विकास दुबे का एक और इनामी साथी चित्रकूट से गिरफ्तार, कहा- उस रात पुलिस पर मैंने भी चलाई थीं गोलियां
Chitrakoot News in Hindi

विकास दुबे का एक और इनामी साथी चित्रकूट से गिरफ्तार, कहा- उस रात पुलिस पर मैंने भी चलाई थीं गोलियां
लालू ने पूछताछ के दौरान स्वीकार किया कि बिकरू में विकास दुबे के घर दबिश देने आये पुलिस दल पर हमला करने वालों में वह भी शामिल था. (फाइल फोटो)

एसटीएफ प्रवक्ता ने बताया कि लालू कानपुर नगर में चौबेपुर थाना क्षेत्र Chaubepur police station) के बिकरू का ही निवासी है. उसे सोमवार को कर्वी कोतवाली क्षेत्र में खोही से कर्वी जाने वाले मार्ग पर परिक्रमा मोड़ के पास पकड़ा गया.

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश के विशेष कार्य बल (STF) ने कुख्यात अपराधी विकास दुबे (Vikas Dubey) के साथी और 50 हजार रुपये के इनामी बदमाश बाल गोविन्द दुबे (Govind Dubey) उर्फ लालू को गिरफ्तार कर लिया है. एसटीएफ प्रवक्ता ने मंगलवार को बताया कि लालू को चित्रकूट (Chitrakoot) से गिरफ्तार किया गया है. वह बिकरू कांड के मुख्य आरोपी विकास दुबे का साथी है.

प्रवक्ता ने बताया कि लालू कानपुर नगर में चौबेपुर थाना क्षेत्र के बिकरू का ही निवासी है. उसे सोमवार को कर्वी कोतवाली क्षेत्र में खोही से कर्वी जाने वाले मार्ग पर परिक्रमा मोड़ के पास पकड़ा गया. उन्होंने बताया कि मुखबिर से सूचना प्राप्त हुई थी कि लालू चित्रकूट में भेष बदलकर रह रहा है. लालू ने पूछताछ के दौरान स्वीकार किया कि बिकरू में विकास दुबे के घर दबिश देने आये पुलिस दल पर हमला करने वालों में वह भी शामिल था.

जान से मार देने की धमकी दी है
वहीं, आज सुबह विकास दुबे के साथी से जुड़ी एक और खबर सामने आई थी, जिसमें शिवली के चेयरमैन अवधेश शुक्ला (Awdhesh Shukla) ने अधिशासी अभियंता एमएल गौतम को जान से मार देने की धमकी दी है. इसके बाद एमएल गौतम ने मामले की शिकायत जिलाधिकारी को लिखित तौर से की है. दरअसल, शिवली चेयरमैन अवधेश शुक्ला पुराने अपराधी हैं. विकास दुबे के बेहद करीबी रहे अवधेश शुक्ला पर करोड़ों की मूर्ति चोरी के समेत आधा दर्जन मुकदमें शिवली कोतवाली में ही दर्ज हैं. इसके साथ ही अवधेश के सगे भाई दीपू ने विकास दुबे के साथ कई वारदात को अंजाम दिया है. शिवली कोतवाली में विकास और दीपू पर मुकदमे दर्ज है. एसटीएफ की शुरुआती जांच में इस बात की भी आशंका जताई गई थी कि शिवली क्षेत्र में कुख्यात अपराधी विकास दुबे को शरण दिलाने वाला अवधेश शुक्ला ही था, लेकिन राजनीति में अच्छी पकड़ के चलते अवधेश शुक्ला कार्रवाई से बच गए.
इंजीनियर ने कहा काम करने का माहौल नहीं


डरे हुए अधिशासी अभियंता एमएल गौतम ने बताया कि चेयरमैन अवधेश शुक्ला बिना निर्माण के फर्जी बिल पास कराने को लेकर लगातार दबाव बना रहे हैं. इंजीनियर के मुताबिक, अवधेश शुक्ला ने उन्हें जान से मारने की धमकी देते हुए कहा है कि विकास दुबे मरा है, वह अभी जिंदा है. अधिशासी अभियंता ने जिलाधिकारी को पत्र लिखकर सुरक्षा की गुहार लगाई है. साथ ही चेयरमैन के खिलाफ कार्रवाई की मांग भी की है. उन्होंने कहा है कि यहां काम करने का माहौल नहीं है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज