चित्रकूट जेल शूटआउट: CCTV फुटेज से मिले अहम सुराग, जानिए क्यों शक के घेरे में है जेल वार्डर

संदेह के घेरे में जेल वार्डर जगमोहन (File phopto)

संदेह के घेरे में जेल वार्डर जगमोहन (File phopto)

Chitrakoot Jail shootput: जगमोहन के जेल में आने-जाने के फुटेज सीसीटीवी कैमरे में कैद हो चुके हैं और अब यह जांच का हिस्सा बन गए हैं. जब जगमोहन से पूछताछ हुई तो उसने बताया कि वह जेल अस्पताल में दवा लेने आया था लेकिन जेल के डॉक्टर और ड्यूटी पर तैनात नर्सिंग अर्दली ने जगमोहन के इस दावे को नकार दिया है.

  • Share this:

चित्रकूट. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के चित्रकूट जेल शूटआउट (Chitrakoot Jail Shootout) की जांच कर रही कमेटी को जेल के सीसीटीवी (CCTV) से अहम सुराग मिले हैं. चित्रकूट जेल का वार्डर जगमोहन 13 मई की रात को 9:21 पर जेल में आया था, जबकि 6 मई को कोरोना पॉजिटिव होने के बाद जगमोहन को आइसोलेशन में रहने की हिदायत दी गई थी. बावजूद इसके 13 मई की रात जगमोहन जेल में आया और जेल रजिस्टर में एंट्री किए बगैर जेल के अंदर गया और करीब 20 मिनट बाद जेल से बाहर आया.

जगमोहन के जेल में आने-जाने के फुटेज सीसीटीवी कैमरे में कैद हो चुके हैं और अब यह जांच का हिस्सा बन गए हैं. जब जगमोहन से पूछताछ हुई तो उसने बताया कि वह जेल अस्पताल में दवा लेने आया था लेकिन जेल के डॉक्टर और ड्यूटी पर तैनात नर्सिंग अर्दली ने जगमोहन के इस दावे को नकार दिया है. वहीं जेल गेट पर तैनात गेटकीपर से भी पूछताछ हुई है कि उसने जगमोहन के आने-जाने की एंट्री रजिस्टर में क्यों नहीं की. 13 मई की रात जगमोहन जेल में किस से मिला, क्या किया अब जांच उसी तरफ जा रही है.

मुन्ना बजरंगी हत्याकांड के वक्त बागपत जेल में तैनात था जगमोहन

गौरतलब है कि 14 मई को मुकीम और मेराज की हत्या के बाद जब पुलिस टीम चित्रकूट जेल में दाखिल हुई तो शायद उसी दौरान जगमोहन भी जेल में दाखिल हुआ और जगमोहन को अंशु दीक्षित को सरेंडर करने के लिए समझाते हुए भी सब ने देखा है. एक इत्तेफाक या साजिश यह भी है कि बागपत जेल में जब मुन्ना बजरंगी की हत्या हुई थी तो जगमोहन वहां जेल वार्डर था.
NHRC ने यूपी पुलिस को भेजा नोटिस

उधर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने चित्रकूट जेल शूटआउट मामले में डीजीपी, चित्रकूट के डीएम और एसपी को नोटिस जारी किया है. आयोग ने नोटिस जारी कर घटना की विस्तृत रिपोर्ट तलब की है. अंशु दीक्षित से मुठभेड़ से पहले और बाद में जेल में पुलिस के आने- जाने की एंट्री से संबंधित दस्तावेज ,जीडी एंट्री की फोटो कॉपी भी आयोग ने तलब की है. आयोग ने घायल पुलिसकर्मियों की मेडिकल रिपोर्ट, मारे गए व्यक्तियों का आपराधिक इतिहास, उनके खिलाफ दर्ज मामलों की ताजा स्थिति भी रिपोर्ट के साथ मांगी है.आयोग ने घटनास्थल, क्राइम सीन का हर ब्यौरा मांगा है. पुलिस और मारे गए व्यक्ति की स्थिति की जानकारी भी मांगी है. केस की जांच रिपोर्ट, तीनों मरने वालों की स्पष्ट पोस्टमार्टम रिपोर्ट, पोस्टमार्टम के दौरान बनाई गई वीडियो की सीडी और मजिस्ट्रेट जांच रिपोर्ट भी तलब की है।

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज