अपना शहर चुनें

States

चित्रकूट: डकैत बबुली कोल की खोज में कॉम्बिंग जारी, मुठभेड़ में एक दरोगा शहीद, एक घायल

चित्रकूट जिले के मानिकपुर के जंगल में गुरुवार सुबह 7 लाख के इनामी डकैत बबुली कोल और उसके गिरोह के साथ हुई मुठभेड़ में रैपुरा थाने में तैनात सब इंस्पेक्टर जयप्रकाश सिंह शहीद हो गए. इस मुठभेड़ में एक घायल डकैत समेत 4 डकैतों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 24, 2017, 5:50 PM IST
  • Share this:
चित्रकूट जिले के मानिकपुर के जंगल में गुरुवार सुबह 7 लाख के इनामी डकैत बबुली कोल और उसके गिरोह के साथ हुई मुठभेड़ में रैपुरा थाने में तैनात सब इंस्पेक्टर जयप्रकाश सिंह शहीद हो गए.

इस मुठभेड़ में एक घायल डकैत समेत 4 डकैतों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. वहीं मुठभेड़ में बाहिलपुरवा  सब इंस्पेक्टर वीरेन्द्र त्रिपाठी को भी गोली लगी है. वीरेंद्र त्रिपाठी को मानिकपुर स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया है.

डकैतों की तलाश में कॉम्बिंग जारी है. सुबह से कई घंटे तक चली पुलिस और बदमाशों में मुठभेड़ चली. इस दौरान बदमाशों से मुठभेड़ में एक बंदूक और एक राइफल बरामद की गई है.



जानकारी के अनुसार चित्रकूट और मध्यप्रदेश पुलिस ने जंगल की घेराबंदी कर दी है. अपर पुलिस महानिदेशक से लेकर डीईजी, कमिश्नर के नेतृत्व में जंगलों में सर्च अभियान चलाया जा रहा है. मानिकपुर थाना क्षेत्र के निहि चिरैइया के जंगलों में सर्च अभियान चलाया जा रहा है.
बांदा, हमीरपुर, महोबा से भी पुलिस फ़ोर्स को भेजा गया है. खबर आ रही है कि डकैत बबुली कोल के एक और साथी को गोली लगी है. सूत्रों के अनुसार 50 हजार का इनामी लवलेश कोल की मौत हो गई है. सीने में गोली लगने से लवलेश कोल की मौत हुई है.

बताया जा रहा है कि लवलेश के साथ बबुली कोल के भी घायल होने की सूचना है. उसके पैर में गोली लगने की बात सामने आ रही है लेकिन लेकिन पुलिस की तरफ से अभी तक कोई पुष्टि नहीं की जा रही है.

बता दें कि सुबह करीब 5.30 बजे शुरू हुई मुठभेड़ छह घंटे से ज्यादा का समय होने के बाद भी जारी है. पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली थी कि खुंखार बबुली कोल गिरोह जंगल किनारे के गांव निही चिरैया के करीब वन विभाग की चौकी के आसपास मौजूद है. इस पर पुलिस कप्तान ने मऊ और मानिक सर्किल की दो पुलिस टीमें बनाकर जंगल की तरफ रवाना किया.

पुलिस को देखते ही डकैत गिरोह ने गोलियां चलानी शुरू कर दीं, पुलिस जब तक संभलती दरोगा जयप्रकाश सिंह के पेट और पैर में दो गोलियां लगीं. पुलिस जब तक उनको जंगल के बाहर लाती उनकी मौत हो गई.

इसके बाद पुलिस की दोनों टीमों ने डकैतों को घेर कर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी. शहीद दरोगा जेपी सिंह मूल रूप से जौनपुर के नेवरिया थाना क्षेत्र के बनोवरा गांव के रहने वाले हैं.

वहीं पुलिस की गोली से एक डकैत राजू कोल घायल हो गया. पुलिस ने घेराबंदी कर राजू कोल समेत तीन डकैतों को पकड़ लिया है.

एडीजी लॉ एंड आर्डर आनंद कुमार ने बताया कि अभी भी एनकाउंटर चल रहा है. उन्होंने बताया कि डकैतों को भी गोली लगी है. उन्होंने कहा कि दरोगा जेपी सिंह शहीद हो गए हैं. उन्होंने कहा कि फिलहाल मौके पर पुलिस की पांच टीम लगाई गई है. एसपी प्रताप गोपेन्द्र के नेतृत्व में मुठभेड़ जारी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज