अपना शहर चुनें

States

मदरसों में व्याप्त भ्रष्टाचार पर सख्त बलरामपुर के कमिश्नर, सख्त कार्रवाई के लिए शासन को लिखा पत्र

मदरसा. (Demo Pic)
मदरसा. (Demo Pic)

बलरामपुर (Balrampur) के कमिश्नर ने शासनादेश का उल्लंघन कर मदरसों की नियम विरुद्ध मान्यता देने वाले तत्कालीन अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी यादवेंद्र सिंह का निलंबन करने और जिले की अल्पसंख्यक कल्याण कार्यालय को दिए गए समस्त बजट आवंटन एवं व्यय की स्पेशल ऑडिट शासन के वरिष्ठ अधिकारी से कराए जाने की संस्तुति की है.

  • Share this:
बलरामपुर. उत्तर प्रदेश के बलरामपुर (Balrampur) के मदरसों (Madarsa) में व्याप्त भ्रष्टाचार (Corruption) को लेकर देवीपाटन मंडल के कमिश्नर ने कठोर कार्रवाई के लिए उत्तर प्रदेश शासन को पत्र लिखा है. कमिश्नर ने समस्त बजट आवंटन और व्यय की स्पेशल ऑडिट करने के साथ ही योजनाओं की जांच के लिए शासन को अपनी संस्तुति भेजी है.

83 मदरसों को अनाधिकृत स्तर से मान्यता

अपर मुख्य सचिव अल्पसंख्यक कल्याण एवं वक्फ को लिखे गए पत्र में कमिश्नर देवीपाटन मंडल एसवीएस रंगाराव ने अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के कार्यालय में गंभीर भ्रष्टाचार के साक्ष्यों का जिक्र किया है. उन्होंने लिखा है कि शासनादेशों का उल्लंघन करते हुए जिले के 83 मदरसों को बिना सक्षम प्राधिकार के अनाधिकृत स्तर से मान्यता दी गई. इसके अलावा मदरसा दारुल उलूम अतीकिया में शासन के अनुदान पत्रावली के अध्यापकों की सूची से भिन्न अध्यापकों को अनुदान के लिए रजिस्ट्रार द्वारा अनुमोदन दे दिया गया.



अल्पसंख्यक कल्याण विभाग पर उठाए गंभीर सवाल
कमिश्नर ने कहा है कि यह सभी भ्रष्टाचार अत्यंत गंभीर प्रकृति के और शासकीय धन का गबन और शासकीय राजस्व की क्षति से संबंधित हैं. कमिश्नर ने स्कीम अफसरों पर शिथिलता का आरोप लगाते हुए कहा है कि गंभीर प्रकृति के भ्रष्टाचार होने के बावजूद भी सक्षम प्राधिकारी द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई.

तत्कालीन अल्पसंख्यक अधिकारी यादवेंद्र सिंह को करें सस्पेंड

कमिश्नर ने शासनादेश का उल्लंघन कर मदरसों की नियम विरुद्ध मान्यता देने वाले तत्कालीन अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी यादवेंद्र सिंह का निलंबन करने और जिले की अल्पसंख्यक कल्याण कार्यालय को आज तक दिए गए समस्त बजट आवंटन एवं व्यय की स्पेशल ऑडिट शासन के वरिष्ठ अधिकारी से कराए जाने की संस्तुति की है.



एफआईआर के बावजूद एक्शन नहीं

कमिश्नर ने कहा कि तुलसीपुर के एक मदरसे में 65 लाख रुपए गबन के संबंध में FIR दर्ज होने के बावजूद भ्रष्टाचारियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की गई. मदरसों में व्याप्त भ्रष्टाचार को लेकर गोण्डा के बीजेपी सांसद कीर्तिवर्धन सिंह और तुलसीपुर के बीजेपी विधायक कैलाशनाथ शुक्ला ने भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा है.

डीएम कृष्णा करुणेश ने बताया कि मदरसा दारुल उलूम अतीकिया के संबंध में एसडीएम तुलसीपुर को जांच सौंपी गई है. डीएम ने कहा कि जांच रिपोर्ट मिलते ही दोषियों के खिलाफ कठोरतम कार्रवाई की जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज