COVID-19: भदोही की बेटियों ने छेड़ी कोरोना से जंग, घर-घर बनाए गए मास्‍क, गांव भी हुआ सेनेटाइज

भिदिउरा गांव की इस बेटी ने 500 मास्‍क तैयार किए हैं.
भिदिउरा गांव की इस बेटी ने 500 मास्‍क तैयार किए हैं.

इस गांव की बेटियों अब तक करीब 500 मास्क (Mask) तैयार कर चुकी हैं, जिन्‍हें ग्रामीणों में नि:शुल्क (Free) बांटा गया है. गांव को खुद ग्रामीण सैनेटाइज (sanitization) कर रहे है.

  • Share this:
भदोही. कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण को रोकने के लिए पूरे देश में लॉक डाउन (Lock Down) चल रहा है. ऐसे में भदोही जिले के भिदिउरा (Bhidiura) गांव में ग्रामीणों ने एक दूसरी की मदद से कोरोना को भगाने के लिए एक अच्छी पहल शुरू की है. इस गांव की बेटियों ने अबतक करीब 500 मास्क (Mask) तैयार किए हैं, जिन्‍हें ग्रामीणों में नि:शुल्क बांटा गया है. गांव को ग्रामीण खुद सैनेटाइज (Sanitize) कर रहे है. जिन ग्रामीणों के पास हाथ साफ करने का साबुन नहीं है, उन्हें नि:शुल्क साबुन भी उपलब्‍ध कराया जा रहा है.

गांव की बेटियों ने बनाए 500 मास्क
कोरोना वायरस की जंग में ग्रामीण इलाकों की बेटियां भी किसी से पीछे नहीं है. भिदिउरा गांव की रहने गुड़िया जो की पढ़ाई के साथ सिलाई का काम भी करती है. गुड़िया ने ग्रामीणों के लिए अभी तक 500 से ज्यादा मास्क तैयार किए हैं. ये मास्‍क उन लोगों को उपलब्‍ध कराए गए हैं, जिनके पास अभी तक मास्‍क नहीं पहुंच पाए थे. आम दिनों में गुड़िया सिलाई के एवज में लोगो से रूपये लेती थी, लेकिन कोरोना की जंग में उसने अपने गांव वासियो के लिए नि:शुल्क मास्क की सिलाई की है. गुड़िया ने बताया की ऐसी मुश्किल घड़ी में सभी को एक दूसरी की मदद करनी चाहिए. उसने कहा कि जिसको जो काम काम आता है, उसके जरिये सभी लोग एक दूसरी की मदद कर सकते हैं.

भिदिउरा गांव में ग्रामीणों को नि:शुल्‍क मास्‍क उपलब्‍ध कराए जा रहे हैं. Free masks are being provided to villagers in Bhidiura village.
भिदिउरा गांव में ग्रामीणों को नि:शुल्‍क मास्‍क उपलब्‍ध कराए जा रहे हैं.

ग्रामीणों ने गांव को किया सैनेटाइज


भिदिउरा गांव में बेटियों की मदद से अकेले मास्क ही वितरित नहीं हुए है, बल्कि इस गांव के ग्रामीण कोरोना की रोकधाम में एक बड़ी मिशाल पेश कर रहे है. पूरे गांव को सेनेटाइज कराया जा रहा है. सेनेटाइजेशन का यह काम भी किसी सरकारी मदद से नहीं हो रहा है, बल्कि ग्रामीण अपने पैसों से ऐसा कर रहे है. इस गांव के रहने वाले रत्नाकर पाठक ने ग्रामीणों के साथ बैठक कर उन्हें एक दूसरे की मदद के लिए तैयार किया था. जिसके बाद, सभी ग्रामीणों ने अपने गांव से कोरोना को भगाने की ठानी और आपस में एक दूसरे की मदद करने का प्रण लिया. जिसमें गांव की बेटियों ने मास्क बनाये  और कुछ युवक गांव को सैनेटाइज करने की जिम्‍मेदारी उठाई.

गरीब ग्रामीणों को बांटा गया जरूरी सामान
गांव के सेनेटाइजेशन के दौरान पाया गया कि कुछ लोग ऐसे भी हैं, जिनके पास पास हाथ साफ करने के लिए साबुन नहीं है. उन्हें अब निशुल्क साबुन का वितरण कराया जा रहा है. ग्रामीण रत्नाकर पाठक ने बताया कि एक दूसरी की मदद से ही हम इस बड़ी जंग को जीत सकेंगे. भदोही जिले के भिदिउरा गांव के लोग कोरोना से जंग जीतने के लिए मिशाल पेश कर रहे है. अब जरुरत है की अन्य गांवों और शहरी इलाको के लोग भी सामने आये और कोरोना की रोकधाम में अपनी अहम भूमिका को निभाए. कोरोना को भगाने के लिए सभी को मिलकर प्रयास करने होंगे, तभी हम इस बड़ी जंग को जीत सकेंगे.

यह भी पढ़ें:

COVID-19: यूपी में आज 3 नए केस आए सामने, अब तक 47 लोग पॉजिटिव, नोएडा में सबसे ज्यादा 17 केस
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज