लाइव टीवी

सावधान! मोबाइल की लत कहीं सुखा न दे आपकी आंखों का पानी
Agra News in Hindi

Himanshu Tripathi | News18 Uttar Pradesh
Updated: December 17, 2019, 3:39 PM IST
सावधान! मोबाइल की लत कहीं सुखा न दे आपकी आंखों का पानी
लगातार मोबाइल देखने के चलते लोगों की आंखे अब टेड़ी होने लगी हैं. (फाइल फोटो)

आगरा (Agra) के एसएन मेडिकल कालेज (SN Medical College) में हुए एक अध्‍ययन (Study) में कई चौंकाने वाले तथ्‍य सामने आए हैं.

  • Share this:
आगरा (Agra): मोबाइल फोन (Mobile Phone) पर आप घंटों व्यस्त रहते हैं तो आप सावधान (Careful) हो जाइए. आपकी यह आदत न केवल आपकी आंखों (Eyes) के पानी को सुखा सकती है, बल्कि उन्‍हें टेढ़ा भी कर सकती है. चौंकाने वाले ये तथ्‍य आगरा (Agra) के एसएन मेडिकल कालेज (SN Medical College) में हुए एक अध्‍ययन (Study) के बाद सामने आए हैं. अध्‍ययन के दौरान पाया गया कि मोबाइल फोन का अधिक इस्‍तेमाल करने वाले ज्‍यादातर युवक-युवतियों की आंखों का पानी लगातार सूख रहा है. जिसके चलते, इन मरीजों को गंभीर परिणाम भुगतने पड़ रहे हैं.

नेत्र विशेषज्ञों के अनुसार, घंटों मोबाइल स्क्रीन पर लोगों की नजरें टिकी रहती हैं. ऐसे में कुछ लोग पलक झपकाना तक भूल जाते हैं. आंखें सूखने की यही सबसे बड़ी वजह सामने आई है. कुछ मरीजों की आंखें तो लगातार आठ-नौ घंटे मोबाइल देखने की वजह से टेढ़ी भी हो रही हैं. विशेषज्ञों की सलाह है कि मोबाइल पंद्रह से बीस मिनट देखने के बाद आंखों को रेस्ट देना जरूरी है, वरना आंखें गंभीर रोग का शिकार हो जाएंगी.

एसएन मेडिकल कालेज की आई बैंक इंचार्ज एवं प्रोफेसर डा. शेफाली मजूमदार ने न्यूज 18 को बताया कि 15-20 मिनट मोबाइल के इस्तेमाल के बाद आंखों को आराम जरूरी है, लेकिन अक्‍सर लोग ऐसा नहीं करते हैं. डा शेफाली कहती हैं कि घंटों मोबाइल, आईपैड या कम्प्यूटर स्क्रीन पर लगातार व्यस्त रहने पर आंखों में सूखापन या फिर टेढ़ापन आ जाता है. तमाम मरीज ऐसे आते हैं जो घंटों मोबाइल पर बिताते रहे और अब उनकी आंखों में सूखापन आ गया है.

पलक झपकाते रहे, आंखों को रेस्ट दें



डॉ. शेफाली मजूमदार कहती हैं कि पलक झपकाना एक स्वाभाविक प्रक्रिया है, इसलिए मोबाइल के इस्तेमाल के वक्त भी पलक झपकाते रहना चाहिए. साथ ही, लगातार मोबाइल की स्क्रीन नहीं देखना चाहिए. पंद्रह से बीस मिनट मोबाइल का इस्तेमाल करने के बाद आंखों को आराम देने से आंखों ठीक रहेंगी. उन्‍होंने बताया कि जो लोग ऐसा नहीं करेंगे, उन्हें आंखों सूखने की बीमारी से दोचार होना पड़ सकता है.

बच्चों पर दें ध्यान
आजकल बच्चे मोबाइल पर गेम खेलने में व्यस्त रहते हैं. पहले बच्चे ऐसे खेल खेलते थे, जिनमें उनके शरीर का व्यायाम हो जाता था. लेकिन, अब ज्यादातर बच्चे हर वक्त मोबाइल पर गेम खेलते रहते हैं. बच्चों में अक्‍सर यह समस्या होती है कि गेम खेलते वक्त वह पलक बहुत कम झपकाते हैं. ऐसे हालात में बच्चों की आंखों में सूखापन आने की आशंका बनी रहती है. डा शेफाली कहती हैं कि बच्चों पर अभिभावकों को खास ध्यान देना चाहिए, ताकि वह मोबाइल का कम से कम इस्तेमाल करें.

 

यह भी पढ़ें:
उन्नाव रेप केस: पीड़िता की मां बोली- अभी नहीं मिला पूरा न्‍याय
बरेली: महिला का आरोप- साल भर तक हुआ गैंगरेप, विरोध करने पर हुई मारपीट
CAA हिंसा: SP विधायक ने UP विधानसभा के बाहर शर्ट उतारकर किया प्रदर्शन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए आगरा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 17, 2019, 3:32 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर