UP पुलिस ने चंद्रशेखर आजाद के दावे को किया खारिज, कहा- फायरिंग की घटना बेबुनियाद

चंद्रशेखर आजाद ने सदर सीट पर हो रहे उपचुनाव में रविवार को अपनी पार्टी के उम्मीदवार के समर्थन में जनसभा की थी. (फाइल फोटो)
चंद्रशेखर आजाद ने सदर सीट पर हो रहे उपचुनाव में रविवार को अपनी पार्टी के उम्मीदवार के समर्थन में जनसभा की थी. (फाइल फोटो)

चंद्रशेखर आजाद (Chandrasekhar Azad) की रैली के बाद उनकी पार्टी के उम्मीदवार हाजी यामीन और असदुद्दीन औवैसी की पार्टी एआईएमआईएम के उम्मीदवार दिलशाद के समर्थकों के बीच कोतवाली नगर के रुकन सराय इलाके में झड़प हो गई थी.

  • Share this:
बुलंदशहर. उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर (Bulandshahr) जिले की पुलिस ने आजाद समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चंद्रशेखर आजाद (Chandrasekhar Azad) के इस दावे को 'बेबुनियाद' बताया है कि यहां उनके काफिले पर गोलियां चलाई (Firing) गई थीं. आजाद ने रविवार को उपचुनाव को लेकर की गई रैली के बाद एक ट्वीट कर यह आरोप लगाया था. वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह (Santosh Kumar Singh)  ने सोमवार को यहां पत्रकारों से कहा कि सिटी मजिस्ट्रेट और पुलिस क्षेत्राधिकारी (सिटी) मामले की जांच कर रहे हैं और '(आजाद के) ट्वीट में कही गईं बातें बेबुनियाद हैं.'

दरअसल, चंद्रशेखर आजाद ने सदर सीट पर हो रहे उपचुनाव में रविवार को अपनी पार्टी के उम्मीदवार के समर्थन में जनसभा की थी. आजाद की रैली के बाद उनकी पार्टी के उम्मीदवार हाजी यामीन और असदुद्दीन औवैसी की पार्टी एआईएमआईएम के उम्मीदवार दिलशाद के समर्थकों के बीच कोतवाली नगर के रुकन सराय इलाके में झड़प हो गई थी. अधिकारी ने कहा, 'वहां नारेबाजी, गाली-गलौच और हल्की-फुल्की कहासुनी हुई थी. हालांकि इस दौरान किसी को कोई नुकसान नहीं हुआ.' उन्होंने कहा कि इलाका घनी आबादी वाला है. पतली सड़क पर जाम लग गया था, जिसके बाद कहासुनी हुई.

हमारे प्रत्याशी उतारने से विपक्षी पार्टियां घबरा गई हैं
घटना के बाद आजाद ने हिंदी में ट्वीट किया था, 'बुलन्दशहर के चुनाव में हमारे प्रत्याशी उतारने से विपक्षी पार्टियां घबरा गई हैं और आज की रैली ने इनकी नींद उड़ा दी है. जिसकी वजह से अभी कायरतापूर्ण तरीके से मेरे काफिले पर गोलियां चलाई गई है. यह इनकी हार की हताशा को दिखाता है ये चाहते है कि माहौल खराब हो लेकिन हम ऐसा नही होने देंगे.' एसएसपी ने कहा कि जिला मजिस्ट्रेट ने घटनास्थल का दौरा किया और स्थानीय लोगों से पूछताछ की, जिन्होंने 'गोलीबारी की बात को पूरी तरह नकार दिया.' पुलिस ने कहा कि दोनों पक्षों ने एक दूसरे के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 307 (हत्या का प्रयास) के तहत मामला दर्ज करने के लिये शिकायत दी है. बाद में आजाद समाज पार्टी के उम्मीदवार हाजी यामीन का एक वीडियो भी सामने आया, जिसमें उन्होंने भी ऐसी किसी घटना से इनकार किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज