हमीरपुरः शोहदों की छेड़खानी से परेशान नाबालिग छात्रा ने खाया ज़हर

जिला अस्पताल में भर्ती जिन्दगी और मौत के बीच जूझ रही नाबालिग छात्रा 11वीं की छात्रा है, जो पिछले कई दिनों से शोहदों की छेड़छाड़ और छींटाकसी से परेशान चल रही थी

News18 Uttar Pradesh
Updated: March 28, 2018, 9:47 AM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: March 28, 2018, 9:47 AM IST
हमीरपुर जिले में मंगलवार को शोहदों की रोजमर्रा छेड़खानी से तंग आकर एक नाबालिग ने ज़हर खाकर खुदकुशी की कोशिश की. छात्रा को गंभीर हालत में परिजनों ने जिला अस्पताल में भर्ती कराया है, जहां उसकी हालत नाजुक बनी हुई है.

बताया जाता है मंगलवार देर रात नाबालिग छात्रा के घर में घुसकर एक युवक ने छात्रा के परिजनों को तमंचे दिखाकर नाबालिग से उसकी जबरन शादी का दबाव बनाया था और ऐसा नहीं करने पर पूरे परिवार को जान से मारने की धमकी दी. हालांकि बाद में परिजनों के शोर मचाने पर युवक भाग निकला.

रिपोर्ट के मुताबिक जिला अस्पताल में भर्ती जिन्दगी और मौत के बीच जूझ रही नाबालिग छात्रा 11वीं की छात्रा है, जो पिछले कई दिनों से शोहदों की छेड़छाड़ और छींटाकसी से परेशान चल रही थी. बताते हैं खुदकुशी के एक दिन पहले आरोपी युवक दीवार फांदकर छात्रा के घर में जबरन घुस आया और परिवार को धमकी दी. मामले की शिकायत पुलिस से भी की गई, लेकिन पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की, तो लाचार होकर नाबालिग ने ज़हर खाकर खुदकुशी करने की कोशिश की.

ललपुरा थाना क्षेत्र के कुम्हऊपुर गांव के एक किसान की बेटी को गांव का ही एक दबंग विपिन प्रजापति अक्सर छेड़छाड़ किया करता था. पीड़िता ने कई बार मामले की शिकायत अपने परिजनों से भी की थी, लेकिन परिजनों के समझाने के बाद भी आरोपी अपनी हरकतों से बाज नहीं आया और एक दिन शराब के नशे छात्रा के घर में घुसकर छात्रा के साथ जबरदस्ती भी करने की कोशिश की थी.

मामले की सूचना के बाद आनन फानन में जिला अस्पताल पहुंची पुलिस के आलाधिकारियों ने पीड़िता से मुलाकात के बाद ललपुरा थाना प्रभारी और मामले के जांचकर्ता दरोगा को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है और परिजनों की तहरीर आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उसे गिरफ़्तार कर लिया है.

गौरतलब है हमीरपुर जिले में यह पहला मामला नही है जब किसी छात्रा ने शोहदों की छेड़छाड से परेशान होकर आत्महत्या करने की कोशिश की है. निःसंदेह एक के बाद एक हमीरपुर में हो रही ऐसी घटनाओं के पुनरावृत्ति ने स्थानीय पुलिस और एंटी रोमियो अभियान दोनों की कलई खोलकर जरूर रख दी है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर