COVID-19: पुलिस नहीं चाहती BJP नेता के जश्‍न में शामिल इस ‘खास’ के खिलाफ कार्रवाई, जानें क्‍यों
Bahraich News in Hindi

COVID-19: पुलिस नहीं चाहती BJP नेता के जश्‍न में शामिल इस ‘खास’ के खिलाफ कार्रवाई, जानें क्‍यों
कानपुर में 13 महिलाओं समेत 20 नए मरीज मिले कोरोना संक्रमित (प्रतीकात्मक फोटो)

पुलिस (Police) चाह कर भी इस खास का नाम अपनी एफआईआर (FIR) से बाहर भी नहीं रख सकती थी और न ही इसके खिलाफ कोई कार्रवाई (action) सकती थी.

  • Share this:
बहराइच. बीजेपी नेता के घर हुई सालगिरह पार्टी में एक ऐसा खास शख्‍स था, जिसका नाम पहले एफआईआर में दर्ज किया गया और फिर उसी एफआईआर (FIR) में उसके खिलाफ किसी तरह की कार्रवाई न करने की सिफारिश भी की गई. पुलिस (Police) की तरफ से एफआईआर में लिखा गया कि यह खास न केवल अबोध है, बल्कि उसे कोई ज्ञान नहीं है. लिहाजा इस ‘खास’ को छोड़कर सभी शेष व्‍यक्तियों के विरुद्ध अभियोग पंजीकृत करना सुनिश्चित किया जाए. जिसके बाद, पुलिस ने इस खास को छोड़कर बाकी सभी 24 लोगों के खिलाफ आईपीसी की धारा 188/269/270, महामारी अधिनियम की धारा 3 और डिजास्‍टर मैनेजमेंट एक्‍ट 2005 की धारा 205 के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है.

दरअसल, यह पूरा मामला बहराइच के गुलामअलीपुरा इलाके में एक बीजेपी नेता के घर में हुई पार्टी से जुड़ा हुआ है. यहां आपको बता दें कि गुलामअलीपुरा कोरोना संक्रमण के लिहाज से न केवल बेहद संवेदनशील इलाका है, बल्कि सरकार ने इस इलाके को हॉटस्‍पॉट की लिस्‍ट में शामिल कर रखा है. शादी की सालगिरह के उपलक्ष्‍य में आयोजित इस पार्टी में कुल 25 लोग शरीक हुए थे. इस पार्टी के बारे में पुलिस को तब पता चला, जब दरगाह शरीफ के प्रभारी निरीक्षक विनय कुमार सरोज लॉकडाउन का पालन कराने के लिए इलाके में गस्‍त पर थे. गली से गुजर रही टीम को घर के भीतर मच रहे शोर से किसी आयोजन का आभास हुआ. जिसके बाद पुलिस टीम घर में दाखिल हुई.

घर में थे पुलिस के चौंकने के लिए कई तथ्‍य
पुलिस की टीम के लिए घर में चौंकाने वाले कई तथ्‍य मौजूद थे. पहला तथ्‍य यही था कि हॉटस्‍पॉट वाले इलाके में 25 लोग एक साथ जश्‍न मना रहे थे. वहीं, पुलिस के कान तब खड़े हुए जब उन्‍हें पता चला कि पार्टी का आयोजन करने वाले परिवार के दो सदस्‍य दिल्‍ली से आए हैं और बहराइच आने के बाद उनकी किसी तरह की कोई चिकित्‍सीय जांच नहीं हुई है. फिर क्‍या था, पुलिस ने दिल्‍ली से आए इस परिवार के सदस्‍यों को लेकर बहराइच अस्‍पताल पहुंच गई. सैंपल की जांच में पता चला कि दिल्‍ली से आई इस परिवार की बहू कोरोना पॉजिटिव है. यह पता लगते ही पुलिस के काम खड़े हो गए. आनन-फानन में जिला प्रशासन को इस बाबत जानकारी दी गई और पार्टी में शामिल होने वाले हर शख्‍स को चिंहित किया गया.
 



पुलिस ने पार्टी में शामिल होने वाले सभी 25 लोगों पर एफआईआर दर्ज की है.
पुलिस ने पार्टी में शामिल होने वाले सभी 25 लोगों पर एफआईआर दर्ज की है.


 

पुलिस ने एफआईआर में शामिल किए 25 नाम
जिला प्रशासन, पुलिस और स्‍वास्‍थ्‍य विभाग की टीम ने तत्‍काल कोरोना पॉजिटिव महिला को एल-वन हॉस्पिटल में भर्ती करवाया और पार्टी में शरीक सभी लोगों को क्‍वारंटीन सेंटर भेज दिया गया. वहीं, पुलिस ने महामारी काल में इतनी बड़ी लापरवाही को लेकर सख्‍ती दिखाई. पुलिस ने इस पार्टी में शामिल हर शख्‍स का नाम अपनी एफआईआर में दर्ज कर लिया. इन सभी के खिलाफ आईपीसी की धारा 188/269/270, महामारी अधिनियम की धारा 3 और डिजास्‍टर मैनेजमेंट एक्‍ट 2005 की धारा 205 के तहत मामला दर्ज किया गया. जांच में पता चला कि पार्टी में शरीक होने वाले 25 में से 18 लोग एक ही परिवार के थे, जबकि बाकी लोग इस परिवार के जानकार थे. पुलिस ने इन सभी को अपनी एफआईआर का हिस्‍सा बनाया है.

जब पुलिस की नजर में आया यह ‘खास’
मामले की कार्रवाई के दौरान, पुलिस के सामने एक ‘खास’ आकर खड़ा हो गया. पुलिस चाह कर भी इस खास का नाम न ही अपनी एफआईआर से बाहर रख सकती थी और न ही इसके खिलाफ कोई कार्रवाई सकती थी. दरअसल, यह खास कोई और नहीं, बल्कि इस परिवार में शामिल दो साल का बच्‍चा था. कानूनन पुलिस को पार्टी में शामिल होने वाले लोगों के नाम में इस दो साल के बच्‍चे का नाम लिखना पड़ा. चूंकि यह बच्‍चा दो साल का था, लिहाजा इस पर कोई कार्रवाई नहीं बनती थी. आखिर में पुलिस ने अपनी एफआईआर में लिखा कि यह बच्‍चा न केवल अबोध है, बल्कि उसे कोई ज्ञान नहीं है. लिहाजा इसको छोड़कर सभी शेष सभी व्‍यक्तियों के विरुद्ध अभियोग पंजीकृत करना सुनिश्चित किया जाए.

(इनपुट: अखिलेश कुमार)

 

 

यह भी पढ़ें: 

कोरोना से मरने के बाद पति के फोन में लिखा मिला, 'मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूं'

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading