बुलन्दशहर जेल में बंद मंत्री नंदगोपाल नंदी पर जानलेवा हमले के मुख्य आरोपी राजेश पायलेट की मौत

जेल प्रशासन के अनुसार फरवरी, 2018 से राजेश पायलट बुलंदशहर जेल में बंद था. उसे इलाहाबाद के नैनी जेल से ​शिफ्ट किया गया था.

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 12, 2018, 2:37 PM IST
बुलन्दशहर जेल में बंद मंत्री नंदगोपाल नंदी पर जानलेवा हमले के मुख्य आरोपी राजेश पायलेट की मौत
बुलंदशहर जिला कारागार. Photo: News 18
News18 Uttar Pradesh
Updated: September 12, 2018, 2:37 PM IST
उत्तर प्रदेश की योगी सरकार में राज्यमंत्री नंद गोपाल गुप्ता उर्फ नंदी पर जानलेवा हमला करने वाले मुख्य आरोपी राजेश पायलट की मौत हो गई है. राजेश पायलट बुलंदशहर जिला जेल में बंद था. पुलिस के अनुसार पिछले 2 सितंबर को राजेश पायलट को ब्रेन हैमरेज हुआ था, जिसके बाद उसे दिल्ली सफदरगंज अस्पताल में भर्ती कराया गया. राजेश पर 5 मामले अलग-अलग धाराओं में इलाहाबाद और सोनभद्र में दर्ज हैं.

बुलंदशहर जिला कारागार के जेल अधीक्षक ओपी कटियार ने राजेश की मौत की पुष्टि की है. मध्य प्रदेश के थाना टिमरनी जिला हरदा के रहने वाले राजेश को प्रशासनिक आधार पर फरवरी महीने मे इलाहाबाद से बुलंदशहर जिला जेल में शिफ्ट किया गया था. पिछले कई दिनों से इसकी हालत गम्भीर बनी हुई थी. जेल अधीक्षक ने बताया कि 2 सितंबर को ब्रेन हेमरेज होने पर राजेश को दिल्ली के सफदरजंग हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया था, जहां उसका उपचार चल रहा था. उन्होंने बताया कि 47 वर्षीय राजेश पर कुल 6 मामले बताए जा रहे हैं, जिनमें इलाहाबाद में 2 मामले धारा 307 के जबकि एक मामला धारा 302 के तहत और एक मुकदमा गैंगस्टर की धारा में दर्ज था. 307 का एक और मामला सोनभद्र जिले का भी आरोपी पर चल रहा था.

बता दें 12 जुलाई 2010 को मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता उर्फ नंदी के ऊपर जानलेवा हमला आरडीएक्स से किया गया था. इसकी चपेट में आने से अन्य लोगों की मौत भी हुई थी. अभी जिला न्यायालय में अभियोजन की ओर से गवाही पूर्ण नहीं हो पायी है.

इस मामले में कुल 18 आरोपित हैं. इनमें राजेश पायलट के अलावा विधायक विजय मिश्र व चाका के पूर्व ब्लाक प्रमुख दिलीप मिश्र, राजेश पायलट, महेंद्र मिश्र आदि के नाम शामिल हैं. इनमें राजेश पायलट के अलावा महेंद्र मिश्र जेल में बंद हैं. बाकी सभी आरोपी जमानत पर बाहर हैं.

(रिपोर्ट: अली शरर)

ये भी पढ़ें: 

ट्रांसफर के बाद ज्वाइन नहीं कर रहे यूपी के इन 5 पीसीएस अफसरों को नोटिस
Loading...
यूपी में काली कमाई के धन कुबेरों के दिन लदे, 150 से अधिक अफसर जाएंगे जेल

SC/ST एक्ट में बिना नोटिस गिरफ्तारी नहीं, 7 साल से कम सजा वाले मामले में नियम लागू 

...तो इस तरह राहुल गांधी पर 'दबाव' बना रही हैं बसपा सुप्रीमो मायावती!
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर