लाइव टीवी

बुलंदशहर हिंसा: मुख्य आरोपी योगेश सहित 4 आरोपियों को इलाहाबाद हाईकोर्ट से मिली जमानत
Bulandshahr News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 25, 2019, 10:58 PM IST
बुलंदशहर हिंसा: मुख्य आरोपी योगेश सहित 4 आरोपियों को इलाहाबाद हाईकोर्ट से मिली जमानत
बुलन्दशहर हिंसा के मुख्य आरोपी योगेश राज सहित चार आरोपियों को इलाहाबाद हाई कोर्ट से जमानत मिल गई है. राजद्रोह (धारा 124ए) के मामले में योगेश राज को जमानत मिली है.

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के बुलन्दशहर (Bulandshahr) में हुई हिंसा के मुख्य आरोपी योगेश राज (Yogesh Raj) सहित चार आरोपियों को इलाहाबाद हाई कोर्ट (Allahabad High Court) से जमानत मिल गई है.

  • Share this:
प्रयागराज. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के बुलन्दशहर (Bulandshahr) में हुई हिंसा के मुख्य आरोपी योगेश राज (Yogesh Raj) सहित चार आरोपियों को इलाहाबाद हाई कोर्ट (Allahabad High Court) से जमानत मिल गई है. बुधवार को योगेश राज को राजद्रोह (धारा 124ए) के मामले में जमानत मिली है. आपको बता दें कि हिंसा में इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या हो गई थी.

3 दिसम्बर 2018 को बुलंदशहर के स्याना में हिंसा हो गई थी. घटना के लगभग एक माह बाद मुख्य आरोपी योगेश राज को गिरफ्तार किया गया था. घटना के समय मुख्य आरोपी योगेश राज बजरंग दल का जिला संयोजक था.

दर्जन भर आरोपियों को हाईकोर्ट से मिल चुकी है जमानत
हाईकोर्ट ने योगेश राज की रिहाई के आदेश दे दिए हैं. इस मामले में पुलिस ने मुख्य आरोपी योगेश राज सहित 27 नामजद और 60 अज्ञात लोगों को आरोपी बनाया था. 27 नामजद आरोपियों में से बीजेपी नगर अध्यक्ष शिखर अग्रवाल, जीतू फौजी सहित दर्जन भर आरोपियों को इलाहाबाद हाईकोर्ट से जमानत मिल चुकी है.

पूरे यूपी में गूंजी थी घटना
बुलंदशहर के स्याना में हुई इस घटना ने पूरे यूपी को झकझोर कर रख दिया था. ऑन ड्यूटी इंस्पेक्टर की हत्या के बाद राज्य की कानून-व्यवस्था पर भी सवाल खड़े किए गए थे. खबर चारों तरफ फैलने के बाद पुलिस ने आरोपियों पर कार्रवाई की थी. गिरफ्तारी के लिए चिंगरावठी, महाब, नयाबांस अमेट और अन्य गांवों में लगातार दबिश दी गई थी. नामजद फरार आरोपियों के खिलाफ कुर्की की प्रक्रिया भी शुरू की गई थी.

जीतू फौजी ने अपनी सफाई में कही थी ये बातगिरफ्तारी के बाद जीतू फौजी ने कहा था, "मैं एफआईआर दर्ज करवाने के लिए 30 अन्य लोगों के साथ पुलिस स्टेशन गया था. लेकिन मार पिटाई शुरू हो गई और भाग गया. मैं उस जगह मौजूद नहीं था, जहां पुलिस इंस्पेक्टर को गोली मारी गई."

'अगर इंस्पेक्टर को मारी है गोली तो खुद लूंगी जान'
बुलंदशहर हिंसा के बाद जीतू फौजी का नाम आने पर उनकी मां ने कहा था अगर उनके बेटे ने पुलिस इंस्पेक्टर को गोली मारी है तो वह खुद उसकी जान ले लेंगी. उन्होंने कहा था, 'अगर कोई पुलिस वाले को मारते हुए जीतू की कोई तस्वीर या वीडियो जैसे सबूत मिलता है, तो मैं खुद उसे मार डालूंगी.' वह कहती हैं, 'मैं निर्दयी नहीं. उस पुलिसवाले और चिंगरावठी के लड़के की मौत का मुझे भी दुख हैं.'

गोकशी की अफवाह पर भड़का था मामला
बुलंदशहर के स्याना इलाके में गोकशी की अफवाह के बाद पूरा मामला भड़का था. इसके बाद घटना ने उग्र रूप अख्तियार कर लिया था. इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह जब घटनास्थल पर पहुंचे थे तो दंगाई भीड़ ने उनकी हत्या कर दी थी. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ था कि सुबोध कुमार सिंह को गोली मारने से पहले पिटाई की गई थी. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बताया गया था कि इंस्पेक्टर के सिर में गोली लगने से उनकी मौत हुई.

रिपोर्ट - सैयद अली शरर 

ये भी पढ़ें - 

चिन्मयानंद से रंगदारी मांगने के मामले में रेप पीड़िता की जमानत अर्जी खारिज

प्रेम में बाधा बनने पर नाबालिग बहन ने प्रेमी के साथ मिलकर भाई की हत्या की

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बुलंदशहर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 25, 2019, 10:13 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर