ट्रू कॉलर की मदद से लोगों को अब ऐसे चूना लगा रहे साइबर ठग

News18Hindi
Updated: August 22, 2019, 11:29 AM IST
ट्रू कॉलर की मदद से लोगों को अब ऐसे चूना लगा रहे साइबर ठग
साइबर ठग ने ट्रू कॉलर की मदद से एक शख्‍स के बैंक खाते से हजारों रुपए निकाल लिए. (प्रतीकात्मक फोटो)

ट्रू कॉलर (Truecaller ) की मदद से साइबर ठगी का मामला सामने आया है. ठगों ने नोएडा निवासी पीड़ि‍त के खाते से हजारों रुपए निकाल लिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 22, 2019, 11:29 AM IST
  • Share this:
लोगों को चूना लगाने के लिए साइबर ठगों (Cyber Criminals) ने अब एक नया तरीका निकाला है. ट्रू कॉलर (Truecaller) की मदद से साइबर ठग बैंक अकाउंट (Bank Account) से पैसा निकाल रहे हैं. ऐसा ही एक मामला नोएडा (Noida) में सामने आया है. पीड़ित को ठगे जाने का पता एक दिन बाद चला. ठग ने उस शख्‍स के खाते से हजारों रुपए उड़ा लिए.

ट्रू कॉलर से ऐसे की ठगी

पीड़ित युवक प्रकाश नारायण ने कोतवाली सेक्टर-24 में मुकदमा दर्ज कराते हुए कहा है कि एक दिन उसके मोबाइल पर एक कॉल आई. ट्रू कॉलर पर नम्बर के साथ एसबीआई बैंक मैनेजर लिखा आ रहा था. जब उस नम्बर पर बात की तो दूसरी ओर से कॉल करने वाले ने अपना नाम रोहित भारद्वाज बताया. साथ ही कहा कि वह स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) में बैंक मैनेजर है.

उसने कहा कि आपका एटीएम कार्ड बंद है. उसे चालू करा लिजिए. कार्ड चालू करने के लिए कथित मैनेजर ने पीड़ित से किसी दूसरे बैंक खाते का नम्बर, एटीएम कार्ड नम्बर, पिन और सीवी नम्बर मांगा. जो पीड़ित ने एक-एक कर दे दिया. थोड़ी देर बात पीड़ित उस नम्बर पर कॉल करके पूछा तो बताया गया कि आपका एसबीआई का एटीएम कार्ड अब एक्टिवेट हो गया है. इसके थोड़ी देर बाद ही प्रकाश नारायण के खाते से तीन बार में 10-10 हजार कर के 30 हजार रुपये निकाल लिए गए.

प्रकाश ने फिर फोन किया तो बताया कि यह गारंटी मनी है और अगले 12 से 14 घंटे में वापस आ जाएगी. लेकिन, जब दो दिन बीतने पर भी रुपये वापस नहीं आए तो प्रकाश को समझते देर नहीं लगी कि उसके साथ ठगी हो चुकी है.

प्रतीकात्मक फोटो- ठगे जाने के बाद पीड़ित ने नोएडा में एफआईआर दर्ज कराई है.


ट्रू कॉलर पर ऐसे आता है नाम
Loading...

ट्रू कॉलर पर नम्बर के साथ नाम आने के बारे में आईटी एक्सपर्ट यश कुशवाहा बताते हैं कि ट्रू कॉलर कॉल के साथ आपके उस नाम को दिखाता है जो किसी दूसरे के मोबाइल में आपके नम्बर के साथ सेव है. ट्रू कॉलर सबसे पहले उस नाम को दिखाएगा जो सबसे ज्यादा फीड किया गया होगा. अब नोएडा के पीड़ित को कॉल आने के साथ ही एसबीआई बैंक मैनेजर इसलिए दिखाई दिया, क्योंकि ठग ने उस नम्बर को अपने दूसरे साथियों के मोबाइल में एसबीआई बैंक मैनेजर के नाम से सेव करा दिया होगा.

ये भी पढ़ें- इस यूनिवर्सिटी में छात्र दीवारों पर लिखते हैं मन की बात, बोले यह हमारा पुराना चलन

आकिल खान और युवती के वीडियो पर भड़के हरियाणा के हिन्दूवादी संगठन

बाढ़-भूकंप में राज्यों से आर्मी और एयरफोर्स का बिल वसूलता है यह मंत्रालय

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नोएडा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 22, 2019, 10:04 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...