देवरिया जिले में भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ सकता है निर्माणाधीन आंगनबाड़ी भवन

विभाग के अधिकारी सिर्फ मोबाइल पर एक-दूसरे को कार्रवाई करने का निर्देश दे रहे हैं. यह भवन क्षेत्र पंचायत की निधि से सात लाख रुपए की लागत में बन रहा है. इस भवन की दीवार छत तक पहुंच गई है जिसमें सबसे घटिया गुणवत्ता की ईंट लगी है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 2, 2018, 12:16 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 2, 2018, 12:16 PM IST
नोएडा में कई अवैध भवनों के गिरने से हुई मौतों के कारण शासन-प्रशासन ने स्थानीय स्तर पर सख्ती करनी शुरू कर दी है. लेकिन यूपी के देवरिया जिले में तो निर्माणाधीन आंगनबाड़ी भवन भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ सकता है. वीडियो में दिख रहा यह अर्ध निर्मित आंगनबाड़ी भवन सलेमपुर ब्लॉक के नवलपुर गांव में बनाया जा रहा है. इस भवन के निर्माण-सामग्री की गुणवत्ता घटिया स्तर की है. यह भवन बनने से पहले ही टेढ़ा हो गया, जिसकी पुष्टि खुद गांव के प्रधान भी कर रहे हैं.

ऐसी स्थिति होने के बाद भी विभाग के अधिकारी सिर्फ मोबाइल पर एक-दूसरे को कार्रवाई करने का निर्देश दे रहे हैं. यह भवन क्षेत्र पंचायत की निधि से सात लाख रुपए की लागत में बन रहा है. इस भवन की दीवार छत तक पहुंच गई है जिसमें सबसे घटिया गुणवत्ता की ईंट लगी है. यहां तक कि भवन की दीवार के लिए न तो नींव खोदी गई है और न ही पिलर दिया गया है.

इससे सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह भवन बनने के बाद कितने दिनों तक जमीन पर टिका रहेगा. इस भवन के निर्माण की निगरानी डीसी मनरेगा गजेन्द्र कुमार तिवारी कर रहे हैं. उन्हें भी इस भवन के निर्माण में खराब गुणवत्ता की सामग्री के प्रयोग की शिकायत मिली है लेकिन फिर भी वे सिर्फ मोबाइल पर ही अपने मातहत कर्मियों को मौखिक निर्देश दे रहे हैं.

ये भी पढे़ं - 

अखिलेश यादव के बंगले में तोड़फोड़ से 10 लाख का नुकसान, होगी रिकवरी

SP ट्रैफिक आगरा सुनीता सिंह का इस्तीफा, पुलिस अधिकारियों में हड़कंप

पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन होने के लिए भगवा रंग में सज रहा मुगलसराय स्टेशन
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर