लाइव टीवी

बुलंदशहर हिंसा: इंस्पेक्टर और छात्र की मौत पर योगी सरकार को नोटिस जारी
Bulandshahr News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: December 5, 2018, 2:25 PM IST

सूबे के डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि 3 दिसंबर को हुई घटना लॉ एंड आर्डर का मुद्दा नहीं है. उन्होंने इसे बाबरी विध्वंस की बरसी 6 दिसंबर से पहले एक सुनियोजित घटना बताया.

  • Share this:
उत्तर प्रदेश के जिला बुलंदशहर में हुई हिंसा में इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह और युवक सुमित की मौत के मामले में मानवाधिकार आयोग ने उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार को नोटिस जारी किया है. मानवाधिकार आयोग ने चार सप्ताह में चीफ सेक्रेटरी और डीजीपी से मामले की रिपोर्ट तलब की है. NHRC ने चीफ सेक्रेटरी और डीजीपी को ये नोटिस भेजा है. आयोग ने मीडिया रिपोर्ट्स को संज्ञान में लेकर यूपी सरकार को यह नोटिस जारी किया है.

इससे पहले सूबे के डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि 3 दिसंबर को हुई घटना लॉ एंड आर्डर का मुद्दा नहीं है. उन्होंने इसे बाबरी विध्वंस की बरसी 6 दिसंबर से पहले एक सुनियोजित घटना बताया. डीजीपी ओपी ने कहा कि बुलंदशहर मामले में दो एफआईआर दर्ज की गई है. पहली एफआईआर गोकशी से जुड़ी हुई है. जबकि दूसरी एफआईआर पुलिस की तरफ से लिखी गई है, जिसमें हिंसा, बवाल और हत्या का मामला दर्ज है. इन दोनों ही मुकदमों में दो दर्जन से ज्यादा लोगों को नामजद किया गया है. जिनकी गिरफ्तारी के प्रयास जारी है.

बता दें, बुलंदशहर हिंसा मामले में अबतक पुलिस ने 4 लोगों की गिरफ्तारी की है. पुलिस ने चमन, देवेंद्र और आशीष चौहान समेत एक और आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है. वहीं बजरंग दल का जिला संयोजक योगेश राज फरार है. नामजद बजरंग दल के जिला संयोजक योगेश राज पर एडीजी प्रशांत कुमार ने उनके फरार होने की पुष्टि की है. वहीं योगेश की गिरफ्तारी नहीं होने की वजह से सवाल भी खड़े हो रहे हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बुलंदशहर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 5, 2018, 1:06 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर