COVID-19: बुलंदशहर में तीन नए मामले, संक्रमितों की संख्या 23 हुई

कोरोना वायरस शरीर  के अलग हिस्रों पर अलग अलग तरह का प्रभाव दिखा रहा है.

कोरोना वायरस शरीर के अलग हिस्रों पर अलग अलग तरह का प्रभाव दिखा रहा है.

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के बुलंदशहर (Bulandshahr) में तीन और व्यक्ति कोविड-19 (COVID-19) से संक्रमित पाए गए हैं. इन तीन व्यक्तियों में राजकीय महिला अस्पताल में कार्यरत एक फार्मासिस्ट भी शामिल है.

  • Share this:
बुलंदशहर. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के बुलंदशहर (Bulandshahr) में तीन और व्यक्ति कोविड-19 (COVID-19) से संक्रमित पाए गए हैं. इन तीन व्यक्तियों में राजकीय महिला अस्पताल में कार्यरत एक फार्मासिस्ट भी शामिल है. इससे जिले में संक्रमित व्यक्तियों की कुल संख्या बढ़कर 23 हो गई है. यह जानकारी मंगलवार को एक अधिकारी ने दी.

बुलंदशहर के मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) के एन तिवारी ने कहा कि जांच रिपोर्ट सोमवार रात आई. सीएमओ ने कहा कि दो संक्रमितों के घर उस चिकित्सक के घर के पास स्थित हैं जिसकी गत 11 अप्रैल को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में कोरोना वायरस से मौत हो गई थी.

दम्पति ने कोविड-19 को दी मात

कर्मचारियों और मरीजों को अस्पताल से बाहर निकाला गया है और इमारत को संक्रमणमुक्त किया गया. अधिकारी ने कहा कि संक्रमित व्यक्तियों को जिले के खुर्जा नगर स्थित एक अस्पताल में एक पृथक वार्ड में रखा गया है. सीएमओ ने कहा कि इस बीच जिले में एक दम्पति कोविड-19 से ठीक हो गए हैं और उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई.
यूपी में संक्रमण के मामले बढ़कर 1294 हुए

मंगलवार को प्रदेश के प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में अब तक 1294 केस सामने आए हैं. इनमें 1134 एक्टिव केस हैं. उपचार के बाद 1294 में से 140 मरीज पूरी तरह स्वस्थ हो गए हैं और उन्हें घर भेज दिया गया है. प्रदेश के 53 जनपद कोरोना से प्रभावित हैं.

अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिया है कि कोटा से आए बच्चों पर सीएम हेल्पलाइन से निगरानी रखी जाए. सीएम योगी ने रमजान के मौके पर अधिकारियों को विशेष हिदायत देते हुए कहा है कि आवश्यक सामग्री की डोर स्टेप डिलीवरी कराई जाए. सीएम योगी ने प्रदेशवासियों से अपील की है कि रमजान के समय सहरी और रोजा इफ्तार घर पर ही करें.



कोविड संक्रमितों के इलाज के लिए ऑक्सीजन रखना अनिवार्य

अपर सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने बताया कि लॉकडाउन की समीक्षा की गई. वहीं हॉटस्पॉट के बाहर भी टेस्टिंग के लिए कहा गया है. कोविड संक्रमितों के इलाज के लिए ऑक्सीजन रखना अनिवार्य किया गया है. पुलिस कर्मियों की सुरक्षा के लिए विशेष तौर पर कहा गया है. पीपीई किट की उपलब्धता और सप्लाई चेन बनी रहेगी. उन्होंने बताया कि प्रदेश में अब तक एक करोड़ लोगों ने आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड किया है.

ये भी पढ़ें - 

COVID-19: MP में संक्रमण के मामले बढ़कर 1552 हुए, अब तक 80 की मौत

COVID-19: राजस्थान में केस बढ़कर 1735 हुए, 4 और डॉक्टर संक्रमित; 26 की मौत

दिल्ली में 75 नए मामले सामने आए, कोरोना संक्रमितों की संख्‍या हुई 2156
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज