Chitrakoot news

चित्रकूट

अपना जिला चुनें

UP: चित्रकूट में दो पक्षों के बीच खूनी संघर्ष, 20 लोग घायल, जानें क्या है पूरा मामला

उज्जैन के विक्रम यूनिवर्सिटी में दो प्रोफेसरों के बीच मारपीट हो गई. कुलपति ने दोनों से माफीनामा लिखवाया. (सांकेतिक तस्वीर)

उज्जैन के विक्रम यूनिवर्सिटी में दो प्रोफेसरों के बीच मारपीट हो गई. कुलपति ने दोनों से माफीनामा लिखवाया. (सांकेतिक तस्वीर)

उन्होंने बताया कि इसके बाद सूर्यबली (Suryabali) पक्ष के 10 लोगों ने मनीष पक्ष के दो लोगों को लाठी-डंडों से हमला कर घायल कर दिया, जिसके बाद मनीष पक्ष के सात लोग पहुंचे और सूर्यबली पक्ष के लोगों पर हमला कर दिया.

SHARE THIS:
चित्रकूट. चित्रकूट (Chitrakoot) जिले में राजापुर थाना (Rajapur Police Station) क्षेत्र में एक बड़ी खबर सामने आई है. यहां के तीरमऊ गांव में रविवार शाम आवारा मवेशियों को लेकर हुई कहासुनी के बाद दो पक्षों के बीच संघर्ष हो गया, जिसमें 20 लोग घायल हो गए. राजापुर थाने के प्रभारी निरीक्षक (एसएचओ) अनिल सिंह ने सोमवार को बताया कि रविवार शाम आवारा मवेशियों को खेत में हांकने को लेकर मनीष त्रिपाठी और सूर्यबली त्रिपाठी (Suryabali Tripathi) के बीच कहासुनी हुई. उन्होंने बताया कि इसके बाद सूर्यबली पक्ष के 10 लोगों ने मनीष पक्ष के दो लोगों को लाठी-डंडों से हमला कर घायल कर दिया, जिसके बाद मनीष पक्ष के सात लोग पहुंचे और सूर्यबली पक्ष के लोगों पर हमला कर दिया.

उन्होंने बताया कि इस हमले में दोनों पक्षों के 20 लोग घायल हुए हैं और दोनों पक्षों के 17 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. घायलों में से तीन लोगों की हालत गंभीर है. सिंह ने बताया कि सभी घायलों को इलाज के लिए सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है. इस मामले में फिलहाल किसी की गिरफ्तारी नहीं की गई है. मामले की जांच की जा रही है. उन्होंने बताया कि एक माह पूर्व दिसंबर में भी दोनों पक्षों के बीच विवाद हुआ था, जिसके बाद 22 लोगों को शांति भंग करने के आरोप में पाबंद किया गया था.

कादिर और सौरव बताया जा रहा है
उत्तर प्रदेश में इन दिनों अपराध के मामले बढ़ गए हैं. वहीं, कल ही खबर सामने आई थी कि बागपत जिले में पुलिस के मिशन एनकाउंटर जारी है. इसी कड़ी में पुलिस ने पिछले 12 घंटे में 5 एनकाउंटर करके 7 अपराधियों को लंगडा कर अस्पताल पहुंचा दिया है. पकड़े गये बदमाशो में दो 25-25 हजार के इनामी बदमाश है, जबकि 5 शातिर लुटेरे है जिन पर कई मुकदमे दर्ज है. मुठभेड़ बड़ौत कोतवाली पुलिस की लुटेरों के साथ है. जो कुख्यात सुनील राठी गिरोह के नाम पर रंगदारी वसूलने के काम किया करते थे. दोनों बदमाशों पर आधा दर्जन से ज्यादा रंगदारी, लूट और हत्या की घटनाओं में पुलिस को तलाश थी. उल्लेखनीय है कि एसपी बागपत अभिषेक सिंह के निर्देशन में बागपत पुलिस का मिशन लंगड़ा लगातार जारी है. बड़ौत पुलिस ने जिन बदमाशों को पकड़ा है उनका नाम कादिर और सौरव बताया जा रहा है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

चार और रामायण सर्किट ट्रेन चलाएगी IRCTC, अयोध्या से रामेश्वर तक होंगे दर्शन, जानिए किराया

रामायण सर्किट ट्रेन में 17 दिन की यात्रा के लिए एसी फर्स्ट क्लास की बुकिंग 1,02,095 रुपये और सेकंड क्लास में 82,950 रुपये में होगी.

राम भक्तों की मांग को देखते हुए चार और रामायण सर्किट ट्रेन (Ramayana Circuit Train) स्पेशल ट्रेन पटरी पर दौड़ने वाली है.

SHARE THIS:

नई दिल्ली. राम भक्तों के लिए भारतीय रेलवे (Indian Railway) की सहायक कंपनी आईआरसीटीसी (IRCTC) एक बड़ी खुशखबरी लेकर आया है. दरअसल, राम भक्तों की मांगों को देखते हुए आईआरसीटीसी ने 4 और रामायण सर्किट ट्रेन (Ramayana Circuit Train) चलाने का फैसला किया है.

7 नवंबर से चल रही है ‘रामायण सर्किट ट्रेन’
पहली रामायण सर्किट ट्रेन 7 नवंबर, 2020 से चलाई जा रही है. इस ट्रेन की शेड्यूलिंग काफी पहले हो चुकी है. इस ट्रेन की बुकिंग फुल हो चुकी है और लगातार इस तरह की ट्रेन की मांग श्रद्धालुओं के तरफ से की जा रही है. इसी को ध्यान में रखकर आईआरसीटीसी ने फैसला लिया है कि इस ट्रेन के अलावा 4 और रामायण सर्किट ट्रेन चलाई जाए. पहले दौर के रामायण सर्किट ट्रेन के बाद अब 16 नवंबर को दूसरी ट्रेन, 25 नवंबर को तीसरी ट्रेन, 27 नवंबर चौथी और 20 जनवरी से पांचवीं ट्रेन चलाई जाएगी.

क्या है रामायण सर्किट ट्रेन
रामायण सर्किट ट्रेन के जरिए भगवान राम से जुड़े धार्मिक स्थलों के दर्शन कराए जाएंगे. इस ट्रेन से 7,500 किमी की यात्रा 17 दिन में पूरी होगी. ये ट्रेन दिल्ली के सफरदरजंग रेलवे स्टेशन से शुरू होगी. ये ट्रेन यात्रियों को श्रीराम से जुड़े सभी धार्मिक स्थलों के दर्शन कराएगी. पूरी यात्रा में कुल 17 दिन लगेंगे. यात्रा का पहला पड़ाव अयोध्या होगा, जहां श्रीराम जन्मभूमि मंदिर, श्रीहनुमान मंदिर के दर्शन कराए जाएंगे. अयोध्या से ये ट्रेन सीतामढ़ी जाएगी, जहां जानकी जन्म स्थान और नेपाल स्थित राम जानकी मंदिर के दर्शन होंगे.

ट्रेन का अगला पड़ाव भगवान शिव की नगरी काशी होगा. फिर चित्रकूट और वहां से नासिक पहुंचेगी. नासिक के बाद प्राचीन किष्किन्धा नगरी हम्पी अगला पड़ाव होगा, जहां अंजनी पर्वत स्थित हनुमान जन्मस्थल के दर्शन कराए जाएंगे. इस ट्रेन का आखिरी पड़ाव रामेश्वरम होगा. रामेश्वरम से चलकर ये ट्रेन 17वें दिन दिल्ली वापस पहुंचेगी. इस यात्रा के लिए एसी फर्स्ट क्लास की बुकिंग 1,02,095 रुपये और सेकंड क्लास में 82,950 रुपये में होगी.

ये भी पढ़ें- 7 दिन के लिए लेह-लद्दाख की वादियों में घूमने का मौका, सिर्फ 15,550 रुपये पड़ेगा खर्च, फटाफट जानें पैकेज डिटेल

रामायण सर्किट ट्रेन में क्या है खास
अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस इस एसी पर्यटक ट्रेन में यात्री कोच के अतिरिक्त दो रेल डाइनिंग रेस्तरां, एक आधुनिक किचन कार और यात्रियों के लिए फुट मसाजर, मिनी लाइब्रेरी, आधुनिक स्वच्छ शौचालय और शॉवर क्यूबिकल आदि की सुविधा भी उपलब्ध होगी. साथ ही सुरक्षा के लिए सुरक्षा गार्ड, इलेक्ट्रॉनिक लॉकर और सीसीटीवी कैमरे भी हर कोच में उपलब्ध रहेंगे.

यात्रा की पूरी अवधि के दौरान आईआरसीटीसी की टीम स्वच्छता एवं स्वास्थ्य संबंधी सभी प्रोटोकॉल का ध्यान रखेगी. सभी पर्यटकों को फेस मास्क, हैंड ग्लव्स और सैनिटाइज़र रखने के लिए एक सुरक्षा किट दी जाएगी. सभी पर्यटकों और कर्मचारियों का तापमान जांच और हॉल्ट स्टेशनों पर बार-बार ट्रेन सेनिटाइजेशन सुनिश्चित किया जाएगा. हर भोजन सेवा के बाद रसोई और रेस्तरां को साफ और सेनिटाइज किया जाएगा.

चित्रकूट में बड़ा हादसा, दो सगी बहनों सहित 4 किशोरियां तालाब में डूबीं

चारों किशोरियां बकरियां चराने घर से निकलीं थीं लेकिन देर शाम तक नहीं लौटीं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

UP News: चित्रकूट के बोसड़ा गांव में बकरियां चराने गईं दो सगी बहनों सहित चार किशोरियों की मौत के बाद गांव में मचा कोहराम, पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा.

SHARE THIS:

चित्रकूट. जिले के बोसड़ा गांव में मंगलवार को बड़ा हादसा हो गया. यहां पर बकरी चराने गईं चार किशोरियां खेल खेल में तालाब में कूद गईं. इस दौरान गहरे पानी में जाने के बाद चारों की मौत हो गई. मृतकों में दो सगी बहनें हैं वहीं दो अन्य उनकी सहेलियां हैं. जानकारी के अनुसार सुबह अपने घर से बुधरानी और पार्वती बकरियां चराने के लिए निकलीं. इस दौरान उनके साथ दो सहेलियां किरण व सविता भी थीं. इस दौरान चारों तालाब में उतर गईं और फिर धीरे धीरे गहरे पानी की तरफ जाने के बाद चारों की डूबने से मौत हो गई.
जब किशोरियां शाम तक घर नहीं पहुंचीं तो परिजन चिंता में आ गए और उनको ढूंढना शुरू किया. इसके बाद परिजन को चारों किशोरियों के शव तालाब में तैरते हुए मिले. इसके बाद पुलिस को सूचना दी गई.

पूरे गांव में मामत का माहौल
किशोरियों के शव मिलने के साथ ही पूरे गांव में मातम का माहौल हो गया. वहीं पुलिस के एक घंटे तक मौके पर नहीं पहुंचने के चलते ग्रामीणों में नाराजगी भी दिखी. फिलहाल पुलिस ने चारों शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है. सूचना मिलने पर जिलाधिकारी सुक्रांत कुमार शुक्ला भी मौके पर पहुंचे और पीड़ित परिवारों की आर्थिक मदद की भी घोषणा की. उन्होंने कहा कि पीड़ित परिवारों की हर संभव मदद की जाएगी, साथ ही मुख्यमंत्री राहत कोष से भी मदद का ऐलान किया गया है.

कभी नहीं उतरती थीं तालाब में
वहीं परिजन का कहना है कि चारों को ही तैरना नहीं आता था और वे तालाब के आसपास भी नहीं जाती थीं. ऐसे में चारों किशोरियां तालाब में क्यों उतरीं ये परिजन के सामने बड़ा सवाल है. पीड़ित परिवार का कहना था कि बकरियां चराने के लिए किशोरियां हर दिन जाती थीं लेकिन कभी भी तालाब के आसपास नहीं जाती थीं. हालांकि पुलिस मामले को प्रथमदृष्टया हादसा ही मान रही है लेकिन फिर भी सभी पहलुओं की जांच की जा रही है.

राम मंदिर के नाम पर BJP ने ब्राम्हणों से वोट और नोट लिया, बाद में उन्हें ठोक भी दिया: सतीश मिश्रा

चित्रकूट में प्रबुद्ध सम्मेलन करने के लिए बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा पहुंचे.

UP Election 2022: BSP के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा ने कहा है कि प्रदेश में ब्राह्मण और दलित समाज के लोगों के साथ खुलेआम हत्या और उत्पीड़न किया जा रहा है. इसीलिए बसपा ने प्रत्येक जिले में उन पीड़ित लोगों के बीच जाकर उन्हें जागरूक करेगी.

SHARE THIS:

चित्रकूट. उत्तर प्रदेश के चित्रकूट जिले में बहुजन समाज पार्टी (BSP) ने प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन का आयोजन किया था, जिसमें BSP के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा (Satish chandra mishra) धर्मनगरी चित्रकूट पहुंचे. जहां पर उन्होंने भगवान श्री कामतानाथ जी (God Kamtanath ji) की पूजा अर्चना करने के बाद प्रबुद्ध वर्ग के सम्मेलन में शामिल हुए. उनका पार्टी कार्यकर्ताओं ने फूल माला पहनाकर जोरदार स्वागत किया. 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर BSP ब्राह्मणों को लुभाने के लिए लगातार प्रबुद्ध वर्ग का सम्मेलन कार्यक्रम का आयोजन कर रही है. जिसके चलते चित्रकूट जनपद में भी इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया.

BSP के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा ने कहा है कि प्रदेश में ब्राह्मण और दलित समाज के लोगों के साथ खुलेआम हत्या और उत्पीड़न किया जा रहा है. इसीलिए बसपा ने यह ठाना है कि प्रत्येक जिले में उन पीड़ित लोगों के बीच जाकर उन को जागरूक करने का काम करेंगे. बीजेपी ने राम मंदिर के नाम पर ब्राह्मणों से वोट भी लिये और नोट भी लिया इसके बाद उनको गोली मारने का आदेश भी दिया. राम मंदिर के लिए बीजेपी ने कुछ नहीं किया, जो किया सर्वोच्च न्यायालय ने किया. जिस तरह किसानों के बिल को हल्ला मचाकर बीजेपी ने पास करा लिया. उसी तरह राम मंदिर के निर्माण के लिए भी बीजेपी को बिल पास कर राम मंदिर निर्माण करना चाहिए था.

हजारों करोड़ निकाले फिर भी अयोध्या का बुरा हाल: सतीश चंद्रा मिश्रा

अयोध्या के नाम पर हजारों करोड़ रुपये का बजट निकाल लिया गया. फिर भी पूरे प्रदेश में अयोध्या का सबसे बुरा हाल है. अयोध्या में सिर्फ अपने प्रचार के नाम पर पैसा खर्च किया गया है. बिकरु कांड में फर्जी रिपोर्ट पेश की गई है. विक्रम कांड के नाम पर निर्दोष लोगों की हत्या कराई गई है. बीएसपी की सरकार आने पर मामले की जांच कराई जाएगी. प्रदेश में हर 2 घंटे में यूपी में एक महिला के साथ बलात्कार हो रहा है. प्रदेश की जनता भारतीय जनता पार्टी की सरकार से परेशान हो चुकी है. इसलिए 2022 के चुनाव में बहुजन समाज पार्टी को 2005 के चुनाव से ज्यादा सीटें मिलेंगी.

Sarkari Naukri 2021: यूपी में शिक्षक सहित कई पदों पर निकली है भर्तियां, तीन दिन शेष

Sarkari Naukri 2021: यूपी में समग्र शिक्षा अभियान के तहत शिक्षक सहित विभिन्न पदों पर आवेदन की अंतिम तिथि 28 अगस्त है.

Sarkari Naukri 2021: यूपी में समग्र शिक्षा अभियान के तहत शिक्षक सहित विभिन्न पदों पर भर्तियां निकली हैं. इन पदों के लिए अभ्यर्थी आधिकारिक वेबसाइट के जरिए 28 अगस्त 2021 तक आवेदन कर सकते हैं.  

SHARE THIS:

Sarkari Naukri 2021. समग्र शिक्षा अभियान (Sarva Shiksha Abhiyan) के तहत यूपी में फुल-टाइम टीचर सहित विभिन्न पदों पर भर्तियां निकली हैं. इन पदों के लिए आवेदन की प्रक्रिया जारी है. आवेदन की अंतिम तिथि में तीन दिन का समय शेष बचा है. ऐसे में जिन अभ्यर्थियों ने अभी तक इन पदों के लिए आवेदन नहीं किया है. वह आधिकारिक वेबसाइट chitrakoot.nic.in के जरिए 28 अगस्त 2021 तक आवेदन कर सकते हैं.  कुल 12 रिक्त पदों पर भर्तियां की जाएगी.

इन रिक्त पदों पर होगी भर्तियां
फुल-टाइम टीचर (गणित) – 1 पद
फुल-टाइम टीचर ( विज्ञान) – 4 पद
फुल-टाइम टीचर (अंग्रेजी) – 1 पद
पार्ट-टाइम टीचर (शारीरिक शिक्षा) – 2 पद
पार्ट-टाइम टीचर (कला एवं संगीत) – 2 पद
अकाउंटेंट – 1 पद
असिस्टेंट कुक – 1 पद

शैक्षणिक योग्यता
फुल-टाइम टीचर गणित व विज्ञान के पदों पर आवेदन करने वाले के पास किसी बीएससी की डिग्री के साथ बीएड की भी डिग्री होनी चाहिए. वहीं फुल-टाइम टीचर (अंग्रेजी) के पद के लिए अभ्यर्थी का अंग्रेजी से ग्रेजुएशन होना चाहिए. साथ ही बीएड की भी डिग्री होनी चाहिए. अकाउंटेंट पद के लिए अभ्यर्थी को कॉमर्स में स्नातक होना चाहिए. वहीं असिस्टेंट कुक के लिए अधिकतम शैक्षणिक योग्यता 8वीं पास निर्धारित की गई है.

आयु सीमा
इन विभिन्न पदों पर आवेदन करने वाले अभ्यर्थी की उम्र 25 वर्ष से 45 वर्ष के बीच होनी चाहिए. अभ्यर्थियों के आयु की गणना 1 अप्रैल 2021 से की जाएगी. अभ्यर्थी इस भर्ती से संबंधित अधिक जानकारी के लिए जारी आधिकारिक नोटिफिकेशन को देख सकते हैं.

चयन प्रक्रिया
असिस्टेंट कुक के पदों पर अभ्यर्थियों का चयन केवल इंटरव्यू के जरिए किया जाएगा. वहीं अन्य पदों पर अभ्यर्थियों का चयन शैक्षणिक योग्यता के आधार पर तैयार की गई मेरिट सूची के जरिए किया जाएगा. चयनित अभ्यर्थियों की नियुक्ति चित्रकूट जिले में की जाएगी. जारी आधिकारिक नोटिफिकेशन के अनुसार फुल-टाइम टीचर, अकाउंटेंट और असिस्टेंट कुक के पदों पर केवल महिला अभ्यर्थियों का ही चयन किया जाएगा. इस भर्ती के तहत चयनित अभ्यर्थियों की नियुक्ति संविदा के तहत की जाएगी.

इस पते पर भेजना होगा आवेदन
इन पदों के लिए आवेदन करने के लिए अभ्यर्थी आधिकारिक वेबसाइट से आवेदन पत्र को डाउनलोड कर सकते हैं. आवेदन पत्र को रजिस्टर्ड डाक के जरिए 28 अगस्त 2021 शाम 5 बजे तक जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय, चित्रकूट में जमा करना होगा.

यह भी पढ़ें –
UP PET 2021: यूपी पीईटी के क्वेश्चन पेपर हुए जारी, इन आसान स्टेप्स से करें डाउनलोड
GDS Recruitment 2021: यहां निकली है ग्रामीण डाक सेवक की भर्ती, 10वीं पास करें आवेदन

 महत्वपूर्ण तिथियां
नोटिफिकेशन जारी होने की तिथि – 13 अगस्त 2021
आवेदन की अंतिम तिथि – 28 अगस्त 2021
आधिकारिक वेबसाइट – chitrakoot.nic.in

SSA Recruitment 2021: यूपी में शिक्षक सहित इन पदों पर निकली है नौकरियां, जल्द करें आवेदन

SSA Recruitment 2021: उत्तर प्रदेश में समग्र शिक्षा अभियान के तहत शिक्षक सहित कई पदों पर भर्तियां निकली हैं.

SSA Recruitment 2021:  उत्तर प्रदेश में समग्र शिक्षा अभियान के तहत शिक्षक सहित विभिन्न पदों पर भर्तियां निकली हैं. इन पदों के लिए अभ्यर्थी निर्धारित अंतिम तिथि तक आधिकारिक वेबसाइट के जरिए आवेदन कर सकते हैं.  

SHARE THIS:

SSA Recruitment 2021. समग्र शिक्षा अभियान (Sarva Shiksha Abhiyan) के तहत यूपी में फुल-टाइम टीचर सहित विभिन्न पदों पर भर्तियों के लिए नोटिफिकेशन जारी किया गया है. इन पदों के लिए अभ्यर्थी आधिकारिक वेबसाइट chitrakoot.nic.in के जरिए आवेदन कर सकते हैं. जारी नोटिफिकेशन के अनुसार कुल 12 रिक्त पदों पर भर्तियां की जाएगी.

जारी आधिकारिक नोटिफिकेशन के अनुसार फुल-टाइम टीचर, अकाउंटेंट और असिस्टेंट कुक के पदों पर केवल महिला अभ्यर्थियों का ही चयन किया जाएगा. इस भर्ती के तहत चयनित अभ्यर्थियों की नियुक्ति संविदा के तहत की जाएगी.

इन रिक्त पदों पर होगी भर्तियां
फुल-टाइम टीचर (गणित) – 1 पद
फुल-टाइम टीचर ( विज्ञान) – 4 पद
फुल-टाइम टीचर (अंग्रेजी) – 1 पद
पार्ट-टाइम टीचर (शारीरिक शिक्षा) – 2 पद
पार्ट-टाइम टीचर (कला एवं संगीत) – 2 पद
अकाउंटेंट – 1 पद
असिस्टेंट कुक – 1 पद

 शैक्षणिक योग्यता
फुल-टाइम टीचर गणित व विज्ञान के पदों पर आवेदन करने वाले के पास किसी बीएससी की डिग्री के साथ बीएड की भी डिग्री होनी चाहिए. वहीं फुल-टाइम टीचर (अंग्रेजी) के पद के लिए अभ्यर्थी का अंग्रेजी से ग्रेजुएशन होना चाहिए. साथ ही बीएड की भी डिग्री होनी चाहिए. अकाउंटेंट पद के लिए अभ्यर्थी को कॉमर्स में स्नातक होना चाहिए. वहीं असिस्टेंट कुक के लिए अधिकतम शैक्षणिक योग्यता 8वीं पास निर्धारित की गई है.

आयु सीमा
इन विभिन्न पदों पर आवेदन करने वाले अभ्यर्थी की उम्र 25 वर्ष से 45 वर्ष के बीच होनी चाहिए. अभ्यर्थियों के आयु की गणना 1 अप्रैल 2021 से की जाएगी. अभ्यर्थी इस भर्ती से संबंधित अधिक जानकारी के लिए जारी आधिकारिक नोटिफिकेशन को देख सकते हैं.

 चयन प्रक्रिया
असिस्टेंट कुक के पदों पर अभ्यर्थियों का चयन केवल इंटरव्यू के जरिए किया जाएगा. वहीं अन्य पदों पर अभ्यर्थियों का चयन शैक्षणिक योग्यता के आधार पर तैयार की गई मेरिट सूची के जरिए किया जाएगा. चयनित अभ्यर्थियों की नियुक्ति चित्रकूट जिले में की जाएगी.

 इस पते पर भेजना होगा आवेदन 
इन पदों के लिए आवेदन करने के लिए अभ्यर्थी आधिकारिक वेबसाइट से आवेदन पत्र का डाउनलोड कर सकते हैं. आवेदन पत्र को रजिस्टर्ड डाक के जरिए 28 अगस्त 2021 शाम 5 बजे तक जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय, चित्रकूट में जमा करना होगा.

यह भी पढ़ें –
Teacher Recruitment 2021: शिक्षकों के 4000 से अधिक पदों पर भर्तियां, जानें कब से शुरू हो रहा आवेदन
UPSSSC PET Admit Card : यूपीएसएसएससी पीईटी के एडमिट कार्ड जारी, 20 लाख अभ्यर्थी देंगे परीक्षा

 महत्वपूर्ण तिथियां
नोटिफिकेशन जारी होने की तिथि – 13 अगस्त 2021
आवेदन की अंतिम तिथि – 28 अगस्त 2021
आधिकारिक वेबसाइट – chitrakoot.nic.in

यहां देखें नोटिफिकेशन

1857 में मेरठ से नहीं, बल्कि 15 साल पहले इस जिले से धधकी थी आजादी की पहली चिंगारी

माना जाता है कि 10 मई, 1857 को मेरठ से आजादी के पहले आंदोलन की शुरुआत हुई थी, जो बाद में पूरे देश में फैल गई.  (प्रतीकात्मक तस्वीर)

75th Amrit Mahotsav : मेरठ से लगभग 15 साल पहले बुंदेलखंड के चित्रकूट जिले में स्वाधीनता की पहली चिंगारी धधकी थी. स्वतंत्रता के दीवानों ने पवित्र मंदाकिनी नदी के किनारे अंग्रेजों द्वारा गोकशी किए जाने से नाराज होकर उन्हें यहां से खदेड़ने और सबक सिखाने की ठानी थी.

SHARE THIS:

चित्रकूट. देश को अंग्रेजों के चंगुल से आजाद कराने के लिए प्रारंभ हुआ स्वाधीनता संग्राम आंदोलन 1857 से माना जाता है, लेकिन यह हकीकत नहीं है. बल्कि इसके भी लगभग 15 साल पहले बुंदेलखंड के चित्रकूट जिले में स्वतंत्रता के दीवानों ने पवित्र मंदाकिनी नदी के किनारे अंग्रेजों द्वारा गोकशी किए जाने से नाराज होकर उन्हें यहां से खदेड़ने और सबक सिखाने के लिए ठान लिया था. इसके लिए हिंदू-मुस्लिम सभी लोगों ने एकजुट होकर यह तय किया कि चित्रकूट की मऊ तहसील जो अंग्रेजों के बैठने का मुख्य स्थान हुआ करता था. सब लोग वहीं पहुंचकर एक पंचायत लगाएंगे और पंचायत में गोकशी के लिए इन्हें जिम्मेदार ठहराते हुए सजा के रूप में पेड़ में फांसी पर चढ़ा दिया जाएगा.

6 जून 1842 को बड़ी संख्या में लोग एकत्र होकर मऊ पहुंचे और वहां पर छह अंग्रेज अफसरों को बंधक बना लिया इसके बाद मुकदमा उनके खिलाफ मुकदमा चलाकर फांसी पर चढ़ा दिया । चित्रकूट में हुई इस घटना का व्यापक असर हुआ और पूरे बुंदेलखंड में क्रांतिकारियों ने अंग्रेजो के छक्के छुड़ा दिए जिसके फलस्वरूप लगभग 3 सप्ताह तक बुंदेलखंड आजाद रहा. चित्रकूट में अंग्रेजों को फांसी देने की घटना का उल्लेख तत्कालीन बांदा जिले के गजेटियर में भी मिलता है.

गोरों को फांसी देने से आक्रोश फैलता गया

चित्रकूट से देश को आजाद कराने की शुरु हुई. इस मुहिम में लोग जुड़ते गए और कारवां बनता गया, अंग्रेज अफसरों को फांसी पर लटका देने से आग बबूला अंग्रेजों ने बुंदेलखंड में आक्रमण कर दिया. चित्रकूट के मऊ तहसील के कई क्रांतिकारियों को खजाना लूटने के आरोप में उन्हें मसीना भाग में फांसी पर लटका दिया गया, जिससे लोगों मे काफी आक्रोश अंग्रेजों के खिलाफ हो गया. गोरों को भगाने को लेकर क्रांति की अग्नि और तेज धधक उठी, लेकिन अंग्रेजों की यातना का यह दौर लगातार जारी रहा.

जिस जगह गोरों को फांसी दी गई, वहीं हिंदुस्तानियों को फंदे पर लटकाया

मऊ में जिस जगह पर अंग्रेजों को फांसी पर चढ़ाया गया था. उसी स्थान पर गोरों ने स्वतंत्रता संग्राम शामिल में कई लोगों को फांसी पर चढ़ा कर बदला लेते रहे. आज चित्रकूट के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी उस मंजर को याद कर सिहर उठते हैं. बुंदेलखंड में अब मात्र तीन स्वतंत्रता सेनानी बचे है, जिनमें से चित्रकूट के बीपी शुक्ला इनके अनुसार अंग्रेजों का रवैया इतना क्रूर था कि लोग उनके नाम से ही सहम जाते थे.

चित्रकूट के मंदिर में औरंगजेब की तस्वीर पर बवाल, महंत समेत 3 के खिलाफ FIR

चित्रकूट के यज्ञवेदी मंदिर पर लगे इसी बैनर को लेकर दर्ज की गई है प्राथमिकी.

Chitrakoot News: यूपी के चित्रकूट में प्राचीन यज्ञवेदी मंदिर के प्रचार-प्रसार के लिए महंत ने मुगल शासक औरंगजेब की तस्वीर वाला बैनर लगाया. हिंदू संगठन की शिकायत पर पुलिस ने दर्ज किया मामला.

SHARE THIS:

चित्रकूट. उत्तर प्रदेश के चित्रकूट में प्राचीन यज्ञवेदी मंदिर की दीवार पर मुगल बादशाह औरंगजेब की तस्वीर वाला बैनर लगाने को लेकर बवाल मच गया है. रामघाट में मंदाकिनी तट पर स्थित मंदिर पर लगे बैनर को लेकर हिंदू युवा वाहिनी ने पुलिस में शिकायत की थी. इसके बाद महंत समेत तीन लोगों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज की गई है. बताया गया कि आरोपी महंत सत्यप्रकाश ने मंदिर के प्रचार-प्रसार करने के मकसद से अपनी और औरंगजेब की तस्वीरों वाला बैनर बनवाया था.

महंत की यह हरकत हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं को नागवार गुजरी. संगठन के जिलाध्यक्ष बुद्ध प्रकाश ने बीते गुरुवार को कर्वी कोतवाली में इसको लेकर तहरीर दी थी, जिसके बाद पुलिस ने महंत समेत 3 के खिलाफ एफआईआर दर्ज की. कर्वी कोतवाली में दी गई तहरीर में कहा गया है कि यज्ञवेदी मंदिर के महंत सत्यप्रकाश दास और उनके सहयोगी चरण दास व पुजारी ने मंदिर और खुद का प्रचार करने के लिए बैनर बनवाया था. बुद्ध प्रकाश ने कहा कि 16वीं सदी में पन्ना नरेश के बनवाए मंदिर की प्रचार सामग्री में मुगल शासक को महान दर्शाने का काम घृणित है.

इधर, मंदिर के महंत सत्यप्रकाश दास ने कहा कि मंदिर में औरंगजेब का ताम्रपत्र मौजूद है. मंदिर को लेकर उन्होंने जो लोगों से सुना था और पढ़ा था, उसी के आधार पर यह बैनर बनवाया गया, जिसमें औरंगजेब की तस्वीर लगाई गई. पूरे मामले में सीओ सिटी शीतला प्रसाद पांडेय ने कहा कि सामाजिक संगठन की शिकायत के आधार पर आईपीसी की धारा 151 के तहत रिपोर्ट दर्ज की गई है. मामले में एक को हिरासत में लिया जा चुका है, जबकि दो अन्य आरोपियों की पुलिस तलाश कर रही है.

चित्रकूट: दोस्तों के साथ पीने गया था शराब, लाठी-डंडों से युवक की पीट-पीटकर हत्या, FIR

चित्रकूट: लाठी-डंडों से युवक की पीट-पीटकर हत्या

कर्वी कोतवाली के थानेदार (SHO) वीरेंद्र त्रिपाठी ने बताया कि मृतक की पत्नी उमा ने सुनील व चुन्नू के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट (FIR) दर्ज कराई है. उन्होंने बताया कि आरोपियों की तलाश में दबिश जारी है

SHARE THIS:

चित्रकूट. उत्तर प्रदेश के चित्रकूट (Chitrakoot) जिले में शुक्रवार देर शाम कुछ लोगों ने एक युवक को लाठी-डंडों से पीटकर हत्या (Murder) कर दी. घटना से गुस्साए परिजनों ने दो युवकों पर हत्या का आरोप लगाया है. आरोपी मौके से फरार हैं. देर शाम पुलिस ने पत्नी की तहरीर पर गैर इरादतन हत्या की रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस मृतक के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. मौत के बाद मृतक के घर में कोहराम मचा हुआ है.

मामला कर्वी कोतवाली के खटिकाना मोहल्ला की है. बताया जा रहा है कि शंकरगंज खटिकाना मोहल्ला निवासी नितिन रैकवार ने बताया कि पिता धवेला (38) पड़ोसी सुनील रैकवार व चुन्नू केवट के साथ भैरोपागा शराब पीने गए थे. शराब पीने के बाद पिता अकेले लौट आए और दरवाजे पर बैठे थे. इसी बीच दो युवक डंडा लेकर आए और पिता से गाली गलौज करते हुए पिटाई कर दी. आरोपी उन्हें अकेले छोड़कर आने के लिए गाली दे रहे थे. मोहल्ले वालों को आता देख हमलावर फरार हो गए.

मरीजों के साथ लापरवाही करने वाले एंबुलेंस संचालकों पर होगी कठोर कार्रवाई- सीएम योगी

पड़ोसियों की मदद से पिता को जिला अस्पताल ले गए, जहां डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया. इधर घटना के गुस्साए लोगों ने आरोपियों की गिरफ्तारी व मुआवजे की मांग को लेकर झांसी-मिर्जापुर मार्ग पर जाम लगाने की कोशिश की. कर्वी कोतवाली के थानेदार वीरेंद्र त्रिपाठी ने बताया कि मृतक की पत्नी उमा ने सुनील व चुन्नू के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई है. उन्होंने बताया कि आरोपियों की तलाश में दबिश जारी है. जल्द ही पुलिस ने सभी लोगों को गिरफ्तार करने का दावा किया है.

Sarkari naukri : यूपी के इस जिले में आंगनवाड़ी पदों पर भर्तियां, 5वीं पास के लिए भी मौका

चित्रकूट जिले में आंगनवाड़ी पदों के लिए आवेदन की अंतिम तिथि नौ अगस्त है.

Sarkari naukri : यूपी आंगनवाड़ी भर्ती 2021 के तहत चित्रकूट जिले में आंगनवाड़ी कार्यकत्री और सहायिका के कुल 516 पदों पर भर्तियां होनी हैं. महिलाओं के लिए सरकारी नौकरी का शानदार मौका है.

SHARE THIS:
नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश सरकार के बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग की ओर से 53 हजार आंगवाड़ी कार्यकत्री और सहायिकाओं की भर्ती प्रक्रिया चल रही है. इसी क्रम में अब चित्रकूट जिले के लिए आवेदन शुरू हो गए हैं. इससे पहले आजमगढ़, जौनपुर, लखनऊ, गोंडा, महोबा, कानपुर नगर और बाराबंकी जिलों के लिए ऑनलाइन आवेदन हो चुके हैं.

चित्रकूट में आंगनवाड़ी कार्यकत्री, मिनी आंगवाड़ी कार्यकत्री और आंगवाड़ी सहायिका के कुल 516 पदों पर भर्ती होनी है. इसमें आंगनवाड़ी कार्यकत्री की 207 वैकेंसी, मिनी आंगनवाड़ी कार्यकत्री के लिए 47 और आंगनवाड़ी सहायिका के लिए 262 वैकेंसी है. आवेदन के इच्छुक अभ्यर्थी बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग की वेबसाइट http://balvikasup.gov.in पर जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं. आवेदन की अंतिम तिथि नौ अगस्त 2021 है.

ब्लॉकवाइज वैकेंसी का विवरण

कर्वी-
आंगनवाड़ी कार्यकत्री- 90 पद
मिनी आंगनवाड़ी कार्यकत्री- 11 पद
आंगनवाड़ी सहायिका- 92 पद

पहाड़ी-
आंगनवाड़ी कार्यकत्री- 21 पद
मिनी आंगनवाड़ी कार्यकत्री- 13 पद
आंगनवाड़ी सहायिका- 25 पद

रामनगर-
आंगनवाड़ी कार्यकत्री- 26 पद
मिनी आंगनवाड़ी कार्यकत्री- 07 पद
आंगनवाड़ी सहायिका- 51 पद

मऊ-
आंगनवाड़ी कार्यकत्री- 21 पद
मिनी आंगनवाड़ी कार्यकत्री- 05 पद
आंगनवाड़ी सहायिका- 38 पद

मानिकपुर-
आंगनवाड़ी कार्यकत्री- 45 पद
मिनी आंगनवाड़ी कार्यकत्री- 11 पद
आंगनवाड़ी सहायिका- 51 पद

शहर-
आंगनवाड़ी कार्यकत्री- 04 पद
मिनी आंगनवाड़ी कार्यकत्री-00 पद
आंगनवाड़ी सहायिका- 05 पद

आवश्यक शैक्षिक योग्यता

-आंगनवाड़ी कार्यकत्री और मिनी आंगनवाड़ी कार्यकत्री के लिए कम से कम 10वीं पास होना चाहिए.
- आंगनवाड़ी सहायिका के लिए न्यूनतम शैक्षिक योग्यता पांचवीं पास है.

आयु सीमा-
आवेदन के लिए न्यूनतम आयु 21 वर्ष और अधिकतम 45 वर्ष है. आंगनवाड़ी सहायिका के पद पर कार्यरत अभ्यर्थियों के लिए अधिकतम आयु सीमा 50 वर्ष है. आयु की गणना एक जुलाई 2021 से मानी जाएगी. आंगनवाड़ी सहायिका के रूप में पांच साल पूरा कर चुकी अभ्यर्थियों/विधवा/परित्यक्ता/गरीबी रेखा से नीचे जीवनयापन करने वाले अभ्यर्थियों को चयन में वरीता मिलेगी.

ये भी पढ़ें

Odisha CS Preliminary Exam: ओडिशा राज्य सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 27 अगस्त को, देखें डिटेल

Career Counseling Webinar: NSS, UNICEF का राज्य स्तरीय एक दिवसीय करियर काउंसलिंग वेबिनार संपन्न

बाघों के बढ़ते हमलों के बीच योगी सरकार ने उठाया बड़ा कदम, यूपी के इन जिलों में बनेंगे एक रिवाइल्डिंग और 4 रेस्क्यू सेंटर्स

टाइगर रेस्क्यू सेंटर्स और रिवाइल्डिंग सेंटर घायल वन्‍यजीवों के लिए फाफी उपयोगी रहेंगे.

Tiger Rescue Centres in UP: उत्‍तर प्रदेश में लोगों को पर बढ़ते बाघों के हमले से परेशान योगी सरकार (Yogi Government) ने एक बड़ा कदम उठाते हुए चार नये रेस्क्यू सेंटर्स की स्थापना के साथ ही एक रिवाइल्डिंग सेंटर (Rewilding Center) बनाने का फैसला किया है. जबकि इसका निर्माण कंपनसेटरी डिफॉरेस्टेशन फंड मैनेजमेंट एंड प्लानिंग अथॉरिटी की निधि से किया जायेगा.

SHARE THIS:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश में टाइगर (Tiger) जैसे वन्यजीवों की संख्या में लगातार बढ़ात्तरी हो रही है, लेकिन बढ़ती आबादी के चलते उनका प्राकृतवास घटता जा रहा है. इसके चलते आये दिन मानव वन्यजीव संघर्ष की घटनाएं भी लगातार बढ़ती जा रही हैं. इस दौरान एक ओर जहां जंगलों के आस-पास बसें गांवों में टाइगर लोगों को अपना निवाला बनाते नजर आ रहे हैं, तो वहीं दूसरी ओर जनहानि को रोकने के लिए किये जाने वाले रेस्क्यू ऑपरेशन (Rescue Operation) में इन वन्यजीवों को भी एक बडे़ स्तर पर नुकसान हो रहा है, क्योंकि रेस्क्यू ऑपरेशन में घायल वन्यजीवों का पहले सैकड़ों किलोमीटर दूर स्थित चिड़ि‍याघरों या फिर रेस्क्यू सेंटर में ले जाकर उनका इलाज किया जाता है. ऐसे में योगी सरकार (Yogi Government) ने इन वन्यजीवों के संरक्षण के लिए प्रदेश के 4 क्षेत्रो में 4 नये रेस्क्यू सेंटर्स की स्थापना के साथ ही एक रिवाइल्डिंग सेंटर की भी स्थापना किए जाने का फैसला किया है.

दरअसल, अब तक उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में अगर टाइगर जैसा कोई खतरनाक वन्य जीव जंगल से भटक कर गांवों या शहरो तक पहुंच जाता है, तो ऐसी स्थित में एक तो वो खुद लोगों के जीवन के लिए सबसे बड़ा खतरा बन जाता है, वहीं कई बार उससे बचने के लिए या तो स्थानीय लोगों द्वारा उस पर हमला बोल दिया जाता है. जबकि कई बार ऐसे वन्यजीव रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान भी गंभीर रूप से घायल हो जाते हैं, जिसके बाद इन वन्यजीवों की जान बचाने के लिए काफी लंबी दूरी तय करके इन्हें सिर्फ लखनऊ और कानपुर स्थित चिड़ि‍याघर में ही लाकर इनका सही से इलाज किया जाता है. जिसके चलते तत्काल इलाज के अभाव में कई बार इन दुर्लभ वन्यजीवों की मौत भी हो जाती है.

अब यहां बनेंगे नये सेंटर
अब योगी सरकार नें प्रदेश के पीलीभीत, महराजगंज, मेरठ और चित्रकूट में 4 नये रेस्क्यू सेंटर्स बनाने का फैसला किया है. इन रेस्क्यू सेंटर्स का निर्माण यूपी कैंम्पा ( कंपनसेटरी डिफॉरेस्टेशन फंड मैनेजमेंट एंड प्लानिंग अथॉरिटी) की निधि से किया जायेगा.

रिवाइल्डिंग सेंटर से होगा ये बड़ा फायदा
मुख्य वन संरक्षक मुकेश कुमार के मुताबिक, पीलीभीत में एक रिवाइल्डिंग सेंटर की भी स्थापना की जायेगी. जिसमें मानव वन्यजीव संघर्ष की घटनाओं को रोकने के लिये जंगलों से भटककर मानव बाहुल आबादी में रह रहे वन्यजीवों को पकड़कर लाया जायेगा. इस रिवाइल्डिंग सेंटर में इन वन्यजीवों पर पडे़ मानव छाप के असर के चलते इनके स्वाभाव में आये बदलाव और आक्रामकता को कम करने के लिये सभी सुविधाए मौजूद रहेंगी. जिसके तहत रेस्क्यू कर लाये गये स्वस्थ वन्यजीवों को उनके अनुकूल प्रकृतवास में छोड़ने से पहले उनके स्वाभाव के अनुकूल ही इन रिवाइल्डिंग सेंटर को बनाया जा रहा है. यह रिवाइल्डिंग सेंटर न सिर्फ काफी बडे़ क्षेत्र में बनाया जायेगा बल्कि इसमें वन्यजीवों के खाने-पीने और रहने के लिये उनके प्राकृतवास की तरह ही सुविधा मुहैय्या कराई जायेगी. इस दौराने टाइगर जैसे वन्यजीवों के भोजन के लिये कुछ अन्य वन्यजीवों को भी छोड़ा जायेगा, जिसे टाइगर खुद शिकार करके खा सकेंगे. फिर कुछ समय बाद इन वन्यजीवों को दोबारा किसी जंगल में छोड़ दिया जायेगा.

चित्रकूट: सबरी जलप्रपात घूमने गए 4 लोग नदी में डूबे, 3 सैलानियों की मौत, एक सुरक्षित

सबरी जलप्रपात घूमने गए 4 लोग नदी में डूबे

बता दें कि यह कोई पहली घटना नहीं है, इससे पहले भी इसी जगह रक्षाबंधन के दिन कपड़ा व्यापारी के बेटे की इसी कुंड में डूबने से मौत (Death) हो गई थी.

SHARE THIS:
चित्रकूट. यूपी के चित्रकूट (Chitrakoot) जिले के मारकुंडी स्थित सबरी जलप्रपात घूमने गए चार लोग रविवार को नदी (River) में डूब गए. इस हादसे में 3 युवकों की मौत हो गई, जबकि एक को गोताखोरों की मदद से सुरक्षित बाहर निकाला गया. मौके पर पहुंची मारकुंडी पुलिस ने बचे लोगों को प्राथमिक उपचार के लिए नजदीकी अस्पताल में भर्ती करवाया है. पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है.

मामला मारकुंडी थाना क्षेत्र के शवरी जलप्रपात का है. जानकारी के मुताबिक, बांदा जिले के रहने वाले साहू प्रभारी के चार युवक चित्रकूट के शवरी जलप्रपात घूमने के लिए गए हुए थे. तभी जलप्रपात के ऊपर चारों युवक एंजॉय कर रहे थे तभी तेज बहाव के कारण चारों युवक बह गए. जिससे शोर सुनकर लोगों ने चारों युवकों को पुलिस और गोताखोरों की मदद से तलाश शुरू हुई.

Video: चंदौली के PDDU रेलवे स्टेशन पर टला बड़ा हादसा, रेलकर्मी के ऊपर से गुजरी ट्रेन

पीयूष उर्फ लाला की डेड बॉडी जलकुंड में मिल गई और मोहित और साहिल साहू को गंभीर हालत में इलाज के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भेजा गया. जहां दोनों की इलाज के दौरान मौत हो गई है. हादसे में 3 लोगों की मौत हो गई. और चौथे युवक आकाश को गोताखोरों ने सुरक्षा पूर्वक बचा लिया है. वहीं घटना के बाद से परिजनों में कोहराम मचा हुआ है. बता दें कि यह कोई पहली घटना नहीं है, इससे पहले भी इसी जगह रक्षाबंधन के दिन कपड़ा व्यापारी के बेटे की इसी कुंड में डूबने से मौत हो गई थी.

चित्रकूट में भीषण सड़क हादसा, 5 लोगों को कुचलने के बाद खाई में पलटी बस

सभी घायलों को इलाज के लिए सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया गया है.(सांकेतिक फोटो)

Roadways Bus Accident: प्रयागराज से चित्रकूट आ रही बस ने लालापुर आश्रम के पास गुमटी में खड़े लोगों को कुचला. घायलों में 3 की हालत नाजुक. ड्राइवर के नियंत्रण खो देने की वजह से हुआ हादसा.

SHARE THIS:
चित्रकूट. प्रयागराज से चित्रकूट (Chitrakoot) आ रही राज्य परिवहन निगम की एक बस शनिवार को हादसे (Roadways Bus Accident) का शिकार हो गई. रैपुरा थाना क्षेत्र के लालापुर आश्रम के पास गुमटी में खड़े पांच लोगों को कुचल डाला और उसके बाद गहरी खाईं में पलट गई. घायलों में तीन लोगों की हालत नाजुक बताई जा रही है. रैपुरा थाने के प्रभारी निरीक्षक (एसएचओ) सुशीलचन्द्र शर्मा ने बताया कि यह हादसा शनिवार सुबह करीब साढ़े आठ बजे हुआ.

उन्होंने बताया कि प्रयागराज से जीरो रोड डिपो की एक रोडवेज बस ने चालक के नियंत्रण खोने के बाद लालापुर आश्रम के पास गुमटी में खड़े पांच लोगों को कुचला और बाद में गहरी खाईं में पलट गई. एसएचओ ने बताया कि इस हादसे में बोडरी (80), रमेश (45), मधु (पांच), चाहत (आठ) और एक अन्य व्यक्ति घायल हुआ है. इनमें तीन लोगों की हालत नाजुक है. सभी घायलों को इलाज के लिए सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया गया है.

पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया
बता दें कि उत्तर प्रदेश में इन दिनों सड़क हादसे के मामले बढ़ गए हैं. कुछ देर पहले खबर सामने आई थी कि आजमगढ़ (Azamgarh) जिले के देवगांव कोतवाली क्षेत्र के मिर्जा आदमपुर गांव के पास ट्रैक्टर व कार के बीच हुई टक्कर (Accident) में कार सवार कोषागार के लेखाकार की मौके पर ही मौत हो गई. वहीं उनका बेटा, बहू व एक अन्य व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हैं. सूचना पर पहुंची पुलिस ने घायलों को तत्काल इलाज के लिए अस्पताल भेजा. मृतक के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया.

 ट्रैक्टर से कार की टक्कर हो गई
कंधरापुर थाना क्षेत्र के दरौरा देवखरी गांव निवासी ओम प्रकाश मौर्य कोषागार में बतौर लेखाकार तैनात थे. शुक्रवार को दिन में वह कार से बेटे प्रवेश मौर्या, बहू पूजा मौर्या, पौत्र अनय मौर्या व पंकज मौर्या निवासी नईकालोनी पल्हनी थाना सिधारी के साथ वाराणसी जा रहे थे. अभी वे देवगांव कोतवाली क्षेत्र के मिर्जा आदमपुर के पास ही पहुंचे थे कि सामने से आ रहे ट्रैक्टर से कार की टक्कर हो गई.

Chitrakoot: संघ के चिंतन शिविर में संंगठन को मजबूत करने समेत लिए गए ये बड़े फैसले

संघ संगठन को और मजबूत देने के लिए अपनी आईटी सेल स्थापित करेगा.

RSS In Chitrakoot: चित्रकूट में पिछले पांच दिन से चल रहा संघ का चिंतन शिविर का आज समाप्‍त हो गया है. इस दौरान संघ प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) की मौजूदगी में पश्चिम बंगाल के साथ अगले साल कई राज्‍यों में होने वाले चुनावों को लेकर भी मंथन हुआ.

SHARE THIS:
सतना/ चित्रकूट. उत्‍तर प्रदेश और मध्‍य प्रदेश के बॉडर्र चित्रकूट में पिछले पांच दिन से चल रहा संघ का चिंतन शिविर (RSS Contemplation Camp) का आज समापन हो गया. इस दौरान संगठन को मजबूत करने के लिए कई बड़े फैसले लिए गए, तो राजनीति पर भी मंथन हुआ. इस दौरान संघ प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) ने पश्चिम बंगाल को लेकर बड़ा फैसला किया है. पश्चिम बंगाल को तीन खंडों में विभाजित किया गया है. अब से दक्षिण बंगाल का मुख्यालय कोलकाता, मध्य बंगाल का मुख्यालय वर्धमान और उत्तर बंगाल का मुख्यालय सिलीगुड़ी होगा. साफ है कि अगले साल कई राज्‍यों में होने वाले चुनाव से पहले संघ सही और सटीक रणनीति बनाने में जुट गया है.

बहरहाल, आरएसएस की चिंतन शिविर में प्रान्त प्रचारकों को उनके दायित्व का बोध कराने के साथ सालभर की कार्य योजना को संघ ने अंतिम रूप दिया है. वहीं, दायित्वों में भी फेरबदल किया गया है. दक्षिण बंगाल के प्रांत प्रचारक जलधर महतो को सह क्षेत्र प्रचारक का दायित्व मिला है. वहीं, सह प्रांत प्रचारक प्रशान्त भट्ट को दक्षिण बंगाल का प्रांत प्रचारक बनाया गया है. इसके अलावा पूर्व क्षेत्र के सह क्षेत्र प्रचारक रमापदो पाल को उड़ीसा और बंगाल के नए क्षेत्र प्रचारक की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है.

क्षेत्र प्रचारक प्रदीप जोशी को अखिल भारतीय सह संपर्क प्रमुख की जिम्मेदारी दी गई है. अब उनका मुख्यालय चंडीगढ़ होगा. इसके अलावा भैया जी जोशी अब संघ की ओर से विश्व हिंदू परिषद के संपर्क अधिकारी होंगे. वहीं, डॉक्टर कृष्ण गोपाल को विद्या भारती का संपर्क अधिकारी बनाया गया है. जबकि सर कार्यवाहक अरुण कुमार संघ और भाजपा के बीच समन्वयक का काम देखेंगे.

जल्‍द शुरू होंगी बंद पड़ी शाखाएं
यही नहीं, चित्रकूट शिविर में कोरोनाकाल में आरएसएस के बन्द पड़े कार्यक्रमों के साथ संघ की शाखाओं को फिर से शुरू करने का ऐलान किया गया है. यही नहीं, अब संघ के कार्यकर्ता गांव-गांव तक पहुचेंगे.

संघ बनाएगा आईटी सेल
संघ संगठन को और मजबूत व प्रचारित करने के लिए अपनी आईटी सेल स्थापित करेगा. आईआईटी पासआउट नौजवानों को मौका मिलेगा. हालांकि भाजपा की तरह संघ की आईटी सेल अलग होगी. जबकि संघ के कार्यकर्ताओं को सोशल मीडिया में सक्रिय होने के आदेश दिए गए हैं. यही नहीं, संघ को कू ऐप भा गया है, लिहाजा वह अपनी बातों को प्रचारित करने इसका भरपूर इस्तेमाल करेगा.

Chitrakoot News: आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से मिले महंत नरेंद्र गिरी, साधु-संतों को राम मंदिर ट्रस्ट में शामिल करने की मांग

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने की आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से मुलाक़ात

Prayagraj News: अखाड़ा परिषद अध्यक्ष ने श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट में साधु-संतों को शामिल करने की मांग की है. उन्होंने ट्रस्ट में दो जगतगुरु, तीनों अणियों के श्री महंत को पदेन सदस्य बनाये जाने की मांग की है.

SHARE THIS:
प्रयागराज. साधु संतों की सर्वोच्च संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद (Akhil Bhartiya Akhara Parishad) के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि (Mahant Narendra Giri) ने चित्रकूट (Chitrakoot) में सोमवार को आरएसएस प्रमुख (RSS) मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) से मुलाकात की. पंडित दीनदयाल शोध संस्थान आरोग्य धाम में हुई इस मुलाकात में धर्मांतरण और श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट को लेकर दोनों के बीच बातचीत हुई है. अखाड़ा परिषद अध्यक्ष ने श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट में साधु-संतों को शामिल करने की मांग की है. उन्होंने ट्रस्ट में दो जगतगुरु, तीनों अणियों के श्री महंत को पदेन सदस्य बनाये जाने की मांग की है. इसके साथ ही साथ अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष व  महामंत्री के साथ ही अन्य साधु संतों को भी शामिल करने की मांग है.

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि के मुताबिक संघ प्रमुख मोहन भागवत ने उन्हें यह आश्वासन दिया है कि ट्रस्ट में आरएसएस का कोई हस्तक्षेप नहीं है. लेकिन अखाड़ा परिषद की यह मांग सरकार तक जरुर पहुंचायेंगे। इस मौके पर संघ के अन्य पदाधिकारी भी मौजूद रहे. इस मौके पर अखाड़ा परिषद अध्यक्ष ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत को हनुमान जी का टीका और आशीर्वाद दिया है. गौरतलब है कि इन दिनों चित्रकूट में संघ के नेताओं का जमावड़ा लगा है. 9 और 10 जुलाई को क्षेत्रीय प्रचारकों के साथ संघ प्रमुख मोहन भागवत की बैठक हुई थी. 11 और 12 जुलाई को प्रांतीय प्रचारकों के साथ बैठक हुई है. जबकि मंगलवार13 जुलाई को अखिल भारतीय के विभिन्न संगठनों के संगठन मंत्री और सचिवों के साथ वर्चुअली बैठक में मोहन भागवत शामिल होंगे. यह बैठक भारत रत्न से सम्मानित राष्ट्र ऋषि नाना जी देशमुख की कर्म स्थली में हो रही है.

संघ प्रमुख मोहन भागवत की पाठशाला में संघ की आगामी रणनीति को लेकर जहां विचार मंथन चल रहा है. वहीं ऐसा माना जा रहा है कि 2022 के यूपी चुनाव को लेकर भी संघ आगामी रणनीति बना रहा है.

Modi Cabinet Expansion के बाद UP-MP बॉर्डर पर संघ की फील्डिंग, क्या हैं सियासी मायने

चित्रकूट में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय प्रांत प्रचारक बैठक होने जा रही है.

RSS MEETING : संघ प्रमुख मोहन भागवत का यूपी बॉर्डर पर बैठक करना आगामी यूपी विधानसभा चुनाव के लिहाज से भी अहम माना जा रहा है. उत्तर प्रदेश में अगले साल विधानसभा चुनाव हैं.

SHARE THIS:
भोपाल. मोदी कैबिनेट के विस्तार (Modi cabinet expansion) के बाद अब राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) उत्तर प्रदेश बॉर्डर पर संघ ने फील्डिंग जमाना शुरू कर दिया है. संघ प्रमुख मोहन भागवत अगले 5 दिन तक एमपी के उस इलाके में डेरा डालकर बैठकें करेंगे जो उत्तर प्रदेश बॉर्डर से बिल्कुल सटा हुआ है. बॉर्डर से महज 500 मीटर दूर चित्रकूट में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय प्रांत प्रचारक बैठक होने जा रही है.

उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के लिहाज से इस बैठक को अहम माना जा रहा है. हालांकि संघ से जुड़े पदाधिकारियों का तर्क है कि हर साल यह बैठक आम तौर पर जुलाई में होती है. लेकिन पिछले साल कोरोना की परिस्थितियों में चित्रकूट में बैठक नहीं हो पायी थी. लिहाजा इस साल वहां यह बैठक हो रही है. कोरोना की वजह से इस बैठक में कुछ कार्यकर्ता प्रत्यक्ष तो कुछ वर्चुअल जुड़ेंगे.



बैठक का कार्यक्रम
9-10 जुलाई को 11 क्षेत्रों के क्षेत्र प्रचारक और सह क्षेत्र प्रचारकों की बैठक चित्रकूट में होगी. इसमें विशेष रूप से सर संघचालक डॉ. मोहन भागवत, सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबाले और सभी पांचों सह सरकार्यवाह उपस्थित रहेंगे. साथ ही संघ के सातों कार्य विभाग के अखिल भारतीय प्रमुख और सह प्रमुख भी शामिल होंगे. 12 जुलाई को देशभर के संघ रचना के अनुसार सभी 45 प्रांतों के प्रांत प्रचारक एवं सह प्रांत प्रचारक ऑनलाइन माध्यम से जुड़ेंगे. 13 जुलाई को अखिल भारतीय संगठन मंत्री भी ऑनलाइन बैठक में शामिल होंगे.

 क्या है बैठक का एजेंडा ?
यह बैठक संघ के संगठनात्मक विषयों पर केंद्रित रहेगी. साथ ही कोरोना के संक्रमण से पीड़ित लोगों की सहायता के लिए स्वयंसेवकों द्वारा किये गये सेवा कार्यों की समीक्षा की जाएगी. कोरोना की संभावित तीसरी लहर के प्रभाव का आंकलन करते हुए कार्य योजना पर विचार होगा. संघ शिक्षा वर्ग और विभिन्न प्रकार के संघ कार्यों का आंकलन करते हुए नई योजनाओं पर विचार किया जायेगा. हालांकि इन सबसे इतर संघ प्रमुख का यूपी बॉर्डर पर बैठक करना आगामी यूपी विधानसभा चुनाव के लिहाज से भी अहम माना जा रहा है.

UP News Live Updates: सात दिवसीय दौरे पर चित्रकूट पहुंचे RSS प्रमुख मोहन भागवत, यूपी चुनाव को लेकर होगा मंथन

चित्रकूट पहुंचे आरएसएस प्रमुख मोहन भगवत

UP News Live, July 6, 2021: आरएसएस की होने वाली पांच दिवसीय इस बैठक में यूपी में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर यूपी की नब्ज टटोली जाएगी. इसके साथ ही सरकार के कामकाज का भी आंकलन किया जाएगा.

SHARE THIS:
चित्रकूट. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के सर संघचालक मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) अपने सात दिवसीय दौरे पर मंगलवार सुबह संपर्क क्रांति ट्रेन से चित्रकूट (Chitrakoot) पहुंचे. संघ के कार्यकर्ताओं और पदाधिकारी ने उनका रेलवे स्टेशन पर जोरदार स्वागत किया. इसके बाद वे दीनदयाल शोध संस्थान आरोग्यधाम मध्य प्रदेश के चित्रकूट जिला सतना के लिए रवाना हो गए. वे दीनदयाल शोध संस्थान में संचालित कार्यक्रम में प्रतिभाग करेंगे. इसके साथ ही वहीं पर जगदगुरू रामभद्राचार्य जी तुलसी पीठाधीश्वर आश्रम से मुलाकात करेंगे. इसके बाद वह 13 जुलाई तक पंडित दीनदयाल शोध संस्थान आरोग्यधाम में ही रहेंगे. 8 जुलाई से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की होने वाली पांच दिवसीय विश्व स्तरीय बैठक में शामिल होंगे। बताया जा रहा है कि 8 जुलाई को संघ के क्षेत्रीय प्रचारक चित्रकूट पहुंचेंगे और वह 9 जुलाई व 10 जुलाई को होने वाली क्षेत्रीय प्रचारक की बैठक में मोहन भागवत भाग लेंगे. इसके बाद 10 और 11 जुलाई को प्रांतीय प्रचारकों के साथ मोहन भागवत वर्चुअली बैठक लेंगे. इसके बाद 13 जुलाई को शाम 5:00 बजे दीनदयाल शोध संस्थान आरोग्य धाम से सतना रेलवे स्टेशन के लिए सड़क मार्ग द्वारा रवाना हो जाएंगे. फिलहाल आरएसएस सरसंघसंचालक मोहन भागवत को लेकर यूपी-एमपी के प्रशासन ने सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम किये हैं. आरएसएस की होने वाली पांच दिवसीय इस बैठक में यूपी में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर यूपी की नब्ज टटोली जाएगी. इसके साथ ही सरकार के कामकाज का भी आंकलन किया जाएगा.

UP News: 6 जुलाई को चित्रकूट पहुंचेंगे RSS प्रमुख मोहन भागवत, इन मुद्दों पर हो सकती है चर्चा

6 जुलाई को चित्रकूट पहुंचेंगे RSS प्रमुख मोहन भागवत,(फाइल फोटो)

फिलहाल आरएसएस (RSS Chief) प्रमुख मोहन भागवत के दौरे को लेकर एमपी (MP) के कई मंत्रियों ने चित्रकूट में डेरा डाल लिया है और बैठक को लेकर तैयारियां जोरों पर की जा रही है.

SHARE THIS:
चित्रकूट. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के सरसंघचालक प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) 6 जुलाई को धर्म नगरी चित्रकूट (Chitrakoot) के सात दिवसीय दौरे पर आ रहे हैं. कार्यक्रम के मुताबिक मोहन भागवत 5 जुलाई को रात 8 बजे दिल्ली के हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन से संपर्क क्रांति से चित्रकूट के लिए रवाना होंगे. इसके बाद वह 13 जुलाई तक पंडित दीनदयाल शोध संस्थान आरोग्यधाम में ही रहेंगे. 8 जुलाई से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की होने वाली पांच दिवसीय विश्व स्तरीय बैठक में शामिल होंगे. बताया जा रहा है कि 8 जुलाई को संघ के क्षेत्रीय प्रचारक चित्रकूट पहुंचेंगे और वह 9 जुलाई व 10 जुलाई को होने वाली क्षेत्रीय प्रचारक की बैठक में मोहन भागवत भाग लेंगे. इसके बाद 10 और 11 जुलाई को प्रांतीय प्रचारकों के साथ मोहन भागवत वर्चुअली बैठक लेंगे. कोरोना महामारी को देखते हुए 300 प्रचारक ऑनलाइन इस बैठक से जुड़ेंगे.

इसके बाद 13 जुलाई को शाम 5:00 बजे दीनदयाल शोध संस्थान आरोग्य धाम से सतना रेलवे स्टेशन के लिए सड़क मार्ग द्वारा रवाना हो जाएंगे. फिलहाल आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत को लेकर यूपी एमपी के प्रशासन ने सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम कर लिए हैं. सूत्रों के हवाले से खबर पता चली है कि यूपी में अगले साल 2022 में वाले विधानसभा चुनाव को लेकर आरएसएस चुनाव को लेकर यूपी की नब्ज टटोली जाएगी. इसके साथ ही सरकार के कामकाज का भी आकलन किया जाएगा.

UP: अखाड़ा परिषद ने संघ प्रमुख का किया समर्थन, महंत नरेंद्र गिरि बोले- मुसलमानों और ईसाइयों का एक DNA

हालांकि यह बैठक हर साल होती है लेकिन चुनाव का समय नजदीक होने से इस बैठक की अहमियत बढ़ जाती है. फिलहाल आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के दौरे को लेकर एमपी के कई मंत्रियों ने चित्रकूट में डेरा डाल लिया है और बैठक को लेकर तैयारियां जोरों पर की जा रही है. इस बैठक में संघ की अखिल भारतीय कार्यकारिणी के 30 पदाधिकारी प्रत्यक्ष रूप से शामिल होंगे. इस दौरान भी कोरोना गाइडलाइन का पालन किया जाएगा.

चित्रकूट और अमरकंटक दोनों ओर से बनेगा रामवन गमन पथ, देखें- किन शहरों से गुजरेगा

संस्कृति मंत्री ऊषा ठाकुर ने बताया कि रामपथ वन गमन मार्ग चित्रकूट से शुरू होकर सतना, पन्ना, अमानगंज, कटनी, जबलपुर, मण्डला, डिंडोरी, शहडोल होते हुए अमरकंटक पर पूरा होगा.

MP News: मध्यप्रदेश के हिस्से में शामिल रामपथ वन गमन मार्ग के विकास की शुरुआत एक साथ चित्रकूट और अमरकंटक दोनों ओर से होगी. संस्कृति मंत्री ऊषा ठाकुर ने बताया कि रामपथ वन गमन मार्ग चित्रकूट से शुरू होकर अमरकंटक पर पूरा होगा.

SHARE THIS:
इंदौर. मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh News) के हिस्से में शामिल रामपथ वन गमन (Rampath Van Gaman) मार्ग के विकास की शुरुआत एक साथ चित्रकूट (Chitrakoot) और अमरकंटक दोनों ओर से होगी. आध्यात्म, पर्यटन और संस्कृति मंत्री ऊषा ठाकुर ने बताया कि रामपथ वन गमन मार्ग चित्रकूट से शुरू होकर सतना, पन्ना, अमानगंज, कटनी, जबलपुर, मण्डला, डिंडोरी, शहडोल होते हुए अमरकंटक पर पूरा होगा. अध्यात्म विभाग के मार्ग दर्शन मे मध्यप्रदेश रोड डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन को रामपथ वन गमन विकास कार्यों की एजेंसी बनाया गया है. योजना के प्रथम चरण में रामपथ गमन मार्ग के निर्माण की डीपीआर बनाने के लिए अध्यात्म विभाग ने एक करोड़ रुपए की प्रशासकीय स्वीकृति दी है. साथ ही पहली किश्त के रूप मे 50 लाख रुपये आवंटित भी कर दिए गये हैं. जिसके लिए टेंडर बुलाए जाएंगे.

पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री ऊषा ठाकुर ने निर्देश दिए कि रामपथ गमन मार्ग प्रोजेक्ट का डीपीआर तैयार करते समय स्थानीय मानस मर्मज्ञ, साधु-संतों, स्थानीय जनप्रतिनिधियों से राय लेकर कंप्लीट और कंपोजिट प्लान बनाएं. रामपथ वन गमन मार्ग का प्रोजेक्ट राज्य सरकार का ड्रीम प्रोजेक्ट है. इसकी सभी गतिविधियां निश्चित समय-सीमा में पूरी की जायें. भगवान श्रीराम के वनवास से जुड़ी स्मृतियों को संजोने के लिए रामपथ गमन मार्ग को तीन चरणों मे पूरा किया जाएगा. पहले चरण मे कामदगिरि परिक्रमा, द्वितीय चरण में चित्रकूट की 84 कोशी परिक्रमा के स्थल और तीसरे चरण में रामपथ गमन के दूसरे महत्व के स्थलों को विकसित किया जाएगा.

मंत्री ठाकुर ने कहा कि चित्रकूट और रामपथ वन गमन मार्ग का विकास राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता का कार्य है. कलेक्टर खुद हर पंद्रह दिन मे संबंधित विभागों की बैठक लेकर प्रगति की समीक्षा करेंगे. इसकी मॉनिटरिंग के लिए जनप्रतिनिधि विशेषज्ञ और संबंधित विभागों के अधिकारियों की एक कोर्डिनेशन कमेटी भी बनाई जाएगी. इसके अलावा राम वन गमन विकास का प्रोजेक्ट डीपीआर बनाते समय 9 विभागों की समन्वय समिति बनाई जाएगी.

मंदाकिनी घाट पर होगी गंगा आरती
मंत्री ने निर्देश दिए कि जिस तरह उत्तर प्रदेश के हिस्से वाले मंदाकिनी घाट पर नियमित रूप से गंगा शयन आरती की जाती है. इसी तर्ज पर अपने मध्यप्रदेश के घाटों पर भी गंगा आरती की व्यवस्था की जाये. इसके लिए नगर परिषद एक सप्ताह के भीतर मंदाकिनी गंगा की नियमित आरती की व्यवस्था सुनिश्चित करे.

चित्रकूट में प्रेमिका से मिलने पहुंचा कौशांबी का युवक, परिजनों ने पेड़ से बांधकर पीटा, Video Viral

चित्रकूट में प्रेमिका से मिलने पहुंचा कौशांबी का युवक, परिजनों ने पेड़ से बांधकर पीटा, वीडियो वायरल.

चित्रकूट में प्रेमिका से मिलने गए युवक के परिजनों ने उसे पकड़ कर सख्त सजा दी. प्रेमी युवक को पेड़ से बांधकर जमकर बेल्ट से पिटाई करते हुए वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. वायरल वीडियो राजापुर थाना क्षेत्र के सगवारा गांव का बताया जा रहा है.

SHARE THIS:
चित्रकूट. चित्रकूट (Chitrakoot) में प्रेमिका से मिलने गए युवक के परिजनों ने उसे पकड़ कर सख्त सजा दी. प्रेमी युवक को पेड़ से बांधकर जमकर बेल्ट से पिटाई करते हुए वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. वायरल वीडियो राजापुर थाना क्षेत्र के सगवारा गांव का बताया जा रहा है, जहां कौशांबी जिले के महेवा घाट निवासी बच्चा नाम का युवक अपनी प्रेमिका से मिलने के लिए चित्रकूट के सगवारा गांव आया हुआ था. जहां उसको परिजनों ने पकड़ लिया.

परिजनों ने उसके पेड़ से हाथ पैर बांधकर उसकी बल्टों से बेरहमी से पिटाई की. जिसका वीडियो अब सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है. यह वायरल वीडियो लगभग 2 दिन पुराना बताया जा रहा है. वीडियो को संज्ञान में लेकर राजापुर थाने की पुलिस मामले की जांच में जुट गई है. पुलिस के अधिकारियों का कहना है कि वह इस मामले की जांच के बाद ही कुछ कहेंगे. वीडियो देखकर आप अंदाजा लगा सकते हैं कि किस तरह परिजनों ने युवक को तालिबानी सजा देते हुए अमानवीयता की सारी हदें पार कर दीं. फिलहाल यह वीडियो सोशल मीडिया में खूब वायरल हो रहा है.

बताया जा रहा है कि यह वीडियो बच्चा नाम के किसी युवक का है, जो 2 दिन पहले सोशल मीडिया में वायरल हुआ था. इस वीडियो पर सबसे पहले कौशांबी पुलिस ने संज्ञान लिया था, जिसको पीड़ित युवक को कौशांबी पुलिस ने थाने बुलाकर पूरी घटना की हकीकत जानी थी. इसके बाद पीड़ित युवक को छोड़ दिया था, लेकिन इस मामले पर कौशांबी पुलिस ने घटनास्थल दूसरे जनपद में होने के कारण कोई कार्रवाई नहीं की थी. जब यह वीडियो सोशल मीडिया के माध्यम से मीडिया के हाथ लगा तो पूरी घटना का खुलासा हो गया. राजापुर थाने की पुलिस ने मामले का संज्ञान लेते हुए घटनास्थल के लिए पुलिस को रवाना किया. इस मामले से जुड़े लोगों से पूछताछ की जा रही है.

चित्रकूट में जहां भगवान राम ने साढ़े 11 वर्ष वनवास में गुजारे, वहां राम वन गमन पथ बनाएगी योगी सरकार

चित्रकूट में योगी सरकार राम वन गमन पथ बनाने जा रही है, जिससे पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा.

Chitrakoot News: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राम वनगमन मार्ग पर राम वन बनाने जा रहे हैं. जिसके चलते अयोध्या, प्रयागराज और चित्रकूट में राम वन बनाया जाएगा, लेकिन चित्रकूट का राम वन अयोध्या और प्रयागराज से क्यों विशेष होगा. भगवान श्री राम ने अपने वनवास के साढ़े 11 वर्ष चित्रकूट में बिताए थे.

SHARE THIS:
चित्रकूट. प्रभु श्रीराम की यादों को ताजा करने के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राम वनगमन मार्ग पर राम वन बनाने जा रहे हैं. जिसके चलते अयोध्या, प्रयागराज और चित्रकूट में राम वन बनाया जाएगा, लेकिन चित्रकूट का राम वन अयोध्या और प्रयागराज से विशेष होगा. भगवान श्री राम ने अपने वनवास के साढ़े 11 वर्ष चित्रकूट में बिताए थे. प्रभु श्रीराम को पेड़ पौधों से बहुत लगाव था. इसलिए माता सीता को वह उपहार में फूल पौधों के आभूषण देते थे. शायद इसीलिए चित्रकूट के प्रकृति सौंदर्य को देखकर लाखों श्रद्धालु भगवान श्रीराम से जुड़े जन्म स्थलों को देखने के लिए चित्रकूट आते हैं. इसीलिए उत्तर प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने श्रद्धालुओं को त्रेता युग की अनुभूति कराने के लिए चित्रकूट में रामायण काल का रामवन तैयार करने जा रही है.

चित्रकूट जिले के देवांगना हवाई पट्टी के पास रामायण काल के पौधों से राम वन तैयार किया जाना है. जिसमें पहला पौधा केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और उत्तर प्रदेश सरकार के जल शक्ति मंत्री डॉ महेंद्र सिंह लगाएंगे जिसको लेकर चित्रकूट का वन विभाग और जिला प्रशासन तैयारियों पर जोरों से जुटा रही है. चित्रकूट के दीवानगना हवाई पट्टी पर बनने वाले रामायण कालीन राम वन शहर से महज 6 किलोमीटर दूर है, जो देवांगना हवाई पट्टी के नजदीक 35 एकड़ भूमि में रामायण कालीन राम वन बनेगा. इस रामवन में 15 प्रजातियों के पेड़ पौधे लगाए जाएंगे जिसमें चंदन, अशोक, बरगद, आम, पलाश, चमेली, धामन, कुंद, रीठा समेत तमाम पेड़ पौधे लगाए जाएंगे. जो लगभग साढ़े 38 हजार इस राम वन में पौधे लगाए जाएंगे. इसके अलावा इस रामायण कालीन राम वन में औषधि वाटिका भी बनाया जाएगा.

कोरोना में दिवंगत हुए लोगों के नाम से रोपे जाएंगे पौधे 

पूरे उत्तर प्रदेश में वन विभाग द्वारा वन महोत्सव कार्यक्रम चलाया जा रहा है. जिसके चलते धर्म नगरी चित्रकूट में भी वन महोत्सव कार्यक्रम के तहत 4 जुलाई को त्रेता युग का रामवन बनाने की तैयारी की जाएगी. जिसका शुभारंभ उत्तर प्रदेश सरकार के जल शक्ति मंत्री डॉक्टर महेंद्र सिंह व केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र शेखावत पौधारोपण कर करेंगे. इसके साथ ही इस मौके पर इस कोविड कॉल में शहीद हुए दिवंगत लोगो के नाम का पेड़ उनके परिजनों द्वारा इस रामायण कालीन रामवन में लगवाया जाएगा जिसको लेकर वन विभाग और जिला प्रशासन तैयारियों पर झूठा है. वहीं जिला फारेस्ट ऑफिसर का कहना है कि चित्रकूट के रामायण कालीन रामवन बन जाने से पर्यटक को काफी बढ़ावा मिलेगा. जो लोग भगवान श्रीराम से जुड़े स्थलों को देखने के लिए चित्रकूट आना चाहते हैं. वह लोग इस रामवन से त्रेता युग के अनुभूति करेंगे.
Load More News

More from Other District

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज