इंसानियत की मिसाल: मुसलमानों ने दिया अर्थी को कंधा, हिंदू रीति-रिवाज से किया अंतिम संस्कार
Bulandshahr News in Hindi

इंसानियत की मिसाल: मुसलमानों ने दिया अर्थी को कंधा, हिंदू रीति-रिवाज से किया अंतिम संस्कार
इंसानियत और भाईचारे की इस मिसाल की चर्चा अब पूरे इलाके में हो रही है.

रास्ते में सभी लोग यह देखकर हैरान थे कि किस तरह मुस्लिम लोग राम का नाम सत्य कहते हुए एक हिंदू व्यक्ति को श्मशान तक ले जा रहे हैं.

  • Share this:
बुलंदशहर. दुनियाभर में कोरोना वायरस (Coronavirus) के खौफ के बीच उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में इंसानियत की मिसाल देखने को मिली है. किसी की मृत्यु हो जाने पर जहां लोग कंधा देने से डर रहे हैं, वहीं मुस्लिम (Muslim) समुदाय ने एक हिंदू की अर्थी को न सिर्फ कंधा ही दिया, बल्कि पूरे रीति रिवाजों के साथ उसका अंतिम संस्कार भी किया. जानकारी के अनुसार मामला शहर के आनंद विहार का है. यहां पर रवि शंकर नामक एक व्यक्ति की मौत हो गई. आर्थिक रूप से कमजाेर रवि शंकर के दो बेटे और पत्नी के पास उसके अंतिम संस्कार के लिए भी कोई साधन नहीं थे. ऐसे में वहीं रहने वाले मुस्लिम समुदाय के लोगों ने परिवार का साथ दिया.

हमारा ही परिवार
वहीं मुस्‍लिम समुदाय के कुछ युवकों का कहना था कि रवि शंकर यहीं रहते थे. हम सभी एक परिवार जैसे ही हैं. इसमें अब हिंदू और मुसलमान की कोई बात ही नहीं थी. इसके साथ ही जब रवि शंकर की अंतिम यात्रा निकाली जा रही थी तो मुसलमान युवकों ने राम नाम सत्य है भी कहा. श्मशान में भी पूरे रीति रिवाजों के साथ ही रवि का अंतिम संस्कार किया गया. यह देख सभी हैरान तो थे ही साथ ही इस भाईचारे की तारीफ करते भी नहीं थक रहे थे.

इधर लगातार बढ़ रहे हैं कोरोना के मरीज
उल्लेखनीय है कि यूपी के गौतमबुद्ध नगर में चार और नए मरीज कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं. इसी के साथ शहर में COVID-19 मरीजों की संख्या बढ़कर 31 हो गई है. इसके साथ ही उत्तर प्रदेश में कोरोनावायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 71 पहुंच गई है. लॉकडाउन के बावजूद नोएडा में पिछले तीन दिनों में 19 मरीज कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं.



(रिपोर्ट- सैय्यद अली शरर)

ये भी पढ़ें- Corona के लोगों का गांव में रहना हुआ मुश्किल, अन्य लोग कर रहे हैं भेदभाव

COVID-19: बरेली में मिला पहला संक्रमित मरीज, नोएडा लौटा है युवक
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज