Chitrakoot news

चित्रकूट

अपना जिला चुनें

चित्रकूट में भीषण सड़क हादसा, 5 लोगों को कुचलने के बाद खाई में पलटी बस

चित्रकूट में भीषण सड़क हादसा, 5 लोगों को कुचलने के बाद खाई में पलटी बस

सभी घायलों को इलाज के लिए सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया गया है.(सांकेतिक फोटो)

Roadways Bus Accident: प्रयागराज से चित्रकूट आ रही बस ने लालापुर आश्रम के पास गुमटी में खड़े लोगों को कुचला. घायलों में 3 की हालत नाजुक. ड्राइवर के नियंत्रण खो देने की वजह से हुआ हादसा.

SHARE THIS:
चित्रकूट. प्रयागराज से चित्रकूट (Chitrakoot) आ रही राज्य परिवहन निगम की एक बस शनिवार को हादसे (Roadways Bus Accident) का शिकार हो गई. रैपुरा थाना क्षेत्र के लालापुर आश्रम के पास गुमटी में खड़े पांच लोगों को कुचल डाला और उसके बाद गहरी खाईं में पलट गई. घायलों में तीन लोगों की हालत नाजुक बताई जा रही है. रैपुरा थाने के प्रभारी निरीक्षक (एसएचओ) सुशीलचन्द्र शर्मा ने बताया कि यह हादसा शनिवार सुबह करीब साढ़े आठ बजे हुआ.

उन्होंने बताया कि प्रयागराज से जीरो रोड डिपो की एक रोडवेज बस ने चालक के नियंत्रण खोने के बाद लालापुर आश्रम के पास गुमटी में खड़े पांच लोगों को कुचला और बाद में गहरी खाईं में पलट गई. एसएचओ ने बताया कि इस हादसे में बोडरी (80), रमेश (45), मधु (पांच), चाहत (आठ) और एक अन्य व्यक्ति घायल हुआ है. इनमें तीन लोगों की हालत नाजुक है. सभी घायलों को इलाज के लिए सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया गया है.

पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया
बता दें कि उत्तर प्रदेश में इन दिनों सड़क हादसे के मामले बढ़ गए हैं. कुछ देर पहले खबर सामने आई थी कि आजमगढ़ (Azamgarh) जिले के देवगांव कोतवाली क्षेत्र के मिर्जा आदमपुर गांव के पास ट्रैक्टर व कार के बीच हुई टक्कर (Accident) में कार सवार कोषागार के लेखाकार की मौके पर ही मौत हो गई. वहीं उनका बेटा, बहू व एक अन्य व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हैं. सूचना पर पहुंची पुलिस ने घायलों को तत्काल इलाज के लिए अस्पताल भेजा. मृतक के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया.

 ट्रैक्टर से कार की टक्कर हो गई
कंधरापुर थाना क्षेत्र के दरौरा देवखरी गांव निवासी ओम प्रकाश मौर्य कोषागार में बतौर लेखाकार तैनात थे. शुक्रवार को दिन में वह कार से बेटे प्रवेश मौर्या, बहू पूजा मौर्या, पौत्र अनय मौर्या व पंकज मौर्या निवासी नईकालोनी पल्हनी थाना सिधारी के साथ वाराणसी जा रहे थे. अभी वे देवगांव कोतवाली क्षेत्र के मिर्जा आदमपुर के पास ही पहुंचे थे कि सामने से आ रहे ट्रैक्टर से कार की टक्कर हो गई.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

चित्रकूट में बड़ा हादसा, दो सगी बहनों सहित 4 किशोरियां तालाब में डूबीं

चित्रकूट में बड़ा हादसा, दो सगी बहनों सहित 4 किशोरियां तालाब में डूबीं

UP News: चित्रकूट के बोसड़ा गांव में बकरियां चराने गईं दो सगी बहनों सहित चार किशोरियों की मौत के बाद गांव में मचा कोहराम, पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा.

SHARE THIS:

चित्रकूट. जिले के बोसड़ा गांव में मंगलवार को बड़ा हादसा हो गया. यहां पर बकरी चराने गईं चार किशोरियां खेल खेल में तालाब में कूद गईं. इस दौरान गहरे पानी में जाने के बाद चारों की मौत हो गई. मृतकों में दो सगी बहनें हैं वहीं दो अन्य उनकी सहेलियां हैं. जानकारी के अनुसार सुबह अपने घर से बुधरानी और पार्वती बकरियां चराने के लिए निकलीं. इस दौरान उनके साथ दो सहेलियां किरण व सविता भी थीं. इस दौरान चारों तालाब में उतर गईं और फिर धीरे धीरे गहरे पानी की तरफ जाने के बाद चारों की डूबने से मौत हो गई.
जब किशोरियां शाम तक घर नहीं पहुंचीं तो परिजन चिंता में आ गए और उनको ढूंढना शुरू किया. इसके बाद परिजन को चारों किशोरियों के शव तालाब में तैरते हुए मिले. इसके बाद पुलिस को सूचना दी गई.

पूरे गांव में मामत का माहौल
किशोरियों के शव मिलने के साथ ही पूरे गांव में मातम का माहौल हो गया. वहीं पुलिस के एक घंटे तक मौके पर नहीं पहुंचने के चलते ग्रामीणों में नाराजगी भी दिखी. फिलहाल पुलिस ने चारों शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है. सूचना मिलने पर जिलाधिकारी सुक्रांत कुमार शुक्ला भी मौके पर पहुंचे और पीड़ित परिवारों की आर्थिक मदद की भी घोषणा की. उन्होंने कहा कि पीड़ित परिवारों की हर संभव मदद की जाएगी, साथ ही मुख्यमंत्री राहत कोष से भी मदद का ऐलान किया गया है.

कभी नहीं उतरती थीं तालाब में
वहीं परिजन का कहना है कि चारों को ही तैरना नहीं आता था और वे तालाब के आसपास भी नहीं जाती थीं. ऐसे में चारों किशोरियां तालाब में क्यों उतरीं ये परिजन के सामने बड़ा सवाल है. पीड़ित परिवार का कहना था कि बकरियां चराने के लिए किशोरियां हर दिन जाती थीं लेकिन कभी भी तालाब के आसपास नहीं जाती थीं. हालांकि पुलिस मामले को प्रथमदृष्टया हादसा ही मान रही है लेकिन फिर भी सभी पहलुओं की जांच की जा रही है.

राम मंदिर के नाम पर BJP ने ब्राम्हणों से वोट और नोट लिया, बाद में उन्हें ठोक भी दिया: सतीश मिश्रा

राम मंदिर के नाम पर BJP ने ब्राम्हणों से वोट और नोट लिया, बाद में उन्हें ठोक भी दिया: सतीश मिश्रा

UP Election 2022: BSP के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा ने कहा है कि प्रदेश में ब्राह्मण और दलित समाज के लोगों के साथ खुलेआम हत्या और उत्पीड़न किया जा रहा है. इसीलिए बसपा ने प्रत्येक जिले में उन पीड़ित लोगों के बीच जाकर उन्हें जागरूक करेगी.

SHARE THIS:

चित्रकूट. उत्तर प्रदेश के चित्रकूट जिले में बहुजन समाज पार्टी (BSP) ने प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन का आयोजन किया था, जिसमें BSP के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा (Satish chandra mishra) धर्मनगरी चित्रकूट पहुंचे. जहां पर उन्होंने भगवान श्री कामतानाथ जी (God Kamtanath ji) की पूजा अर्चना करने के बाद प्रबुद्ध वर्ग के सम्मेलन में शामिल हुए. उनका पार्टी कार्यकर्ताओं ने फूल माला पहनाकर जोरदार स्वागत किया. 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर BSP ब्राह्मणों को लुभाने के लिए लगातार प्रबुद्ध वर्ग का सम्मेलन कार्यक्रम का आयोजन कर रही है. जिसके चलते चित्रकूट जनपद में भी इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया.

BSP के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा ने कहा है कि प्रदेश में ब्राह्मण और दलित समाज के लोगों के साथ खुलेआम हत्या और उत्पीड़न किया जा रहा है. इसीलिए बसपा ने यह ठाना है कि प्रत्येक जिले में उन पीड़ित लोगों के बीच जाकर उन को जागरूक करने का काम करेंगे. बीजेपी ने राम मंदिर के नाम पर ब्राह्मणों से वोट भी लिये और नोट भी लिया इसके बाद उनको गोली मारने का आदेश भी दिया. राम मंदिर के लिए बीजेपी ने कुछ नहीं किया, जो किया सर्वोच्च न्यायालय ने किया. जिस तरह किसानों के बिल को हल्ला मचाकर बीजेपी ने पास करा लिया. उसी तरह राम मंदिर के निर्माण के लिए भी बीजेपी को बिल पास कर राम मंदिर निर्माण करना चाहिए था.

हजारों करोड़ निकाले फिर भी अयोध्या का बुरा हाल: सतीश चंद्रा मिश्रा

अयोध्या के नाम पर हजारों करोड़ रुपये का बजट निकाल लिया गया. फिर भी पूरे प्रदेश में अयोध्या का सबसे बुरा हाल है. अयोध्या में सिर्फ अपने प्रचार के नाम पर पैसा खर्च किया गया है. बिकरु कांड में फर्जी रिपोर्ट पेश की गई है. विक्रम कांड के नाम पर निर्दोष लोगों की हत्या कराई गई है. बीएसपी की सरकार आने पर मामले की जांच कराई जाएगी. प्रदेश में हर 2 घंटे में यूपी में एक महिला के साथ बलात्कार हो रहा है. प्रदेश की जनता भारतीय जनता पार्टी की सरकार से परेशान हो चुकी है. इसलिए 2022 के चुनाव में बहुजन समाज पार्टी को 2005 के चुनाव से ज्यादा सीटें मिलेंगी.

Sarkari Naukri 2021: यूपी में शिक्षक सहित कई पदों पर निकली है भर्तियां, तीन दिन शेष

Sarkari Naukri 2021: यूपी में शिक्षक सहित कई पदों पर निकली है भर्तियां, तीन दिन शेष

Sarkari Naukri 2021: यूपी में समग्र शिक्षा अभियान के तहत शिक्षक सहित विभिन्न पदों पर भर्तियां निकली हैं. इन पदों के लिए अभ्यर्थी आधिकारिक वेबसाइट के जरिए 28 अगस्त 2021 तक आवेदन कर सकते हैं.  

SHARE THIS:

Sarkari Naukri 2021. समग्र शिक्षा अभियान (Sarva Shiksha Abhiyan) के तहत यूपी में फुल-टाइम टीचर सहित विभिन्न पदों पर भर्तियां निकली हैं. इन पदों के लिए आवेदन की प्रक्रिया जारी है. आवेदन की अंतिम तिथि में तीन दिन का समय शेष बचा है. ऐसे में जिन अभ्यर्थियों ने अभी तक इन पदों के लिए आवेदन नहीं किया है. वह आधिकारिक वेबसाइट chitrakoot.nic.in के जरिए 28 अगस्त 2021 तक आवेदन कर सकते हैं.  कुल 12 रिक्त पदों पर भर्तियां की जाएगी.

इन रिक्त पदों पर होगी भर्तियां
फुल-टाइम टीचर (गणित) – 1 पद
फुल-टाइम टीचर ( विज्ञान) – 4 पद
फुल-टाइम टीचर (अंग्रेजी) – 1 पद
पार्ट-टाइम टीचर (शारीरिक शिक्षा) – 2 पद
पार्ट-टाइम टीचर (कला एवं संगीत) – 2 पद
अकाउंटेंट – 1 पद
असिस्टेंट कुक – 1 पद

शैक्षणिक योग्यता
फुल-टाइम टीचर गणित व विज्ञान के पदों पर आवेदन करने वाले के पास किसी बीएससी की डिग्री के साथ बीएड की भी डिग्री होनी चाहिए. वहीं फुल-टाइम टीचर (अंग्रेजी) के पद के लिए अभ्यर्थी का अंग्रेजी से ग्रेजुएशन होना चाहिए. साथ ही बीएड की भी डिग्री होनी चाहिए. अकाउंटेंट पद के लिए अभ्यर्थी को कॉमर्स में स्नातक होना चाहिए. वहीं असिस्टेंट कुक के लिए अधिकतम शैक्षणिक योग्यता 8वीं पास निर्धारित की गई है.

आयु सीमा
इन विभिन्न पदों पर आवेदन करने वाले अभ्यर्थी की उम्र 25 वर्ष से 45 वर्ष के बीच होनी चाहिए. अभ्यर्थियों के आयु की गणना 1 अप्रैल 2021 से की जाएगी. अभ्यर्थी इस भर्ती से संबंधित अधिक जानकारी के लिए जारी आधिकारिक नोटिफिकेशन को देख सकते हैं.

चयन प्रक्रिया
असिस्टेंट कुक के पदों पर अभ्यर्थियों का चयन केवल इंटरव्यू के जरिए किया जाएगा. वहीं अन्य पदों पर अभ्यर्थियों का चयन शैक्षणिक योग्यता के आधार पर तैयार की गई मेरिट सूची के जरिए किया जाएगा. चयनित अभ्यर्थियों की नियुक्ति चित्रकूट जिले में की जाएगी. जारी आधिकारिक नोटिफिकेशन के अनुसार फुल-टाइम टीचर, अकाउंटेंट और असिस्टेंट कुक के पदों पर केवल महिला अभ्यर्थियों का ही चयन किया जाएगा. इस भर्ती के तहत चयनित अभ्यर्थियों की नियुक्ति संविदा के तहत की जाएगी.

इस पते पर भेजना होगा आवेदन
इन पदों के लिए आवेदन करने के लिए अभ्यर्थी आधिकारिक वेबसाइट से आवेदन पत्र को डाउनलोड कर सकते हैं. आवेदन पत्र को रजिस्टर्ड डाक के जरिए 28 अगस्त 2021 शाम 5 बजे तक जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय, चित्रकूट में जमा करना होगा.

यह भी पढ़ें –
UP PET 2021: यूपी पीईटी के क्वेश्चन पेपर हुए जारी, इन आसान स्टेप्स से करें डाउनलोड
GDS Recruitment 2021: यहां निकली है ग्रामीण डाक सेवक की भर्ती, 10वीं पास करें आवेदन

 महत्वपूर्ण तिथियां
नोटिफिकेशन जारी होने की तिथि – 13 अगस्त 2021
आवेदन की अंतिम तिथि – 28 अगस्त 2021
आधिकारिक वेबसाइट – chitrakoot.nic.in

SSA Recruitment 2021: यूपी में शिक्षक सहित इन पदों पर निकली है नौकरियां, जल्द करें आवेदन

SSA Recruitment 2021: यूपी में शिक्षक सहित इन पदों पर निकली है नौकरियां, जल्द करें आवेदन

SSA Recruitment 2021:  उत्तर प्रदेश में समग्र शिक्षा अभियान के तहत शिक्षक सहित विभिन्न पदों पर भर्तियां निकली हैं. इन पदों के लिए अभ्यर्थी निर्धारित अंतिम तिथि तक आधिकारिक वेबसाइट के जरिए आवेदन कर सकते हैं.  

SHARE THIS:

SSA Recruitment 2021. समग्र शिक्षा अभियान (Sarva Shiksha Abhiyan) के तहत यूपी में फुल-टाइम टीचर सहित विभिन्न पदों पर भर्तियों के लिए नोटिफिकेशन जारी किया गया है. इन पदों के लिए अभ्यर्थी आधिकारिक वेबसाइट chitrakoot.nic.in के जरिए आवेदन कर सकते हैं. जारी नोटिफिकेशन के अनुसार कुल 12 रिक्त पदों पर भर्तियां की जाएगी.

जारी आधिकारिक नोटिफिकेशन के अनुसार फुल-टाइम टीचर, अकाउंटेंट और असिस्टेंट कुक के पदों पर केवल महिला अभ्यर्थियों का ही चयन किया जाएगा. इस भर्ती के तहत चयनित अभ्यर्थियों की नियुक्ति संविदा के तहत की जाएगी.

इन रिक्त पदों पर होगी भर्तियां
फुल-टाइम टीचर (गणित) – 1 पद
फुल-टाइम टीचर ( विज्ञान) – 4 पद
फुल-टाइम टीचर (अंग्रेजी) – 1 पद
पार्ट-टाइम टीचर (शारीरिक शिक्षा) – 2 पद
पार्ट-टाइम टीचर (कला एवं संगीत) – 2 पद
अकाउंटेंट – 1 पद
असिस्टेंट कुक – 1 पद

 शैक्षणिक योग्यता
फुल-टाइम टीचर गणित व विज्ञान के पदों पर आवेदन करने वाले के पास किसी बीएससी की डिग्री के साथ बीएड की भी डिग्री होनी चाहिए. वहीं फुल-टाइम टीचर (अंग्रेजी) के पद के लिए अभ्यर्थी का अंग्रेजी से ग्रेजुएशन होना चाहिए. साथ ही बीएड की भी डिग्री होनी चाहिए. अकाउंटेंट पद के लिए अभ्यर्थी को कॉमर्स में स्नातक होना चाहिए. वहीं असिस्टेंट कुक के लिए अधिकतम शैक्षणिक योग्यता 8वीं पास निर्धारित की गई है.

आयु सीमा
इन विभिन्न पदों पर आवेदन करने वाले अभ्यर्थी की उम्र 25 वर्ष से 45 वर्ष के बीच होनी चाहिए. अभ्यर्थियों के आयु की गणना 1 अप्रैल 2021 से की जाएगी. अभ्यर्थी इस भर्ती से संबंधित अधिक जानकारी के लिए जारी आधिकारिक नोटिफिकेशन को देख सकते हैं.

 चयन प्रक्रिया
असिस्टेंट कुक के पदों पर अभ्यर्थियों का चयन केवल इंटरव्यू के जरिए किया जाएगा. वहीं अन्य पदों पर अभ्यर्थियों का चयन शैक्षणिक योग्यता के आधार पर तैयार की गई मेरिट सूची के जरिए किया जाएगा. चयनित अभ्यर्थियों की नियुक्ति चित्रकूट जिले में की जाएगी.

 इस पते पर भेजना होगा आवेदन 
इन पदों के लिए आवेदन करने के लिए अभ्यर्थी आधिकारिक वेबसाइट से आवेदन पत्र का डाउनलोड कर सकते हैं. आवेदन पत्र को रजिस्टर्ड डाक के जरिए 28 अगस्त 2021 शाम 5 बजे तक जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय, चित्रकूट में जमा करना होगा.

यह भी पढ़ें –
Teacher Recruitment 2021: शिक्षकों के 4000 से अधिक पदों पर भर्तियां, जानें कब से शुरू हो रहा आवेदन
UPSSSC PET Admit Card : यूपीएसएसएससी पीईटी के एडमिट कार्ड जारी, 20 लाख अभ्यर्थी देंगे परीक्षा

 महत्वपूर्ण तिथियां
नोटिफिकेशन जारी होने की तिथि – 13 अगस्त 2021
आवेदन की अंतिम तिथि – 28 अगस्त 2021
आधिकारिक वेबसाइट – chitrakoot.nic.in

यहां देखें नोटिफिकेशन

1857 में मेरठ से नहीं, बल्कि 15 साल पहले इस जिले से धधकी थी आजादी की पहली चिंगारी

1857 में मेरठ से नहीं, बल्कि 15 साल पहले इस जिले से धधकी थी आजादी की पहली चिंगारी

75th Amrit Mahotsav : मेरठ से लगभग 15 साल पहले बुंदेलखंड के चित्रकूट जिले में स्वाधीनता की पहली चिंगारी धधकी थी. स्वतंत्रता के दीवानों ने पवित्र मंदाकिनी नदी के किनारे अंग्रेजों द्वारा गोकशी किए जाने से नाराज होकर उन्हें यहां से खदेड़ने और सबक सिखाने की ठानी थी.

SHARE THIS:

चित्रकूट. देश को अंग्रेजों के चंगुल से आजाद कराने के लिए प्रारंभ हुआ स्वाधीनता संग्राम आंदोलन 1857 से माना जाता है, लेकिन यह हकीकत नहीं है. बल्कि इसके भी लगभग 15 साल पहले बुंदेलखंड के चित्रकूट जिले में स्वतंत्रता के दीवानों ने पवित्र मंदाकिनी नदी के किनारे अंग्रेजों द्वारा गोकशी किए जाने से नाराज होकर उन्हें यहां से खदेड़ने और सबक सिखाने के लिए ठान लिया था. इसके लिए हिंदू-मुस्लिम सभी लोगों ने एकजुट होकर यह तय किया कि चित्रकूट की मऊ तहसील जो अंग्रेजों के बैठने का मुख्य स्थान हुआ करता था. सब लोग वहीं पहुंचकर एक पंचायत लगाएंगे और पंचायत में गोकशी के लिए इन्हें जिम्मेदार ठहराते हुए सजा के रूप में पेड़ में फांसी पर चढ़ा दिया जाएगा.

6 जून 1842 को बड़ी संख्या में लोग एकत्र होकर मऊ पहुंचे और वहां पर छह अंग्रेज अफसरों को बंधक बना लिया इसके बाद मुकदमा उनके खिलाफ मुकदमा चलाकर फांसी पर चढ़ा दिया । चित्रकूट में हुई इस घटना का व्यापक असर हुआ और पूरे बुंदेलखंड में क्रांतिकारियों ने अंग्रेजो के छक्के छुड़ा दिए जिसके फलस्वरूप लगभग 3 सप्ताह तक बुंदेलखंड आजाद रहा. चित्रकूट में अंग्रेजों को फांसी देने की घटना का उल्लेख तत्कालीन बांदा जिले के गजेटियर में भी मिलता है.

गोरों को फांसी देने से आक्रोश फैलता गया

चित्रकूट से देश को आजाद कराने की शुरु हुई. इस मुहिम में लोग जुड़ते गए और कारवां बनता गया, अंग्रेज अफसरों को फांसी पर लटका देने से आग बबूला अंग्रेजों ने बुंदेलखंड में आक्रमण कर दिया. चित्रकूट के मऊ तहसील के कई क्रांतिकारियों को खजाना लूटने के आरोप में उन्हें मसीना भाग में फांसी पर लटका दिया गया, जिससे लोगों मे काफी आक्रोश अंग्रेजों के खिलाफ हो गया. गोरों को भगाने को लेकर क्रांति की अग्नि और तेज धधक उठी, लेकिन अंग्रेजों की यातना का यह दौर लगातार जारी रहा.

जिस जगह गोरों को फांसी दी गई, वहीं हिंदुस्तानियों को फंदे पर लटकाया

मऊ में जिस जगह पर अंग्रेजों को फांसी पर चढ़ाया गया था. उसी स्थान पर गोरों ने स्वतंत्रता संग्राम शामिल में कई लोगों को फांसी पर चढ़ा कर बदला लेते रहे. आज चित्रकूट के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी उस मंजर को याद कर सिहर उठते हैं. बुंदेलखंड में अब मात्र तीन स्वतंत्रता सेनानी बचे है, जिनमें से चित्रकूट के बीपी शुक्ला इनके अनुसार अंग्रेजों का रवैया इतना क्रूर था कि लोग उनके नाम से ही सहम जाते थे.

चित्रकूट के मंदिर में औरंगजेब की तस्वीर पर बवाल, महंत समेत 3 के खिलाफ FIR

चित्रकूट के मंदिर में औरंगजेब की तस्वीर पर बवाल, महंत समेत 3 के खिलाफ FIR

Chitrakoot News: यूपी के चित्रकूट में प्राचीन यज्ञवेदी मंदिर के प्रचार-प्रसार के लिए महंत ने मुगल शासक औरंगजेब की तस्वीर वाला बैनर लगाया. हिंदू संगठन की शिकायत पर पुलिस ने दर्ज किया मामला.

SHARE THIS:

चित्रकूट. उत्तर प्रदेश के चित्रकूट में प्राचीन यज्ञवेदी मंदिर की दीवार पर मुगल बादशाह औरंगजेब की तस्वीर वाला बैनर लगाने को लेकर बवाल मच गया है. रामघाट में मंदाकिनी तट पर स्थित मंदिर पर लगे बैनर को लेकर हिंदू युवा वाहिनी ने पुलिस में शिकायत की थी. इसके बाद महंत समेत तीन लोगों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज की गई है. बताया गया कि आरोपी महंत सत्यप्रकाश ने मंदिर के प्रचार-प्रसार करने के मकसद से अपनी और औरंगजेब की तस्वीरों वाला बैनर बनवाया था.

महंत की यह हरकत हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं को नागवार गुजरी. संगठन के जिलाध्यक्ष बुद्ध प्रकाश ने बीते गुरुवार को कर्वी कोतवाली में इसको लेकर तहरीर दी थी, जिसके बाद पुलिस ने महंत समेत 3 के खिलाफ एफआईआर दर्ज की. कर्वी कोतवाली में दी गई तहरीर में कहा गया है कि यज्ञवेदी मंदिर के महंत सत्यप्रकाश दास और उनके सहयोगी चरण दास व पुजारी ने मंदिर और खुद का प्रचार करने के लिए बैनर बनवाया था. बुद्ध प्रकाश ने कहा कि 16वीं सदी में पन्ना नरेश के बनवाए मंदिर की प्रचार सामग्री में मुगल शासक को महान दर्शाने का काम घृणित है.

इधर, मंदिर के महंत सत्यप्रकाश दास ने कहा कि मंदिर में औरंगजेब का ताम्रपत्र मौजूद है. मंदिर को लेकर उन्होंने जो लोगों से सुना था और पढ़ा था, उसी के आधार पर यह बैनर बनवाया गया, जिसमें औरंगजेब की तस्वीर लगाई गई. पूरे मामले में सीओ सिटी शीतला प्रसाद पांडेय ने कहा कि सामाजिक संगठन की शिकायत के आधार पर आईपीसी की धारा 151 के तहत रिपोर्ट दर्ज की गई है. मामले में एक को हिरासत में लिया जा चुका है, जबकि दो अन्य आरोपियों की पुलिस तलाश कर रही है.

चित्रकूट: दोस्तों के साथ पीने गया था शराब, लाठी-डंडों से युवक की पीट-पीटकर हत्या, FIR

चित्रकूट: दोस्तों के साथ पीने गया था शराब, लाठी-डंडों से युवक की पीट-पीटकर हत्या, FIR

कर्वी कोतवाली के थानेदार (SHO) वीरेंद्र त्रिपाठी ने बताया कि मृतक की पत्नी उमा ने सुनील व चुन्नू के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट (FIR) दर्ज कराई है. उन्होंने बताया कि आरोपियों की तलाश में दबिश जारी है

SHARE THIS:

चित्रकूट. उत्तर प्रदेश के चित्रकूट (Chitrakoot) जिले में शुक्रवार देर शाम कुछ लोगों ने एक युवक को लाठी-डंडों से पीटकर हत्या (Murder) कर दी. घटना से गुस्साए परिजनों ने दो युवकों पर हत्या का आरोप लगाया है. आरोपी मौके से फरार हैं. देर शाम पुलिस ने पत्नी की तहरीर पर गैर इरादतन हत्या की रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस मृतक के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. मौत के बाद मृतक के घर में कोहराम मचा हुआ है.

मामला कर्वी कोतवाली के खटिकाना मोहल्ला की है. बताया जा रहा है कि शंकरगंज खटिकाना मोहल्ला निवासी नितिन रैकवार ने बताया कि पिता धवेला (38) पड़ोसी सुनील रैकवार व चुन्नू केवट के साथ भैरोपागा शराब पीने गए थे. शराब पीने के बाद पिता अकेले लौट आए और दरवाजे पर बैठे थे. इसी बीच दो युवक डंडा लेकर आए और पिता से गाली गलौज करते हुए पिटाई कर दी. आरोपी उन्हें अकेले छोड़कर आने के लिए गाली दे रहे थे. मोहल्ले वालों को आता देख हमलावर फरार हो गए.

मरीजों के साथ लापरवाही करने वाले एंबुलेंस संचालकों पर होगी कठोर कार्रवाई- सीएम योगी

पड़ोसियों की मदद से पिता को जिला अस्पताल ले गए, जहां डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया. इधर घटना के गुस्साए लोगों ने आरोपियों की गिरफ्तारी व मुआवजे की मांग को लेकर झांसी-मिर्जापुर मार्ग पर जाम लगाने की कोशिश की. कर्वी कोतवाली के थानेदार वीरेंद्र त्रिपाठी ने बताया कि मृतक की पत्नी उमा ने सुनील व चुन्नू के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई है. उन्होंने बताया कि आरोपियों की तलाश में दबिश जारी है. जल्द ही पुलिस ने सभी लोगों को गिरफ्तार करने का दावा किया है.

Sarkari naukri : यूपी के इस जिले में आंगनवाड़ी पदों पर भर्तियां, 5वीं पास के लिए भी मौका

Sarkari naukri : यूपी के इस जिले में आंगनवाड़ी पदों पर भर्तियां, 5वीं पास के लिए भी मौका

Sarkari naukri : यूपी आंगनवाड़ी भर्ती 2021 के तहत चित्रकूट जिले में आंगनवाड़ी कार्यकत्री और सहायिका के कुल 516 पदों पर भर्तियां होनी हैं. महिलाओं के लिए सरकारी नौकरी का शानदार मौका है.

SHARE THIS:
नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश सरकार के बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग की ओर से 53 हजार आंगवाड़ी कार्यकत्री और सहायिकाओं की भर्ती प्रक्रिया चल रही है. इसी क्रम में अब चित्रकूट जिले के लिए आवेदन शुरू हो गए हैं. इससे पहले आजमगढ़, जौनपुर, लखनऊ, गोंडा, महोबा, कानपुर नगर और बाराबंकी जिलों के लिए ऑनलाइन आवेदन हो चुके हैं.

चित्रकूट में आंगनवाड़ी कार्यकत्री, मिनी आंगवाड़ी कार्यकत्री और आंगवाड़ी सहायिका के कुल 516 पदों पर भर्ती होनी है. इसमें आंगनवाड़ी कार्यकत्री की 207 वैकेंसी, मिनी आंगनवाड़ी कार्यकत्री के लिए 47 और आंगनवाड़ी सहायिका के लिए 262 वैकेंसी है. आवेदन के इच्छुक अभ्यर्थी बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग की वेबसाइट http://balvikasup.gov.in पर जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं. आवेदन की अंतिम तिथि नौ अगस्त 2021 है.

ब्लॉकवाइज वैकेंसी का विवरण

कर्वी-
आंगनवाड़ी कार्यकत्री- 90 पद
मिनी आंगनवाड़ी कार्यकत्री- 11 पद
आंगनवाड़ी सहायिका- 92 पद

पहाड़ी-
आंगनवाड़ी कार्यकत्री- 21 पद
मिनी आंगनवाड़ी कार्यकत्री- 13 पद
आंगनवाड़ी सहायिका- 25 पद

रामनगर-
आंगनवाड़ी कार्यकत्री- 26 पद
मिनी आंगनवाड़ी कार्यकत्री- 07 पद
आंगनवाड़ी सहायिका- 51 पद

मऊ-
आंगनवाड़ी कार्यकत्री- 21 पद
मिनी आंगनवाड़ी कार्यकत्री- 05 पद
आंगनवाड़ी सहायिका- 38 पद

मानिकपुर-
आंगनवाड़ी कार्यकत्री- 45 पद
मिनी आंगनवाड़ी कार्यकत्री- 11 पद
आंगनवाड़ी सहायिका- 51 पद

शहर-
आंगनवाड़ी कार्यकत्री- 04 पद
मिनी आंगनवाड़ी कार्यकत्री-00 पद
आंगनवाड़ी सहायिका- 05 पद

आवश्यक शैक्षिक योग्यता

-आंगनवाड़ी कार्यकत्री और मिनी आंगनवाड़ी कार्यकत्री के लिए कम से कम 10वीं पास होना चाहिए.
- आंगनवाड़ी सहायिका के लिए न्यूनतम शैक्षिक योग्यता पांचवीं पास है.

आयु सीमा-
आवेदन के लिए न्यूनतम आयु 21 वर्ष और अधिकतम 45 वर्ष है. आंगनवाड़ी सहायिका के पद पर कार्यरत अभ्यर्थियों के लिए अधिकतम आयु सीमा 50 वर्ष है. आयु की गणना एक जुलाई 2021 से मानी जाएगी. आंगनवाड़ी सहायिका के रूप में पांच साल पूरा कर चुकी अभ्यर्थियों/विधवा/परित्यक्ता/गरीबी रेखा से नीचे जीवनयापन करने वाले अभ्यर्थियों को चयन में वरीता मिलेगी.

ये भी पढ़ें

Odisha CS Preliminary Exam: ओडिशा राज्य सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 27 अगस्त को, देखें डिटेल

Career Counseling Webinar: NSS, UNICEF का राज्य स्तरीय एक दिवसीय करियर काउंसलिंग वेबिनार संपन्न

बाघों के बढ़ते हमलों के बीच योगी सरकार ने उठाया बड़ा कदम, यूपी के इन जिलों में बनेंगे एक रिवाइल्डिंग और 4 रेस्क्यू सेंटर्स

बाघों के बढ़ते हमलों के बीच योगी सरकार ने उठाया बड़ा कदम, यूपी के इन जिलों में बनेंगे एक रिवाइल्डिंग और 4 रेस्क्यू सेंटर्स

Tiger Rescue Centres in UP: उत्‍तर प्रदेश में लोगों को पर बढ़ते बाघों के हमले से परेशान योगी सरकार (Yogi Government) ने एक बड़ा कदम उठाते हुए चार नये रेस्क्यू सेंटर्स की स्थापना के साथ ही एक रिवाइल्डिंग सेंटर (Rewilding Center) बनाने का फैसला किया है. जबकि इसका निर्माण कंपनसेटरी डिफॉरेस्टेशन फंड मैनेजमेंट एंड प्लानिंग अथॉरिटी की निधि से किया जायेगा.

SHARE THIS:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश में टाइगर (Tiger) जैसे वन्यजीवों की संख्या में लगातार बढ़ात्तरी हो रही है, लेकिन बढ़ती आबादी के चलते उनका प्राकृतवास घटता जा रहा है. इसके चलते आये दिन मानव वन्यजीव संघर्ष की घटनाएं भी लगातार बढ़ती जा रही हैं. इस दौरान एक ओर जहां जंगलों के आस-पास बसें गांवों में टाइगर लोगों को अपना निवाला बनाते नजर आ रहे हैं, तो वहीं दूसरी ओर जनहानि को रोकने के लिए किये जाने वाले रेस्क्यू ऑपरेशन (Rescue Operation) में इन वन्यजीवों को भी एक बडे़ स्तर पर नुकसान हो रहा है, क्योंकि रेस्क्यू ऑपरेशन में घायल वन्यजीवों का पहले सैकड़ों किलोमीटर दूर स्थित चिड़ि‍याघरों या फिर रेस्क्यू सेंटर में ले जाकर उनका इलाज किया जाता है. ऐसे में योगी सरकार (Yogi Government) ने इन वन्यजीवों के संरक्षण के लिए प्रदेश के 4 क्षेत्रो में 4 नये रेस्क्यू सेंटर्स की स्थापना के साथ ही एक रिवाइल्डिंग सेंटर की भी स्थापना किए जाने का फैसला किया है.

दरअसल, अब तक उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में अगर टाइगर जैसा कोई खतरनाक वन्य जीव जंगल से भटक कर गांवों या शहरो तक पहुंच जाता है, तो ऐसी स्थित में एक तो वो खुद लोगों के जीवन के लिए सबसे बड़ा खतरा बन जाता है, वहीं कई बार उससे बचने के लिए या तो स्थानीय लोगों द्वारा उस पर हमला बोल दिया जाता है. जबकि कई बार ऐसे वन्यजीव रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान भी गंभीर रूप से घायल हो जाते हैं, जिसके बाद इन वन्यजीवों की जान बचाने के लिए काफी लंबी दूरी तय करके इन्हें सिर्फ लखनऊ और कानपुर स्थित चिड़ि‍याघर में ही लाकर इनका सही से इलाज किया जाता है. जिसके चलते तत्काल इलाज के अभाव में कई बार इन दुर्लभ वन्यजीवों की मौत भी हो जाती है.

अब यहां बनेंगे नये सेंटर
अब योगी सरकार नें प्रदेश के पीलीभीत, महराजगंज, मेरठ और चित्रकूट में 4 नये रेस्क्यू सेंटर्स बनाने का फैसला किया है. इन रेस्क्यू सेंटर्स का निर्माण यूपी कैंम्पा ( कंपनसेटरी डिफॉरेस्टेशन फंड मैनेजमेंट एंड प्लानिंग अथॉरिटी) की निधि से किया जायेगा.

रिवाइल्डिंग सेंटर से होगा ये बड़ा फायदा
मुख्य वन संरक्षक मुकेश कुमार के मुताबिक, पीलीभीत में एक रिवाइल्डिंग सेंटर की भी स्थापना की जायेगी. जिसमें मानव वन्यजीव संघर्ष की घटनाओं को रोकने के लिये जंगलों से भटककर मानव बाहुल आबादी में रह रहे वन्यजीवों को पकड़कर लाया जायेगा. इस रिवाइल्डिंग सेंटर में इन वन्यजीवों पर पडे़ मानव छाप के असर के चलते इनके स्वाभाव में आये बदलाव और आक्रामकता को कम करने के लिये सभी सुविधाए मौजूद रहेंगी. जिसके तहत रेस्क्यू कर लाये गये स्वस्थ वन्यजीवों को उनके अनुकूल प्रकृतवास में छोड़ने से पहले उनके स्वाभाव के अनुकूल ही इन रिवाइल्डिंग सेंटर को बनाया जा रहा है. यह रिवाइल्डिंग सेंटर न सिर्फ काफी बडे़ क्षेत्र में बनाया जायेगा बल्कि इसमें वन्यजीवों के खाने-पीने और रहने के लिये उनके प्राकृतवास की तरह ही सुविधा मुहैय्या कराई जायेगी. इस दौराने टाइगर जैसे वन्यजीवों के भोजन के लिये कुछ अन्य वन्यजीवों को भी छोड़ा जायेगा, जिसे टाइगर खुद शिकार करके खा सकेंगे. फिर कुछ समय बाद इन वन्यजीवों को दोबारा किसी जंगल में छोड़ दिया जायेगा.

चित्रकूट: सबरी जलप्रपात घूमने गए 4 लोग नदी में डूबे, 3 सैलानियों की मौत, एक सुरक्षित

चित्रकूट: सबरी जलप्रपात घूमने गए 4 लोग नदी में डूबे, 3 सैलानियों की मौत, एक सुरक्षित

बता दें कि यह कोई पहली घटना नहीं है, इससे पहले भी इसी जगह रक्षाबंधन के दिन कपड़ा व्यापारी के बेटे की इसी कुंड में डूबने से मौत (Death) हो गई थी.

SHARE THIS:
चित्रकूट. यूपी के चित्रकूट (Chitrakoot) जिले के मारकुंडी स्थित सबरी जलप्रपात घूमने गए चार लोग रविवार को नदी (River) में डूब गए. इस हादसे में 3 युवकों की मौत हो गई, जबकि एक को गोताखोरों की मदद से सुरक्षित बाहर निकाला गया. मौके पर पहुंची मारकुंडी पुलिस ने बचे लोगों को प्राथमिक उपचार के लिए नजदीकी अस्पताल में भर्ती करवाया है. पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है.

मामला मारकुंडी थाना क्षेत्र के शवरी जलप्रपात का है. जानकारी के मुताबिक, बांदा जिले के रहने वाले साहू प्रभारी के चार युवक चित्रकूट के शवरी जलप्रपात घूमने के लिए गए हुए थे. तभी जलप्रपात के ऊपर चारों युवक एंजॉय कर रहे थे तभी तेज बहाव के कारण चारों युवक बह गए. जिससे शोर सुनकर लोगों ने चारों युवकों को पुलिस और गोताखोरों की मदद से तलाश शुरू हुई.

Video: चंदौली के PDDU रेलवे स्टेशन पर टला बड़ा हादसा, रेलकर्मी के ऊपर से गुजरी ट्रेन

पीयूष उर्फ लाला की डेड बॉडी जलकुंड में मिल गई और मोहित और साहिल साहू को गंभीर हालत में इलाज के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भेजा गया. जहां दोनों की इलाज के दौरान मौत हो गई है. हादसे में 3 लोगों की मौत हो गई. और चौथे युवक आकाश को गोताखोरों ने सुरक्षा पूर्वक बचा लिया है. वहीं घटना के बाद से परिजनों में कोहराम मचा हुआ है. बता दें कि यह कोई पहली घटना नहीं है, इससे पहले भी इसी जगह रक्षाबंधन के दिन कपड़ा व्यापारी के बेटे की इसी कुंड में डूबने से मौत हो गई थी.
Load More News

More from Other District

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज