लाइव टीवी
Elec-widget

व्‍यापम घोटाला: CBI को मिला नया 'कानपुर कनेक्‍शन', निर्वाचन कार्यालय से मांगी मदद

Amit Ganjoo | News18 Uttar Pradesh
Updated: November 22, 2019, 3:28 PM IST
व्‍यापम घोटाला: CBI को मिला नया 'कानपुर कनेक्‍शन', निर्वाचन कार्यालय से मांगी मदद
मदद मांगने आई सीबीआई को निर्वाचन कार्यालय ने बैरंग वापस भेज दिया है.

व्‍यापम घोटाला मामले में सीबीआई अब करण सिंह नामक शख्‍स की सरगर्मी से तलाश कर रही है. अपनी तलाश को जल्‍द पूरा करने के लिए सीबीआई ने कानपुर के जिला निर्वाचन कार्यालय से मदद मांगी है.

  • Share this:
कानपुर (Kanpur) : मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में हुए व्‍यापम घोटाले (Vyapam Scam) का तार अब कानपुर (Kanpur) से जुड़ गए हैं. दरअसल, इस मामले की जांच (Investigation) कर रही सीबीआई (CBI) को कानपुर में रहने वाले एक करण सिंह (Karan Singh) नामक एक शख्‍स की तलाश है. सीबीआई इस मामले में करण सिंह को एक अहम कड़ी के तौर पर देख रही है. करण सिंह की तलाश के लिए सीबीआई ने जिला निर्वाचन कार्यालय (District Election Office ) से मदद मांगी है. हालांकि यह बात दीगर है कि निर्वाचन कार्यालय ने अपने हाथ खड़े कर सीबीआई (CBI) को बैरंग वापस भेज दिया है.

उल्‍लेखनीय है कि मध्य प्रदेश में हुए व्यापम घोटाले के तार धीरे-धीरे देश के अलग-अलग शहरों से जुड़ते चले गए. इन्‍हीं शहरों में एक शहर कानपुर भी था. जांच के दौरान सीबीआई के हाथ कई ऐसे सबूत लगे, जो व्‍यापम घोटाले में कानपुर के कनेक्‍शन को मजबूती देते थे. इन्‍हीं सबूतों के आधार पर सीबीआई ने घोटाले में शामिल मेडिकल कालेज के कई छात्रों को गिरफ्तार किया था. अब इस मामले की जांच में कानपुर से एक नए नाम का खुलासा हुआ है. यह नाम करण सिंह का है.

सीबीआई ने निर्वाचन कार्यालय से मांगी मदद
व्‍यापम घोटाला मामले में सीबीआई अब करण सिंह नामक शख्‍स की सरगर्मी से तलाश कर रही है. अपनी तलाश को जल्‍द पूरा करने के लिए सीबीआई ने कानपुर के जिला निर्वाचन कार्यालय से मदद मांगी है. इस संबंध में बीते दिन सीबीआई के कुछ अधिकारी जिला निर्वाचन कार्यालय पहुंची. सीबीआई ने सहायक निर्वाचन अधिकारी से मुलाकात कर करण का पता सहित अन्‍य जानकारी साझा करने के लिए का है. सीबीआई का मानना है कि करण नाम के सभी मतदाताओं के नाम, पते और फोटो का मिलान कर आरोपी शख्‍स की तलाश पूरी की जा सकती है.

निर्वाचन कार्यालय ने मदद से किया इंकार
एक बड़ी उम्‍मीद के साथ निर्वाचन कार्यालय पहुंची सीबीआई को खाली हाथ लौटना पड़ा. दरअसल, जिला निर्वाचन कार्यालय ने सीबीआई द्वारा मांगी गई जानकारी को उपलब्ध कराने से मना कर दिया है. जिला निर्वाचन कार्यालय का कहना है कि कानपुर मे 10 विधानसभा क्षेत्र है, जिसमें 34.64 लाख वोटर है. इसमे करण सिंह को ढूढ़ पाना मुश्किल ही नही नमुमकिन है.  चुनाव आयोग सभी मतदाताओं के डाटा और फोटो पीडीएफ फाइल मे भेजा जाता है, जिसके चलते करण सिंह का नाम खोज पाना असंभव है.

यह भी पढ़ें:
Loading...

प्रदूषण जांच के नाम पर अवैध वसूली, मूक दर्शक बना प्रशासन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कानपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 22, 2019, 3:28 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...