• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • नोएडा में सुपरटेक के टावर कैसे तोड़े जाएं, इस पर 3 दिन बाद आ जाएगी CBRI की रिपोर्ट

नोएडा में सुपरटेक के टावर कैसे तोड़े जाएं, इस पर 3 दिन बाद आ जाएगी CBRI की रिपोर्ट

सुपरटेक लिमिटेड ने 31 अगस्त को उच्चतम न्यायालय द्वारा दिए गए फैसले में संशोधन की अपील की थी.

सुपरटेक लिमिटेड ने 31 अगस्त को उच्चतम न्यायालय द्वारा दिए गए फैसले में संशोधन की अपील की थी.

Noida Authority News: नोएडा अथॉरिटी सुपरटेक के दोनों टावर्स को तोड़ने के लिए किसी विदेशी कंपनी की मदद ले सकती है. चार से पांच कंपनी अथॉरिटी के संपर्क में हैं.

  • Share this:

    नोएडा. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक, सुपरटेक के दो अवैध टावर नवंबर तक तोड़े जाने हैं. नोएडा अथॉरिटी इसकी तैयारियों में लगी हुई है. अथॉरिटी सेंट्रल बिल्डिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट, रुड़की की मदद ले रही है. ऐसी चर्चा है कि तीन दिन बाद सीबीआरआई अथॉरिटी को अपनी रिपोर्ट सौंप देगी. इस रिपोर्ट में सीबीआरआई बताएगी कि दूसरे टावर्स को नुकसान पहुंचाए बिना कैसे एमरॉल्ड सोसाइटी के दो अवैध टावर्स को तोड़ा जा सकता है. सूत्रों की मानें तो नोएडा अथॉरिटी टावर्स को तोड़ने के लिए किसी विदेशी कंपनी की मदद ले सकती है. चार से पांच कंपनी अथॉरिटी के संपर्क में हैं.

    गौरतलब है कि सितम्बर में सीबीआरआई की टीम ने एमरॉल्ड सोसाइटी में बने दोनों अवैध टावर्स अपैक्स और सियान का निरीक्षण किया था. टीम ने टावर्स से जुड़ा फाउंडेशन स्ट्रक्चर प्लान भी मांगा था. टीम की सलाह पर ही टावर्स का ड्रोन से सर्वे कराया गया था.

    40-40 मंजिल के हैं अपैक्स-सियान टावर

    सुपरटेक बिल्डर पर आरोप है कि उसने ग्रीन बेल्ट और ओपन एरिया में अवैध तरीके से दो अपैक्स और सियान टावर खड़े कर दिए हैं. हर एक टावर 40 मंजिल का है. इसकी शिकायत खुद एमरॉल्ड सोसाइटी में रहने वालों ने की थी. इसके बाद यह केस सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया. जहां हाल ही मैं सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला देते हुए नोएडा अथॉरिटी को आदेश दिया था कि वह 30 नवंबर तक सुपरटेक के दोनों अपैक्स और सियान टावर को तोड़े.

    Delhi-Noida से ग्रेटर नोएडा जाने पर अब फर्राटा भरेंगे वाहन, शुरू होगा यह अंडरपास

    सुपरटेक को उठाना होगा टावर गिराने का खर्च

    सुप्रीम कोर्ट के आदेश और नियमानुसार एमरॉल्ड सोसाइटी के दोनों अपैक्स और सियान टावर को तोड़े जाने का खर्च खुश सुपरटेक को ही उठाना होगा. नोएडा अथॉरिटी टावर तोड़ने के लिए सीबीआरआई की एक्सपर्ट सलाह के साथ ही किसी दूसरी एजेंसी की मदद भी ले सकती है. वहीं आज इस मामले की जांच के लिए यूपी सरकार की ओर से गठित एसआईटी भी नोएडा आ सकती है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज