• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • UP News: चित्रकूट पुलिस के लिए सिरदर्द बना डेढ़ लाख का इनामी डकैत गौरी यादव, खात्मे के लिए कॉम्बिंग जारी

UP News: चित्रकूट पुलिस के लिए सिरदर्द बना डेढ़ लाख का इनामी डकैत गौरी यादव, खात्मे के लिए कॉम्बिंग जारी

जरायम की दुनिया का बादशाह है डकैत गौरी यादव

जरायम की दुनिया का बादशाह है डकैत गौरी यादव

Chitrakoot News: चित्रकूट के खूंखार डकैत डेढ़ लाख के इनामी गौरी यादव पर यूपी सरकार ने एक लाख, तो एमपी सरकार ने 50 हजार के नाम घोषित कर रखा है. यह लगातार 20 सालों से अपराध की दुनिया में अपनी दहशत बनाए हुए है.

  • Share this:
चित्रकूट. बुंदेलखंड (Bundelkhand) के चित्रकूट (Chitrakoot) की धरती में एक से बढ़कर एक कुख्यात डकैतों (Dacoits) ने जरायम की दुनिया में कदम रखकर रूह कंपा देने वाली घटनाओं को अंजाम दिया है. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में कई सरकारों ने अपने फायदों के लिए इन डकैतों को संरक्षण भी दिया और इनका खात्मा भी करवाया. उत्तर प्रदेश में योगी सरकार (Yogi Government) बनते ही डकैतों के खात्मे के लिए उनके खिलाफ अभियान चलाकर कुछ डकैतों को एनकाउंटर में ढेर किया गया है, तो कुछ डकैतों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया, लेकिन चित्रकूट में अभी भी एक ऐसा डेढ़ लाख का इनामी डकैत है जिसे चित्रकूट पुलिस ने ही अपने फायदे के लिए पैदा किया था और आज वही डकैत चित्रकूट पुलिस के लिए सरदर्द बना है.

हम बात कर रहे हैं चित्रकूट के खूंखार डकैत डेढ़ लाख के इनामी गौरी यादव की जिस पर यूपी सरकार ने एक लाख का इनाम घोषित कर रखा है, तो एमपी सरकार ने भी 50 हजार के नाम घोषित कर रखा है. जो लगातार 20 सालों से अपराध की दुनिया में अपनी दहशत बनाए हुए है, लेकिन चित्रकूट पुलिस उसका खात्मा करने में असफल साबित हो रही है.

इन डकैतों का रहा है दहशत
चित्रकूट और आसपास के जिलों में कई दशकों से डकैतों का आतंक रहा है. ददुआ, ठोकिया, बलखड़िया, रागिया और बबली कोल सहित लवलेश कोल के मारे जाने के बाद अब पुलिस के सामने डाकू गौरी यादव चुनौती बना हुआ है. डाकू गौरी यादव ने डकैत गोप्पा के साथ 2001 में अपराध की दुनिया में कदम रखा. उसके बाद से उसने पीछे मुड़कर नहीं देखा। डकैत गौरी यादव अब सरकारी कामकाज में कमीशन ना मिलने पर ठेकेदारों और मजदूरों से मारपीट करता है. वर्ष 2008 में हुई मुठभेड़ में एसटीएफ ने गौरी को पकड़ कर जेल भेजा था. 2 साल बाद जेल से छूटने के बाद डकैत गौरी यादव फिर से लूटपाट करने लगा.

इन वारदातों को दिया है अंजाम
डाकू गौरी यादव चित्रकूट के बहिलपुरवा थाना के बिलहरी गांव का निवासी है. जेल से छूटने के बाद 16 मई सन 2013 को दिल्ली पुलिस बिलहरी गांव में दबिश देने गई थी. तब गौरी यादव ने दिल्ली पुलिस के दरोगा की गोली मारकर हत्या कर उसकी सरकारी रिवाल्वर लूट ली थी और 2016 में बिलहरि गांव के तीन ग्रामीणों को बिजली के खंभे में बांधकर उसने गोली चलाई थी. तब उत्तर प्रदेश में तत्कालीन डीजीपी जावेद अहमद ने गौरी यादव पर एक लाख के नाम घोषित किया था. गौरी ने 2017 में कुलहुआ के जंगल मे एक ही गांव के 3 लोगों को जिंदा जला दिया था.

खात्मे के लिए पुलिस कर रही कॉम्बिंग
गौरी यादव के खिलाफ चित्रकूट और सीमा से सटे सतना मध्य प्रदेश में 60 से अधिक मुकदमे दर्ज हैं. मध्य प्रदेश सरकार ने गौरी यादव पर 50 हजार का इनाम घोषित कर रखा है जबकि यूपी सरकार ने एक लाख का. इतना ही नहीं गौरी यादव ने अपने आतंक के बल पर 2016 में अपनी मां को गांव का प्रधान भी बनाया था. इस इनामी डकैत का चित्रकूट में दहशत आज भी है. जिसको खत्म करने के लिए चित्रकूट पुलिस लगातार जंगलों में कॉम्बिंग कर रही है. यहां तक कि चित्रकूट धाम मंडल के आईजी के सत्यनारायण ने डकैत गौरी यादव के खात्मे के लिए सरकार से इनाम बढ़ाने का प्रस्ताव भी भेज दिया है. अब देखना यह होगा कि चित्रकूट पुलिस इस डकैत का खात्मा कर पाती है या नही.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज