमाम टीमें जांच कर रही हैं. जांच में ये सामने आया ​कि तीन अन्य लोगों ने कुछ और लोगों के साथ मिलकर गोकशी की घटना को अंजाम दिया है, उनके खिलाफ पुख्ता सबूत मिले हैं. इनकी गिरफ्तारी 18 दिसंबर को हुई. उनसे घटना में प्रयोग की गई जिप्सी, गन और अन्य वस्तुएं बरामद की गई हैं. वहीं इससे पहले मामले में जो 4 लोग गिरफ्तार किए गए थे, उनके खिलाफ पुख्ता सबूत नहीं हैं. पुलिस निष्पक्ष कार्रवाई करते हुए पहले पकड़े गए चारों अभियुक्तों के खिलाफ 169 सीआरपीसी की कार्रवाई कर रही है.

    (रिपोर्ट: सैयद अली शरर)

    ये भी पढ़ें: 

    बुलंदशहर हिंसा: मृतक सुमित के पिता की सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात

    विवेक तिवारी हत्याकांड में चार्जशीट दाखिल, सिपाही प्रशांत ने ही मारी थी गोली

    यूपी में गठबंधन से कांग्रेस के आउट होने पर बसपा की चुप्पी, सपा दे रही ये दलील

    UP में सपा-बसपा गठबंधन से बाहर हुई कांग्रेस, मायावती के बर्थडे पर ऐलान संभव!

    Tags: Bulandshahar, Bulandshahr news, Up news in hindi, UP police

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर