Home /News /uttar-pradesh /

तेज हो गई नोएडा में BSP सुप्रीमो के बनाए दलित प्रेरणा स्थल की जांच, जानिए वजह

तेज हो गई नोएडा में BSP सुप्रीमो के बनाए दलित प्रेरणा स्थल की जांच, जानिए वजह

बहुजन समाज पार्टी के शासनकाल में बना दलित प्रेरणा स्थल फिर से सुर्खियों में आ गया है.

बहुजन समाज पार्टी के शासनकाल में बना दलित प्रेरणा स्थल फिर से सुर्खियों में आ गया है.

बसपा (BSP) सुप्रीमो मायावती (Mayawati) की सरकार में जब दलित प्रेरणा स्थल (Dalit Prerana Sthal) बनने के बाद जांच शुरू हुई तो सैकड़ों करोड़ रुपये की खरीद के दस्तावेज गायब थे. किसके आदेश पर एमओयू (MoU) में तय रकम से ज्यादा खर्च की गई यह आदेश भी गायब था. इतना ही नहीं तय रकम 84 करोड़ रुपये से ज्यादा का भुगतान किस आदेश के तहत हुआ यह दस्तावेज भी अभी तक की जांच में नोएडा अथॉरिटी (Noida Authority) से गायब चल रहा है.

अधिक पढ़ें ...

    नोएडा. बहुजन समाज पार्टी (BSP) के शासनकाल में बना दलित प्रेरणा स्थल (Dalit Prerana Sthal) फिर से सुर्खियों में आ गया है. नोएडा में बने इस प्रेरणा स्थल की जांच एक बार फिर से तेज हो गई है. प्रेरणा स्थल से जुड़ी जरूरी 23 फाइलें लखनऊ मंगा ली गई हैं. जांच टीम ने 2009 से 2012 तक नोएडा अथॉरिटी (Noida Authority) में रहे सीईओ, एसीईओ और अन्य इंजीनियरों के नाम और पदनाम समेत पूरी जानकारी मांगी है. गौरतलब रहे लोकायुक्त की जांच रिपोर्ट में 14 सौ करोड़ रुपये के घोटाले की बात सामने आई थी. इसमे लखनऊ (Lucknow) में बना प्रेरणा स्थल भी शामिल है.

    इसलिए शुरू हुई थी नोएडा-लखनऊ के प्रेरणा स्थल की जांच  

    जानकारों की मानें तो सेक्टर-95 में दलित प्रेरणा स्थल को बनाने के लिए 84 करोड़ रुपये का एमओयू साइन किया गया था. लेकिन जब प्रेरणा स्थल बनना शुरू हुआ तो इसमें पानी की तरह पैसा बहाया गया. पत्थरों की खरीद से लेकर ढुलाई वगैरह में करोड़ों रुपये खर्च कर दिए गए. इस तरह जब प्रेरणा स्थल निर्माण का ऑडिट हुआ तो निर्माण की लागत एक हजार करोड़ रुपये सामने आई.

    लेकिन बसपा की सरकार जाने के बाद यूपी पीडब्ल्यूडी द्वारा बनाए गए प्रेरणा स्थल का ऑडिट कराया गया. उस वक्त था सूबे में सपा सरकार आ चुकी थी. नोएडा के साथ ही लखनऊ में भी उस समय स्मारकों का निर्माण किया गया था. आरोप है कि दोनों ही जगह करीब 1400 करोड़ रुपये का घोटाला हुआ था.

    यूपी के इस शहर में एक महीने में काटे 82 हजार चालान, जानिए सबसे ज्यादा किसके कटे

    मायावती की प्रेस कांफ्रेंस के बाद लखनऊ मंगाई गईं फाइलें!

    दलित प्रेरणा स्थल की जांच तेज होने के साथ ही कई तरह की चर्चाए भी होने लगी हैं. नोएडा से लेकर लखनऊ तक हो रहीं इन चर्चाओं में बसपा सुप्रीमो मायावती की दो दिन पहले हुई एक प्रेस कांफ्रेंस है. यह प्रेस कांफ्रेंस 2022 के यूपी विधानसभा चुनावों को लेकर थी. इसमे मायावती ने खासतौर पर सपा और भाजपा पर हमला बोला था.

    चर्चाओं में तो यहां तक कहा जा रहा है कि इसी प्रेस कांफ्रेंस के बाद नोएडा के प्रेरणा स्थल से जुड़ी जरूरी 23 फाइलें लखनऊ मंगाई गई हैं. साथ ही 2009 से 2012 तक नोएडा अथॉरिटी में रहे बसपा सरकार के खास अधिकारियों के बारे में भी जानकारी मांगी गई है. इसमे से दो सीईओ और दो एसीईओ वो अफसर हैं जिनका नाम सुपरटेक के ट्वीन टावर केस में भी सामने आया है.

    Tags: BSP, Lucknow city, Mayawati, Noida Authority

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर