UP News: पत्‍नी को खांसी होने पर पत‍ि ने दूध में म‍िलाकर दी 'दवा' और हो गई मौत, जानें क्‍या है पूरा मामला


उत्‍तर प्रदेश के चित्रकूट में पत्नी को खांसी की दवा बता कर तेजाब पिलाने पर पत्नी की इलाज के दौरान मौत हो गई

उत्‍तर प्रदेश के चित्रकूट में पत्नी को खांसी की दवा बता कर तेजाब पिलाने पर पत्नी की इलाज के दौरान मौत हो गई

Uttar Pradesh News: उत्‍तर प्रदेश के च‍ित्रकूट में एक पत‍ि ने पत्‍नी को खांसी की दवा बता कर दूध में तेजाब मिलाकर पिला दिया. इसे दो द‍िन बाद उसकी अस्‍पताल में मौत हो गई. जहां युवती का पर‍िवार इसे पूरे फैम‍िली की साज‍िश बता रहा है. वहीं आरोपी पत‍ि का कहना है क‍ि ये मैंने खुद क‍िया है.

  • Share this:

उत्‍तर प्रदेश के चित्रकूट में पत्नी को खांसी की दवा बता कर तेजाब पिलाने पर पत्नी की इलाज के दौरान मौत होने का सनसनीखेज मामला सामने आया है. मामला कर्वी तहसील के बिहार का गांव का है जहां पीड़ित परिजनों ने आरोप लगाते हुए बताया है कि उन्होंने अपनी बेटी रोशनी की शादी 2 साल पहले बांदा जनपद के पाहौर गांव में रोहित पांडे नाम के व्यक्ति के साथ की थी.

रोशनी के पर‍िवार का आरोप है क‍ि 2 दिन पहले उनकी बेटी को खांसी की दवा बता कर दूध में मिलाकर तेजाब पिला दिया, जिससे उसकी हालत खराब हो गई. इसके बाद उसे इलाज के लिए चित्रकूट के जानकी कुंड हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया. जहां डॉक्टरों ने उसकी हालत देखकर बिरला हॉस्पिटल सतना के लिए रेफर कर दिया जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई है. पीड़ित रोशनी ने अपने मौत के पहले अपने पति और ससुरालियों पर उत्पीड़न करने का गंभीर आरोप लगाया है, जिसका वीडियो न्यूज़ 18 के पास मौजूद है. वह इस घटना के बाद पीड़ित परिजनों ने बांदा जिले के बदौसा थाना में न्याय की गुहार लगाई है.

Youtube Video

आरोपी पति रोहित पांडेय ने अपना जुर्म कबूल कर ल‍िया है. उसका कहना है क‍ि मैं बाजार से तेजाब लाया था और उसे दूध में म‍िलाकर अपनी पत्‍नी को दे द‍िया है. इसमें मेरे पर‍िवार का कोई कसूर नहीं है. उन्‍होंने कुछ नहीं क‍िया है. उसने कहा क‍ि मेरा द‍िमाग काम नहीं कर रहा है.
वहीं रोशनी ने मरने से पहले कैमरे के सामने अपनी पीड़ा बताई. उसने बताया क‍ि उसके पत‍ि ने खांसी की दवा बताकर उसे तेजाब प‍िला द‍िया.

आरोपी के प‍िता ने कहा क‍ि जब ये सबकुछ हुआ हम घर पर नहीं थे. हम दूसरे वाले घर पर थे. उन्‍होंने बताया क‍ि वह 12 महीने अपने दूसरे वाले मकान में रहते हैं, जहां पर घर-भैंस बंधी रहती हैं. उन्‍होंने बताया क‍ि बहू और बेटा घर की छत पर सो रहे थे और बेटे ने बहू रोशनी को कहा था दूध लेकर आना. मैं दवाई लाया हूं खा लेना. इसके बाद उसने बहू को दवाई प‍िलाई इसके बाद रात 12 बजे उसे उल्‍टी होने लगी. इसके बाद हमने गांव के डॉक्‍टर को बुलाया. उसे दो बार द‍िखाया लेक‍िन कोई असर नहीं पड़ा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज