होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Chitrakoot में एक डॉक्टर ने पेश की अनोखी मिसाल, कुपोषित बच्चे की ऐसे बचाई जान

Chitrakoot में एक डॉक्टर ने पेश की अनोखी मिसाल, कुपोषित बच्चे की ऐसे बचाई जान

Chitrakoot News: समाज में ब्लड डोनेट करने को लेकर लोगों में एक गलत धारणा बन चुकी है. उसे दूर किया जा सके क्योंकि ब्लड ड ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- अखिलेश कुमार सोनकर

चित्रकूट: हमारे समाज में डॉक्टर को भगवान का दर्जा दिया गया है, क्योंकि वही एक ऐसा शख्स है, जो किसी को मौत के मुंह में जाने से बचा सकता है. तिल-तिल मरते किसी इंसान को जिंदगी दे सकता है. खोई हुई उम्मीदों को जीता-जागता उत्साह दे सकता है. कहते हैं जब कोई बीमार हो या किसी पीड़ा से ग्रस्त हो तो पहले भगवान का नाम मुंह से निकलता है, फिर डॉक्टर में ही उसे भगवान दिखता है. ऐसा ही एक मामला चित्रकूट जनपद से सामने आया है. जहां जिला अस्पताल में एक डॉक्टर ने कुपोषित बच्चे को ब्लड देकर उसकी जान बचाकर मानवता की मिसाल पेश की है.

पहाड़ी थाना क्षेत्र के परसौंजा गांव की रहने वाली सावित्री नाम की महिला का 1 साल 10 महीने का सतेंद्र नाम का बच्चा है, जो कुपोषण से पीड़ित है. जिसकी हालत गंभीर होने पर उसे जिला अस्पताल के कुपोषण वार्ड में भर्ती कराया गया था. जहां बच्चे का ब्लड 5 सीवियर एनीमिया से कम होने पर उसकी हालत बिगड़ रही थी. जिसे AB पॉजिटिव ब्लड की आवश्यकता थी. लेकिन महिला के घर से किसी भी व्यक्ति के ना होने और खुद महिला का ब्लड मैच नहीं हो रहा था.

बच्चे को ब्लड देने पहुंचे डॉक्टर
जिला अस्पताल में तैनात डॉक्टर एससी अग्रवाल ने यह खबर सुनी. जिसके बाद अपने चेंबर से उठकर पीड़ित बच्चे को ब्लड देने के लिए ब्लड बैंक पहुंच गए. जहां उन्होंने अपना 100 ML ब्लड देकर सतेंद्र की जान बचाई. बच्चे की मां का खुशी का ठिकाना नहीं रहा है.

डॉक्टर बने लोगों में चर्चा का विषय
बालरोग विशेषज्ञ डॉ एससी अग्रवालकि इस मानवता से लोगों में चर्चा का विषय बना हुआ है. वहीं कुपोषित बच्चे की मां ने डॉक्टर को धन्यवाद दिया है.  एससी अग्रवाल का कहना है कि सत्येंद्र नाम का एक बच्चा कुपोषण वार्ड में भर्ती है. जिसका ब्लड बहुत कम है और वह खतरे के निशान पर था. जिसे AB पॉजिटिव ब्लड की आवयश्कता थी और उसके घर से कोई नहीं था.

चित्रकूट जिला अस्पताल में तैनात डॉक्टर एससी अग्रवाल.

चित्रकूट जिला अस्पताल में तैनात डॉक्टर एससी अग्रवाल.

यहां तक कि उसका पिता बाहर कमाने के लिए गया था. ऐसी स्थिति में बच्चे को ब्लड नहीं मिल पा रहा था. जिसकी सूचना पाकर उन्होंने उस बच्चे को ब्लड दिया है.

लोगों को करना चाहिए रक्तदान
समाज में ब्लड डोनेट करने को लेकर लोगों में एक गलत धारणा बन चुकी है. उसे दूर किया जा सके क्योंकि ब्लड डोनेट करने से एक तो सामने वाले को फायदा होता ही है. दूसरा अपने शरीर को सबसे ज्यादा फायदा होता है. इससे शरीर में किसी प्रकार की कोई बीमारियां नहीं होती है. इसलिए मैं लोगों से अपील करना चाहता हूं सभी लोग ब्लड जरूर डोनेट करें और गरीबों की मदद करें.

Tags: Blood bank, Blood Donation, Chitrakoot News, Deputy CM Brajesh Pathak, Doctor's day, UP news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें