Home /News /uttar-pradesh /

बुलंदशहर हिंसा: इंस्पेक्टर को गोली मारी थी दिल्ली के कैब ड्राइवर ने, 25 दिन बाद अरेस्ट

बुलंदशहर हिंसा: इंस्पेक्टर को गोली मारी थी दिल्ली के कैब ड्राइवर ने, 25 दिन बाद अरेस्ट

सुबोध कुमार सिंह (फाइल फोटो).

सुबोध कुमार सिंह (फाइल फोटो).

3 दिसंबर 2018 को हुई हिंसा के मामले में पुलिस ने अब तक 22 लोगों को गिरफ्तार किया है और 6 से अधिक लोगों ने कोर्ट में समर्पण किया है. बुलन्दशहर के एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने गुरुवार को प्रशांत नट की गिरफ्तारी की पुष्टि की है.

    उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले में हुई हिंसा के 25 दिन बाद पुलिस ने इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह के हत्यारे को गिरफ्तार कर लिया है. मामले में मुख्य आरोपी प्रशांत नट को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस के मुताबिक प्रशांत दिल्ली में कैब ड्राइवर है. वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) बुलन्दशहर प्रभाकर चौधरी ने बृहस्पतिवार को प्रशांत नट की गिरफ्तारी की पुष्टि की. उन्होंने यह भी बताया कि नट ने ही सिंह की हत्या की थी और उससे इस मामले में पूछताछ की जा रही है. हालांकि, हत्या में इस्तेमाल किया गया रिवाल्वर अभी बरामद नहीं हो पाया है.

    गौरतलब है कि बुलंदशहर में भीड़ के हमले में इंस्पेक्टर सुबोध के अलावा एक अन्य युवक की मौत हो गई थी. चौधरी ने यह भी बताया कि इंस्पेक्टर ने आत्मरक्षा में गोली चलाई थी, जिसमें सुमित नाम के युवक की मौत हो गई थी. उसकी उम्र 20 साल के करीब थी. पुलिस सूत्रों के अनुसार 'वीडियो फुटेज’ और कुछ लोगों की गवाही के आधार पर इंस्पेक्टर की हत्या में नट को संदिग्ध पाया गया.

    गत 3 दिसंबर 2018 को हुई इस घटना के सिलसिले में बुलन्दशहर पुलिस ने अब तक 22 लोगों को गिरफ्तार किया है और छह से अधिक लोगों ने अदालत में आत्मसमर्पण किया है. उल्लेखनीय है कि पहले सेना के जवान जीतू फौजी पर संदेह था, लेकिन उसके खिलाफ सबूत नहीं मिले.

    पुलिस ने प्रशांत नट पर 3 दिसंबर को चिंगरावठी में हुई हिंसा के दौरान शहीद इंस्पेक्टर सुबोध कुमार को गोली मारने का आरोप लगाया है. आरोपी से पूछताछ के बाद स्याना हिंसा के मामले में पुलिस शुक्रवार को बड़ा खुलासा कर सकती है. पुलिस का कहना है कि प्रशांत नट ने पिस्टल छीनने के बाद इंस्पेक्टर को गोली मारी थी. प्रशांत नट चिंगरावठी गांव का रहने वाला है.

    बार-बार थ्योरी बदल रही है पुलिस
    बुलंदशहर हिंसा मामले में पुलिस बार-बार थ्योरी बदल रही है. सबसे पहले पुलिस ने बजरंग दल के जिला संयोजक योगेश राज को मुख्य आरोपी बताया. हालांकि, पुलिस ने योगेश को पकड़ने में पहले थोड़ी बहुत तेजी दिखाई, लेकिन योगेश के बारे में ज्यादा तफ्तीश नहीं की जा रही.

    पुलिस ने कोर्ट से नहीं मांगा जीतू फौजी का रिमांड
    इसके बाद जीतू फौजी को एक और आरोपी के रूप में पेश किया गया, लेकिन पुलिस की ये थ्योरी भी धरी की धरी रह गई. पुलिस ने जेल भेजने जाने के बाद जीतू का कोर्ट से रिमांड तक नहीं मांगा. अब पुलिस प्रशांत नट को इंस्पेक्टर सुबोध का कातिल होने का दावा कर रही है. इसके पीछे पुलिस पुख्ता और ठोस सबूत होने का हवाला दे रही है.

    (इनपुट: सैयद अली शरर)

    ये भी पढ़ें -

    बुलंदशहर हिंसा: पूर्व नौकरशाहों के सीएम योगी पर हमले से भड़की बीजेपी, दिया ये जवाब

    बुलंदशहर हिंसा पर अब पूर्व नौकरशाहों के नाम BJP विधायक ने लिखा खुला पत्र

    Tags: Bulandshahar, Bulandshahr news, Communal conflict, Cow vigilance, UP police

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर