लाइव टीवी

COVID-19: मास्क के लिए खादी का कपड़ा देने से बाराबंकी गांधी आश्रम का इंकार, कीमत को लेकर फंसा पेंच
Barabanki News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: April 9, 2020, 10:53 PM IST
COVID-19: मास्क के लिए खादी का कपड़ा देने से बाराबंकी गांधी आश्रम का इंकार, कीमत को लेकर फंसा पेंच
आश्रम ने प्रति मीटर 102 की दर से सरकार को खादी का कपड़ा देने की बात कही है.

सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने 66 करोड़ ट्रिपल लेयर वाले विशेष खादी के मास्क (Special Khadi Masks) बनाने के आदेश भी दे दिए हैं. गरीब जनता को ये खादी के मास्क मुफ्त में बांटे जाने की सरकार की योजना है.

  • Share this:
बाराबंकी. कोरोना वायरस (Coronavirus) को हराने के लिए उत्‍तर प्रदेश सरकार (Uttar Pradesh Government) युद्ध स्तर पर तैयारी कर रही है. वहीं इस बीच योगी सरकार ने फैसला लिया है कि कोरोना वायरस से बचाव के लिए खादी के मास्क बनाए जाएंगे. सीएम योगी आदित्यनाथ ने 66 करोड़ ट्रिपल लेयर वाले विशेष खादी के मास्क (Special Khadi Masks) बनाने के आदेश भी दे दिए हैं. गरीब जनता को ये खादी के मास्क मुफ्त में बांटे जाने की सरकार की योजना है.

बार-बार इस्‍तेमाल हो सकेंगे ये खास मास्‍क
इन मास्क की खासियत यह होगी कि इसे एक बार उपयोग करने के बाद धोकर फिर से उपयोग में लाया जा सकेगा. हालांकि, सरकार ने खादी के मास्क बांटने का ऐलान तो कर दिया, लेकिन जिन्हें इस मास्क के लिए कपड़े देने की जिम्मेदारी मिली है, वह खादी का कपड़ा सरकार को देने को कतई तैयार नहीं.




पूरा मामला कपड़े की कीमत को लेकर फंसा हुआ है. बाराबंकी गांधी आश्रम के मंत्री रवि कांत पांडेय का कहना है कि मास्क के लिए सरकार जिस रेट पर कपड़ा हमसे चाह रही है, हम उतने में नहीं दे पाएंगे. क्योंकि, उसमें हमारी लागत भी नहीं निकल रही, जिससे उनका काफी नुकसान हो रहा है.



102 रुपए प्रति मीटर है आश्रम की मांग
बाराबंकी गांधी आश्रम के मंत्री रवि कांत पांडेय ने बताया कि हमें बाराबंकी और सुल्तानपुर के लिए आर्डर मिला है. हमें इन दो जिलों में मास्क बनाने के लिए कपड़ा देना है. सरकार ने इसके लिए 65 रुपए का रेट तय किया है और वह काफी कम है. उन्‍होंने बताया कि सरकार और हमारे बोर्ड के बीच रेट के लेकर बात चल रही है.

उन्‍होंने बताया कि हमने सरकार को 102 रुपए मीटर के रेट में कपड़ा देने का प्रस्‍ताव किया है. अगर सरकार 102 रुपए में कपड़ा लेने को तैयार हो जाती है, तो हम दे देंगे. हालांकि 102 रुपए के रेट में भी कपड़ा देने पर भी हमारा नुकसान है. फिर भी इस आपदा में गांधी आश्रम इतना नुकसान सहने के लिए तैयार है. लेकिन 65 रुपए कपड़ा देने में हमारा काफी नुकसान होगा, जो हम लोग सहने की हालत में नहीं हैं.

यह भी पढ़ें: 

कभी पॉजिटिव तो कभी निगेटिव आई आईपीएस अधिकारी COVID-19 रिपोर्ट, 5 दिन तक रहेंगे क्‍वारेंटाइन
Lockdowm: दो रोटी की चाह में दिनभर हाईवे पर कोरोना दानवीरों का इंतजार करते हैं ये मासूम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बाराबंकी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 9, 2020, 10:50 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading