बुलंदशहर हिंसा: जीतू फौजी की गिरफ्तारी को लेकर संशय बरकरार

बुलंदशहर हिंसा में मारे गए इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह और पुलिस पर हमला करने के मामले में दर्ज एफआईआर में जीतू फौजी का नाम भी शामिल है. जीतू फौजी जम्मू-कश्मीर में सेना में सिपाही के पद पर तैनात है.

Umesh Srivastava | News18 Uttar Pradesh
Updated: December 8, 2018, 3:24 PM IST
बुलंदशहर हिंसा: जीतू फौजी की गिरफ्तारी को लेकर संशय बरकरार
जितेंद्र मलिक उर्फ जीतू फौजी
Umesh Srivastava | News18 Uttar Pradesh
Updated: December 8, 2018, 3:24 PM IST
उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में पिछले दिनों हुई हिंसा के दौरान इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या के आरोपी जीतू फौजी की गिरफ्तारी को लेकर संशय अभी भी बरकरार है. मेरठ जोन के एडीजी प्रशांत कुमार ने बताया कि जीतू फौजी की गिरफ्तारी होने के बाद उसकी जानकारी मीडिया से शेयर किया जाएगा. इस मामले की जांच कर रहे एसआईटी चीफ रामकुमार ने भी गिरफ्तारी को लेकर चुप्पी साधे हुए हैं. बताया जा रहा है कि जीतू फौजी की गिरफ्तारी के बाद उसे बुलंदशहर लाया जा सकता है.

सूत्रों के मुताबिक बुलंदशहर हिंसा में आरोपी नंबर 11 जितेंद्र मलिक उर्फ जीतू फौजी को सेना की टीम लेकर जम्मू-कश्मीर से उत्तर प्रदेश के लिए रवाना हो चुकी है. जीतू को यूपी लेकर आ रही टीम के साथ सेना का एक मेजर भी मौजूद है. इस बीच, सेना अध्यक्ष बिपिन रावत ने कहा है कि यदि जितेंद्र मलिक के खिलाफ कोई सबूत पाया जाता है और  पुलिस उसे संदिग्ध मानती है तो हम उसे पुलिस के समक्ष पेश करेंगे. हम इस मामले में पुलिस की पूरी मदद करेंगे.



वहीं बुलंदशहर हिंसा में मारे गए इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह और पुलिस पर हमला करने के मामले में दर्ज एफआईआर में जीतू फौजी का नाम भी शामिल है. जीतू फौजी जम्मू-कश्मीर में सेना में सिपाही के पद पर तैनात है. पुलिस को कुछ आरोपियों से पूछताछ में पता चला था कि गोली जीतू फौजी ने चलाई थी.
Loading...

जीतू फौजी ने अपनी सफाई में कही ये बात

सूत्रों के मुताबिक, जीतेंद्र मलिक ने अपनी यूनिट से बताया, 'मैं एफआईआर दर्ज करवाने के लिए 30 अन्य लोगों के साथ पुलिस स्टेशन गया था. लेकिन मार पिटाई शुरू हो गई और भाग गया. मैं उस जगह मौजूद नहीं था, जहां पुलिस इंस्पेक्टर को गोली मारी गई.'

बता दें कि बुलंदशहर के स्याना स्थित चिंगरावटी में गोकशी के शक को लेकर भीड़ की हिंसा में थाना कोतवाली में तैनात इंस्पेक्टर सुबोध सिंह और सुमित नामक एक अन्य युवक की मौत हो गई थी. इस मामले में 27 नामजद लोगों तथा 50-60 अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है.

ये भी पढ़ें:

प्रयागराज: कुम्भ मेले में आतंकी हमले का खतरा! यूपी ATS ने संभाली कमान

कानपुर: यूपी STF ने किया सॉल्वर गैंग का भंडाफोड़, सरगना समेत 10 गिरफ्तार

यूपी में 3 IPS अफसरों के तबादले, हिंसा के बाद हटाए गए बुलंदशहर के एसएसपी

बुलंदशहर हिंसा: शहीद इंस्पेक्टर के परिवार को एक दिन की सैलरी देंगे पुलिसकर्मी
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर