• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • 558 मदरसों के लिए यूपी सरकार ने रखा 479 करोड़ रुपए का प्रस्‍ताव, मदरसा मॉडर्नाइजेशन पर होगा काम   

558 मदरसों के लिए यूपी सरकार ने रखा 479 करोड़ रुपए का प्रस्‍ताव, मदरसा मॉडर्नाइजेशन पर होगा काम   

यूपी सरकार ने मदरसों के शिक्षकों को आईआईटी-आईआईएम के दिग्गजों से ऑनलाइन पढ़ाई की ट्रेनिंग दिलाने का प्लान बनाया है. Demo pic

सरकार ने इस साल 558 मदरसों (Madarsa) के लिए 479 करोड़ रुपये का प्रस्ताव रखा है. सिलेबस (Syllabus) को भी छोटा कर बच्चों के लिए आसान बनाया गया है.

  • Share this:
    लखनऊ. मदरसों (Madarsa) की पढ़ाई को लेकर यूपी सरकार (UP Government) गंभीर है. मदरसों में पढ़ने वाले 2.5 लाख बच्चों की पढ़ाई को और आसान बनाने के लिए कई बदलाव किए गए हैं. इसी के साथ मोबाइल ऐप (Mobile App) से पढ़ाने की तैयारी भी हो रही है. 15 दिन में एक हजार मदरसा टीचर्स को ऐप से ऑनलाइन (Online) पढ़ाने की ट्रेनिंग दी गई है. मदरसा मॉडर्नाइजेशन को लेकर कई कदम उठाए जा रहे हैं. इसी के चलते सरकार ने इस साल 558 मदरसों के लिए 479 करोड़ रुपये का प्रस्ताव रखा है. सिलेबस (Syllabus) को भी छोटा कर बच्चों के लिए आसान बनाया गया है.

    मोबाइल ऐप पर चल रहा है यह काम

    यूपी में मदरसों के आधुनिकीकरण को लेकर मदरसा बोर्ड एक और बड़ा कदम उठा रही है. प्रदेश सरकार यूपी के मदरसे में पढ़ने वाले ढ़ाई लाख से अधिक छात्रों को बड़ी राहत देने की तैयारी में है. नए सत्र से मदरसा बोर्ड के छात्र भी मोबाइल एप के जरिए पढ़ाई कर सकेंगे. मदरसा बोर्ड के सदस्‍य का कहना है कि मोबाइल ऐप तैयार करने का प्रस्‍ताव बोर्ड को भेज दिया गया है. बोर्ड परीक्षाफल घोषित होने के बाद मोबाइल ऐप तैयार कराने का काम किया जाएगा.

    उन्‍होंने बताया कि बोर्ड पूरी कोशिश करेगा कि नए सत्र से छात्र मोबाइल ऐप पर अपनी पढ़ाई कर सकें. मदरसा छात्रों को राहत देने के लिए उनका सिलेबस कम किया गया है. पहले छात्रों को 12 से 15 किताबों से पढ़ाई करना पड़ती थी, लेकिन अब सिलेबस बहुत कम हो गया है. सिर्फ 7 से 8 किताबों को लागू किया गया है. जो पेपर लम्‍बे-लम्‍बे आते थे, उनको सेक्‍शन में बांट कर छोटाकर दिया गया है. इससे छात्रों को काफी सहूलियत हुई है.



    ग्रेटर नोएडा के हर गांव और सेक्टर में बनेगा स्टेडियम और खेल का मैदान, 100 करोड़ रुपये होंगे खर्च

    15 दिन में एक हजार शिक्षकों को दी ट्रेनिंग

    उत्‍तर प्रदेश राज्‍य भाषा समिति के सदस्‍य दानिश आजाद का कहना है कि मदरसा बोर्ड के सहयोग से शिक्षकों के लिए ऑनलाइन प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाया जा रहा है. पहले चरण में 15 दिन का ट्रेनिंग प्रोग्राम चलाया गया है. इसमें आईआईटी, आईआईएम और विभिन्‍न यूनिवस्रिटी के शिक्षकों ने एक हजार से अधिक मदरसा शिक्षकों को ऑनलाइन पढ़ाई कैस कराई जाए, इसकी ट्रेनिंग दी. दूसरे चरण मे शेष शिक्षकों को ट्रेनिंग देने का काम भी जल्द ही शुरु कर दिया जाएगा.

    चार साल में ऐसे बदली मदरसों की तस्‍वीर

    चार सालों में प्रदेश सरकार ने मदरसों की तस्‍वीर बदलने का काम किया है. मदरसा छात्रों को बेहतर शिक्षा दिलाने के लिए मदरसों में एनसीईआरटी के सिलेबस को लागू किया गया है. मदरसा छात्र दीनी तालीम के साथ आधुनिक शिक्षा हासिल कर समाज की मुख्‍य धारा से जुड़ सकें इसके लिए एनसीईआरटी की किताबें पढ़ाई जा रही हैं.

    चार सालों में मदरसा बोर्ड की परीक्षाओं को नियमित किया गया है. सरकार ने नई व्‍यवस्‍था के तहत  जमीन पर बैठ कर परीक्षा देने वाले छात्रों को कुर्सी-मेज की सुविधा उपलब्ध कराई है. मदरसों के आधुनिकीकरण के लिए इस वित्‍तीय बजट में रखा गया 479 करोड़ रुपए का प्रस्‍ता जो पिछली सरकारों से कई गुना अधिक है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज