लाइव टीवी

सीएम योगी का दिवाली तोहफा, अयोध्या के दीपोत्सव को राजकीय मेले का दर्जा

News18Hindi
Updated: October 22, 2019, 3:38 PM IST
सीएम योगी का दिवाली तोहफा, अयोध्या के दीपोत्सव को राजकीय मेले का दर्जा
सीएम योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में कैबिनेट की बैठक में कई अहम फैसले लिए गए. (फाइल फोटो)

सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) की सरकार ने अयोध्या में दीपोत्सव मनाने की खास योजना बनाई है. दिवाली (Diwali 2019) के मौके पर अयोध्या को 5 लाख से ज्यादा दीपों से रोशन करने का प्‍लान है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 22, 2019, 3:38 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. मंगलवार को सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में कई अहम फैसले लिए गए. बैठक के दौरान करीब 13 प्रस्तावों पर मुहर लगाई गई. इस दौरान सीएम योगी ने दिवाली (Diwali 2019) के मौके पर अयोध्या (Ayodhya) में होने वाले दीपोत्सव को राजकीय मेले (State Fair) का दर्जा दिया है, लेकिन इसके साथ ही उन्होंने मेले में शामिल झांकियों सहित हर कार्यक्रम का ऑडिट (Audit) कराने की बात भी कही है.

5 लाख से अधिक जलाए जाएंगे दीप

सीएम योगी आदित्यनाथ की सरकार ने इस बार अयोध्या में दीपावली का त्योहार खास ढंग से मनाने की योजना बना ली है. वैसे भी योगी सरकार के सत्ता में आने के बाद अयोध्या में दीपावली को विशिष्ट तरीके से मनाए जाने की परंपरा शुरू हो ही चुकी है. लेकिन, इस साल की दीपावली खास है. सरकार ने इस बार अयोध्या में रामायण की थीम पर दीपावली का त्योहार मनाने की योजना बनाई है. दीपोत्सव का आयोजन छोटी दिवाली यानी 26 अक्टूबर को होगा. त्योहार के मौके पर शहर को साढ़े 5 लाख से ज्यादा दीपों से सजाया जाएगा. पर्यटन विभाग इतनी बड़ी तादाद में दीये जलाकर एक बार फिर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड्स में नाम दर्ज कराने की तैयारी कर रहा है.

घर में सेप्टिक टैंक है तो हर महीने देना होगा चार्ज

कैबिनेट की बैठक में सफाई कर्मचारियों की सुरक्षा को देखते हुए भी कई गंभीर कदम उठाए गए. यूपी सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थनाथ सिंह और श्रीकांत शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि बैठक में उत्तर प्रदेश राज्य सेप्टिक नीति प्रबंधन का प्रस्ताव पास किया गया है. इसके तहत सफाईकर्मियों की सुरक्षा से संबंधित सभी कदम उठाए जाएंगे. उनकी ट्रेनिंग की व्यवस्था की जाएगी. उन्होंने कहा कि इस पर होने वाले खर्च को निकालने के लिए उपभोक्ता पर सरचार्ज लगाकर निकाला जाएगा, जिनके घरों में सेप्टिक टैंक बने हैं उन्हें पांच वर्ष में 2500 रुपये या हर साल 500 रुपये का शुल्क देना होगा.

ये भी पढ़ें.

सीएम योगी का सख्‍त रुख- सिपाही के हाथ में डंडे की जगह मोबाइल दिखे तो सस्पेंड कर दो
Loading...

CM Yogi की चेतावनी- सड़क किनारे मुर्गे-बकरे काटने वाली दुकानें खुली मिलीं तो DM-SP होंगे जिम्मेदार!

UP में बढ़ते जुर्म पर बोले सुब्रमण्यम स्वामी- वहां अवैध हथियार बहुत मिलते हैं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 22, 2019, 3:15 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...